ओडिशा में दो मंत्रियों के इस्तीफे के बाद सीएम नवीन पटनायक मंत्रिमंडल में तीन पद खाली

बीजद पार्टी के एक वरिष्ठ नेता ने कहा कि सीएम नवीन पटनायक जल्द तीन रिक्त पदों को भर सकते हैं. उन्होंने कहा कि रिक्त पदों को भरने के लिए मुख्यमंत्री अपने मंत्रिमंडल में छोटा फेरबदल भी कर सकते हैं.

ओडिशा में दो मंत्रियों के इस्तीफे के बाद सीएम नवीन पटनायक मंत्रिमंडल में तीन पद खाली

विधायकों ने आम चुनाव से पहले मंत्री बनने के लिए जुगत लगानी शुरू कर दी हैं.

ओडिशा में दो मंत्रियों के इस्तीफे के बाद मुख्यमंत्री नवीन पटनायक के मंत्रिमंडल में तीन पद रिक्त होने के बाद सत्तारूढ़ बीजू जनता दल (बीजद) के विधायकों ने अगले साल होने वाले आम चुनाव से पहले मंत्री बनने के लिए जुगत लगानी शुरू कर दी हैं. ओडिशा मंत्रिपरिषद में मुख्यमंत्री सहित 22 मंत्री हो सकते हैं, लेकिन अब 19 मंत्री हैं. इस साल जनवरी में स्वास्थ्य मंत्री नब किशोर दास की हत्या के बाद एक पद पहले से खाली था और राज्य के दो मंत्रियों - समीर दास (स्कूल और जन शिक्षा) और श्रीकांत साहू (श्रम) ने शुक्रवार को अपने पदों से इस्तीफा दे दिया.

पार्टी के एक वरिष्ठ नेता ने कहा कि पटनायक जल्द तीन रिक्त पदों को भर सकते हैं. उन्होंने कहा कि रिक्त पदों को भरने के लिए मुख्यमंत्री अपने मंत्रिमंडल में छोटा फेरबदल भी कर सकते हैं. मंत्रियों के एक तबके को इस बात की भी आशंका है कि मुख्यमंत्री उनसे इस्तीफा देने के लिए कह सकते हैं. पार्टी नेता ने कहा, ‘‘मुख्यमंत्री के आवास नवीन निवास से संभावित फोन आने के डर से कई मंत्रियों ने अपने मोबाइल फोन बंद कर दिए हैं.''

इसके अलावा, आगामी चुनाव में अपने पुत्रों के लिए अपनी सीट खाली करने के इच्छुक कुछ वरिष्ठ और अनुभवी नेता भी ओडिशा विधानसभा के अध्यक्ष बनने के इच्छुक हैं. विधानसभा के अध्यक्ष बी. के. अरुखा ने शुक्रवार को पद से इस्तीफा दे दिया था. विधानसभा अध्यक्ष के पद के लिए संभावित उम्मीदवार प्रफुल्ल सामल, देवी प्रसाद मिश्रा, अमर प्रसाद सत्पथी और बद्री नारायण पात्र हैं. इसी तरह मंत्री पद के लिए भी कुछ नामों की चर्चा है.

नेताओं के एक वर्ग का मानना ​​है कि पटनायक छह बार के विधायक बी. के. अरुखा को मंत्रिमंडल में शामिल कर सकते हैं. उनके अलावा अन्य संभावित उम्मीदवार पश्चिमी क्षेत्र से सुशांत सिंह एवं शारदा नायक और पुरी जिले से उमाकांत सामंत्रे हैं. पार्टी के कुछ नेताओं ने शनिवार को झारसुगुडा उपचुनाव जीतने वाली दीपाली दास के मंत्री बनने की संभावना से भी इनकार नहीं किया क्योंकि उनके दिवंगत पिता नब किशोर दास स्वास्थ्य मंत्री थे.

इस बीच, मुख्यमंत्री नवीन पटनायक ने राजस्व और आपदा प्रबंधन मंत्री प्रमिला मलिक को स्कूल एवं जन शिक्षा विभाग और श्रम विभाग का प्रभार दिया है. आधिकारिक सूत्रों ने कहा कि उन्हें दो विभागों का अतिरिक्त प्रभार दिया गया है. हालांकि, कोई भी बीजद नेता नवीन पटनायक मंत्रालय में संभावित फेरबदल की तारीख के बारे में नहीं बता सका क्योंकि ओडिशा के राज्यपाल गणेशी लाल अपने गृह राज्य हरियाणा के दौरे पर हैं और 22 मई को भुवनेश्वर लौटने वाले हैं.

ये भी पढ़ें : जम्मू कश्मीर : अनंतनाग में सुरक्षा बलों और आतंकवादियों के बीच मुठभेड़ जारी

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

ये भी पढ़ें : गुजरात : बोटाद शहर में झील में डूबने से पांच किशोरों की मौत



(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)