यूपी : गन्ने के बकाया भुगतान को लेकर किसान आंदोलन के तेजी पकड़ने से भाजपा नेताओं की उड़ी नींद

बकाया गन्ना भुगतान को लेकर गन्ना किसानों ने शनिवार को लखीमपुर खीरी (Lakhimpur Kheri) में बैलगाड़ी मार्च निकाला. खीरी के किसान कई दिन से  बकाए के 700 करोड़ रुपए के लिए चीनी मिलों का घेराव कर रहे हैं.

यूपी : गन्ने के बकाया भुगतान को लेकर किसान आंदोलन के तेजी पकड़ने से भाजपा नेताओं की उड़ी नींद

सरकार का दावा है कि इस साल करीब 30 हजार करोड़ गन्ना खरीद हुआ, जिसका 90 फीसदी भुगतान हो चुका है

लखीमपुर खीरी:

यूपी में गन्ने के बकाया भुगतान को लेकर अब किसान सगठनों का आंदोलन तेजी पकड़ता जा रहा है. बकाया गन्ना भुगतान को लेकर गन्ना किसानों ने शनिवार को लखीमपुर खीरी (Lakhimpur Kheri) में बैलगाड़ी मार्च निकाला. खीरी के किसान कई दिन से  बकाए के 700 करोड़ रुपए के लिए चीनी मिलों का घेराव कर रहे हैं. बीते दिनों भाजपा के विधायक का इस मसले पर ''भावुक'' होने का एक वीडियो भी वायरल हुआ था, हालांकि, किसान इसे उनका नाटक ही बता रहे हैं.  बैलगाड़ी मार्च के दौरान मौजूद किसानों ने अपनी परेशानी जाहिर करते हुए कहा कि ''बैलगाड़ी हमारी पहचान है. जिस बैलगाड़ी को खेतों में होना चाहिए, उससे हम मार्च निकाल रहे हैं. हम चाहते हैं कि हमें हमारी बकाया राशी जल्द से जल्द अदा की जाए ताकि हम खेतों में काम करें."

यूपी में बीजेपी के विधायक ही मान रहे हैं गन्ना किसानों को नहीं मिला भुगतान

पहले भी किसान कई महीने से गन्ना सोसायटी और मिल के बाहर धरने पर बैठते रहे हैं. किसान अपने ही पैसे पाने के लिए लंबी जद्दोजहद कर रहे हैं. असल में लखीमपुर खीरी की 5 चीनी मिलों पर किसानों की 700 करोड़ रूपये से ज्यादा का राशी बकाया  है. किसानों ने पूर्ण भुगतान न होने तक किसी भी दशा में मिल न चलने देने और गन्ना आपूर्ति बहाल न करने की चेतावनी दोहराई है. चीनी मिल का बकाए गन्ना भुगतान को लेकर हाल में भाजपा के एक विधायक एक कार्यक्रम में ''भावुक'' हो गए. यह अलग बात है कि बैलगाड़ी मार्च निकाल रहे किसानों ने इसे विधायक का स्टंट करार दिया है. मार्च में आये एक किसान ने विधायक पर आरोप लगाते हुए कहा - ''अब चुनाव हारने का डर है, तो ये सब रोना गाना कर रहे हैं''.

लखीमपुर खीरी केस : SC ने SIT को जांच जल्‍द पूरी करने का दिया आदेश, जस्टिस आरके जैन रखेंगे जांच पर निगरानी

उधर सरकार का दावा है कि इस साल करीब 30 हजार करोड़ रूपये के गन्ने की खरीदी हुई है जिसकी 90 फीसदी कीमत का भुगतान किसानों को किया जा चुका है. लेकिन लखीमपुर खीरी और शामली जिले की कई चीनी मिलों पर किसानों का अब भी करोड़ों रुपये बकाया बाकी है. लखीमपुर खीरी में गन्ना किसानों की नाराजगी से सत्ताधारी भाजपा के नेता चिंतित हैं. कारण अगले साल के विधानसभा चुनाव हैं क्योंकि लखीमपुर खीरी की आठ विधानसभा सीटों पर भाजपा का कब्ज़ा है. वहां पहले ही केंद्रीय मंत्री अजय मिश्रा टेनी के बेटे से जुड़े विवाद से किसान नाराज हैं और भाजपा नेताओं को डर सत्ता रहा है कि अब गन्ना किसानों के प्रदर्शन और नाराजगी से उसे सियासी नुकसान उठाना पड़ सकता है.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


यूपी : बकाया के लिए परेशान गन्ना किसान, सरकार से अपील कर रहे हैं BJP के ही विधायक