"दो थप्पड़ मारूंगा": केंद्रीय मंत्री ने ऑक्सीजन की मांग कर रहे शख्स को दिया ये जवाब

मंत्री के कार्यालय ने एक बयान जारी कर कहा, केंद्रीय मंत्री ने डॉक्टरों और नर्सों के खिलाफ अभद्र भाषा का इस्तेमाल कर रहे शख्स को रोकने का प्रयास किया था.

भोपाल:

देश कोरोनावायरस के रिकॉर्ड मरीजों के बीच ऑक्सीजन का संकट (Oxygen) तो झेल ही रहा है, इस बीच सरकार के मंत्रियों के संवेदनहीन बयान भी लोगों का दर्द और बढ़ा रहे हैं. ऐसा ही कुछ कर्नाटक में देखने को मिला जब केंद्रीय मंत्री प्रह्लाद पटेल (Union Minister Prahlad Patel) ने ऑक्सीजन को लेकर सवाल कर रहे एक युवक तो दो थप्पड़ मारने की बात कह डाली.  गौरतलब है कि एमपी, महाराष्ट्र ही नहीं यूपी और दिल्ली में भी कोरोना के मरीज ऑक्सीजन का भारी संकट झेल रहे हैं. मरीज के तीमारदार ऑक्सीजन प्लांट के बाहर 24-48 घंटे से लाइन लगाकर खड़े हैं, ताकि उन्हें अपनों को बचाने के लिए ऑक्सीजन मिल जाए. 

केंद्रीय मंत्री प्रह्लाद पटेल ने कोरोना संक्रमित मरीज के एक तीमारदार द्वारा ऑक्सीजन की कमी को लेकर की जा रही शिकायत पर कैमरे के सामने ये सब कहा. मंत्री के कार्यालय ने एक बयान जारी कर कहा, केंद्रीय मंत्री ने डॉक्टरों और नर्सों के खिलाफ अभद्र भाषा का इस्तेमाल कर रहे शख्स को रोकने का प्रयास किया था. ऑनलाइन वायरल हुए वीडियो में युवक कह रहा था, ये सब हमें बेवकूफ बना रहे हैं. 36 घंटे हो गए हैं, हम बेचेन हैं. ये कह रहे हैं कि सिलेंडर देंगे, लेकिन ऐसा नहीं हुआ. ये साफ-साफ क्यों नहीं कह देते कि ऑक्सीजन नहीं है

शिकायत पर नाराज मंत्री ने कहा, ऐसे बोलेगा तो अभी दो खाएगा. इस पर युवक ने कहा, हम खाएंगे सर, मेरी मां यहां पड़ी है. इस पर संभले मंत्री ने पूछा, क्या तुम्हें किसी ने ऑक्सीजन सिलेंडर देने से मना किया. इस पर वह शख्स बोला, हां इनकार किया गया है. सिर्फ 5 मिनट के लिए ऑक्सीजन दी गई है. अगर ऑक्सीजन का इंतजाम नहीं हो पा रहा है तो अस्पताल मना कर दे. .


ऑक्‍सीजन की सप्‍लाई और उसकी उपलब्‍धता को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुरुवार को उच्‍चस्‍तरीय बैठक की. बैठक में ऑक्‍सीजन सप्‍लाई की उपलब्‍धता बढ़ाने के तरीकों और साधने पर चर्चा की गई. इस मौके पर अधिकारियों ने पीएम को पिछले कुछ सप्‍ताहों में ऑक्‍सीजन की सप्‍लाई में सुधार के लिए किए गए प्रयासों की जानकारी दी. पीएम ने इस दौरान ऑक्‍सीजन का उत्‍पादन बढ़ाने, ऑक्‍सीजन आपूर्ति की गति में तेजी लाने और इनावेटिक तरीकों से हेल्‍थ फेसिलिटी को ऑक्‍सीजन सपोर्ट मुहैया कराने जैसे पहलुओं पर तत्‍परता से काम करने की जरूरत बताई.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com