'पसंद नहीं तो मत देखिए' : SC ने कोरोना पर कांग्रेस टूलकिट केस पर सुनवाई से किया इनकार

सुप्रीम कोर्ट ने याचिका पर नाराजगी जताते हुए कहा कि इस तरह की तुच्छ याचिकाओं पर सुनवाई नहीं की जा सकती.

'पसंद नहीं तो मत देखिए' : SC ने कोरोना पर कांग्रेस टूलकिट केस पर सुनवाई से किया इनकार

प्रतीकात्मक तस्वीर.

नई दिल्ली:

कोरोना पर कांग्रेस टूलकिट के खिलाफ जांच की याचिका पर सुप्रीम कोर्ट ने सुनवाई से इनकार कर दिया. सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि अगर याचिकाकर्ता को टूलकिट पसंद नहीं है तो मत देखिए, इसे नजरअंदाज कर दीजिए. ये एक राजनीतिक पार्टी का राजनीतिक प्रोपेगेंडा है,  हम जनहित याचिका पर सुनवाई नहीं कर सकते.

सुप्रीम कोर्ट ने याचिका पर नाराजगी जताते हुए कहा कि इस तरह की तुच्छ याचिकाओं पर सुनवाई नहीं की जा सकती. याचिकाकर्ता हाईकोर्ट जा सकते हैं. याचिकाकर्ता ने याचिका वापस ले ली है. कोरोना महामारी पर कांग्रेस की टूलकिट की राष्ट्रीय जांच एजेंसी ( NIA) से जांच की मांग वाली याचिका में कहा गया था कि आरोप सही पाए जाने पर कांग्रेस पार्टी का पंजीकरण निलंबित किया जाए.

IT एक्ट की धारा 66A रद्द होने पर भी मुकदमे दर्ज होना 'शॉकिंग', परेशान करने वाला : सुप्रीम कोर्ट

वकील शशांक शेखर झा ने इस याचिका में कांग्रेस पार्टी, केंद्र सरकार और केंद्रीय चुनाव आयोग को पक्षकार बनाया था. इसमें कथित टूलकिट मामले में केंद्र सरकार को प्रारंभिक मामला दर्ज करने के निर्देश देने की मांग भी की गई थी. झा का कहना है कि अपराध उजागर करने के लिए मामले की जांच आइपीसी की धारा 120-बी (आपराधिक साजिश) व अन्य विभिन्न धाराओं और गैरकानूनी गतिविधियां रोकथाम अधिनियम (यूएपीए) की धारा-13 के तहत की जानी चाहिए.


'बाबा को राहत न दी जाय', स्वामी रामदेव के खिलाफ दिल्ली मेडिकल एसोसिएशन भी पहुंचा सुप्रीम कोर्ट 

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


याचिका में चुनाव आयोग को कांग्रेस का पंजीकरण निलंबित करने के निर्देश देने की मांग भी की गई है, अगर उस पर राष्ट्रविरोधी कार्यो और सामान्य लोगों के जीवन से खेलने के आरोप सही पाए जाएं. साथ ही केंद्र सरकार को यह निर्देश देने की मांग की गई है कि वह देश विरोधी रुख दर्शाने वाले सभी तरह के होर्डिंग्स पर रोक के लिए प्रत्येक राजनीतिक दल, समूह और व्यक्ति को आवश्यक दिशानिर्देश जारी करे. याचिका में अंतिम संस्कार व शवों की तस्वीरों के इस्तेमाल और कोरोना म्यूटेंट का नाम भारत और उसके प्रधानमंत्री के नाम पर रखने के खिलाफ आवश्यक निर्देश देने की मांग भी की है.