"भारत सरकार के मंत्रियों के साथ मानवाधिकार के मुद्दों पर बात की": अमेरिकी रक्षा मंत्री

ऑस्टिन ने यह भी कहा कि भारत ने अभी तक रूस की एस-400 मिसाइल सिस्टम अभी तक नहीं खरीदी है. लिहाजा अमेरिका के संभावित प्रतिबंध के मुद्दे पर कोई बात नहीं की गई. 

US Secretary of Defense General Lloyd Austin भारत दौरे पर हैं

भारत दौरे पर आए अमेरिकी रक्षा मंत्री लॉयड ऑस्टिन (US Defense Secretary Lloyd Austin) ने कहा है कि उन्होंने भारत सरकार के मंत्रियों के साथ मानवाधिकार (Human Rights Issue) के मुद्दे पर बात की है.ऑस्टिन ने कहा कि साझेदारों के बीच इस तरह का संवाद महत्वपूर्ण है. जब अमेरिकी रक्षा मंत्री से पूछा गया कि क्या उन्होंने मानवाधिकार के उल्लंघन खासकर पूर्वोत्तर में मुस्लिमों के साथ कथित भेदभाव पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ बात की थी तो उन्होंने कहा, मुझे इस बारे में उनसे बात करने का मौका नहीं मिल पाया. मैंने अन्य मंत्रियों के साथ इस मुद्दे पर चर्चा की.

ऑस्टिन ने कहा कि हमें यह याद रखना है कि भारत हमारा साझेदार है. ऐसा साझेदार जिसे हम अहमियत देते हैं. मुझे लगता है कि साझेदारों के बीच ऐसी बातचीत होने का सामर्थ्य होने की जरूरत है. हम ऐसा करने में सहज महसूस करते हैं. हम बेहद सार्थकपूर्ण ढंग से ऐसा कर सकते हैं और आगे बढ़ सकते हैं.

ऑस्टिन के दौरे से ठीक पहले अमेरिकी सीनेट की विदेश मामलों की समिति के प्रमुख ने उनसे भारत में मानवाधिकार से जुड़े मुद्दों पर बात करने को लेकर पत्र लिखा था.समिति के प्रमुख ने किसान आंदोलन को लेकर हुई कार्रवाई, पत्रकारों की गिरफ्तारी जैसे कई अहम मुद्दों पर चिंता जताई थी.ऑस्टिन ने यह भी कहा कि भारत ने अभी तक रूस की एस-400 मिसाइल सिस्टम अभी तक नहीं खरीदी है. लिहाजा अमेरिका के संभावित प्रतिबंध के मुद्दे पर कोई बात नहीं की गई. 

इससे पहले अमेरिकी रक्षा मंत्री लॉयड ऑस्टिन ने शनिवार सुबह रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह के साथ मुलाकात की थी. दोनों रक्षा मंत्रियों के संयुक्त बयान में कहा कि भारत और अमेरिकाअपने सैन्य संबंधों को आगे बढ़ा रहे हैं. दोनों देशों की इस मीटिंग में रक्षा सहयोग, उभरते हुए क्षेत्रों में सूचना का आदान-प्रदान और आपसी लॉजिस्टिकल सपोर्ट सहित कई अन्य मुद्दों पर चर्चा हुई

भारत दौरे पर आए अमेरिकी रक्षा मंत्री लॉयड जे ऑस्टिन ने कहा है कि उन्होंने भारत सरकार के मंत्रियों के साथ मानवाधिकार के मुद्दे पर बात की है. ऑस्टिन के दौरे से ठीक पहले अमेरिकी सीनेट की विदेश मामलों की समिति के प्रमुख ने उनसे भारत में मानवाधिकार से जुड़े मुद्दों पर बात करने को लेकर पत्र लिखा था.समिति के प्रमुख ने किसान आंदोलन को लेकर हुई कार्रवाई, पत्रकारों की गिरफ्तारी जैसे कई अहम मुद्दों पर चिंता जताई थी.


Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com