सिंघु और टिकरी बॉर्डर पर प्रदर्शनकारी किसानों के लिए हरियाणा सरकार ने बनाए कोरोना वैक्‍सीन सेंटर लेकिन..

सतारा कहते हैं, 'कोरोना से बचेंगे तभी तो सरकार के खिलाफ लंबी लड़ाई लड़ेंगे. सतारा कहते हैं, 'जी, हमने टीका लगाई है. बचेंगे, तभी लड़ाई लड़ेंगे लेकिन जब तक कृषि कानून वापस नहीं होते तब तक यहां से नहीं जाएंगे.

सिंघु और टिकरी बॉर्डर पर प्रदर्शनकारी किसानों के लिए हरियाणा सरकार ने बनाए कोरोना वैक्‍सीन सेंटर लेकिन..

कृषि कानूनों के विरोध में तीन माह से अधिक समय से आंदोलनरत है (फाइल फोटो)

खास बातें

  • ज्‍यादातर किसान नहीं लगवाना चाहते वैक्‍सीन
  • सरकार को लेकर भरोसे की कमी भी माना जा रहा इसका कारण
  • नर्सिंग स्‍टाफ उन्‍हें इसे लेकर समझाने में जुटा
नई दिल्‍ली:

Kisan Aandolan: देशभर में कोविड-19 संक्रमण के बढ़ते केसों के मद्देनजर हरियाणा सरकार (Haryana Government) ने टिकरी और सिंघु बार्डर पर प्रदर्शनकारी किसानों के लिए वैक्सीन सेंटर (Vaccine center) बनाए हैं. लेकिन ज्यादातर प्रदर्शनकारी किसान वैक्सीन नहीं लगवाना चाहते. गौरतलब है कि कोरोना के बढ़ते मामलों के बीच हजारों बुजुर्ग किसान कृषि कानूनों (Farm Laws) के विरोध में प्रदर्शन कर रहे हैं. इन्‍हें वैक्सीन लगाया जाएगा. नर्सिंग स्टाफ किसान को समझाने में जुटा है कि वे कोरोना का टीका जरूर लगवाएं. सिंघु बार्डर पर सतारा सिंह और लाभ सिंह कोरोना वैक्सीन लगवाने सेंटर पहुंचे हैं. फतेहगढ़ साहिब के किसान सतारा सिंह बीते महीनेभर से सिंघु बार्डर पर प्रदर्शन कर रहे हैं, काफी समझाने पर वो वैक्सीन लगवाने आए हैं. सतारा कहते हैं, 'कोरोना से बचेंगे तभी तो सरकार के खिलाफ लंबी लड़ाई लड़ेंगे. सतारा कहते हैं, 'जी, हमने टीका लगाई है. बचेंगे, तभी लड़ाई लड़ेंगे लेकिन जब तक कृषि कानून वापस नहीं होते तब तक यहां से नहीं जाएंगे.

अगर केंद्र को लगता है, मैं नुकसान कर रहा हूं तो गवर्नर पद छोड़ दूंगा, फिर भी बोलूंगा- सत्यपाल मलिक

सिंघु बार्डर पर करोना वैक्सीन का सेंटर बनाया गया है लेकिन केवल 60 किसान ही अब तक टीका लगवाने पहुंचे हैं. डॉक्टर अब किसान नेताओं से बात करके टीके लगवाने की अपील करवाने की कोशिश कर रहे हैं. डॉक्टर हिमांशु (इंचार्ज, PHC सोनीपत) बताते हैं, 'हम लोग किसान के बीच जागरुकता फैलाने का अभियान भी चला रहे हैं. किसान नेताओं से भी मिलेंगे कि वे टीका लगवाने के लिए अपील करें. उधर टिकरी बॉर्डर पर भी किसानों को वैक्सीन लगवाने का केंद्र लगाया गया है लेकिन यहां एक भी किसान टीका लगवाने नहीं पहुंचा है. सिंघु और टिकरी बार्डर पर हजारों बुजुर्ग किसान धरने पर बैठे हैं. किसानों को वैक्सीन लगाने के मुद्दे पर किसान नेता एक मत नहीं है. किसान संघर्ष समिति की बैठक में करोना टीका लगवाने की अपील करें या न करें, इस बारे में फैसला लिया जाएगा. बताया जाता है कि कुछ किसान नेता वैक्सीन लगवाने के खिलाफ हैं.


BKU के अध्यक्ष नरेश टिकैत ने साधा निशाना, बोले- सरकार और BJP भरोसे के लायक नहीं

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


सिंघु बार्डर पर किसान नेता मंजीत सिंह कहते हैं, 'टीका लगवाने की अपील का फैसला किसान संघर्ष समिति की बैठक में लिया जाएगा लेकिन मेरा अपना मानना है कि मैं टीका नहीं लगवाऊंगा. ये पहले पंजाब में था अब दिल्ली में कह रहे हैं कि कोरोना आ गया..को रोना आ गया. गौरतलब है कि देशभर में डॉक्टर, कोरोना की दूसरी लहर आने की आशंका जता रहे हैं.करोना वैक्सीन सेंटर भी प्रदर्शन की जगह पर बनाकर सरकार वाहवाही लेने की कोशिश कर रही है लेकिन सरकार पर भरोसा न होने से किसान वैक्सीन लेने में हिचकिचा रहे हैं.