सिंगल डोज़ वाले कोविड वैक्सीन Sputnik Light का भारत में होगा इमरजेंसी इस्तेमाल, DCGI ने दी मंजूरी

एक अध्‍ययन में दावा किया गया था कि स्पूतनिक-वी वैक्‍सीन और इसकी एक खुराक वाले स्पूतनिक लाइट बूस्टर टीके ने कोरोना वायरस के अत्यधिक संक्रामक ओमिक्रॉन स्वरूप के खिलाफ मजबूत सुरक्षा प्रदर्शित की है.

सिंगल डोज़ वाले कोविड वैक्सीन Sputnik Light का भारत में होगा इमरजेंसी इस्तेमाल, DCGI ने दी मंजूरी

DCGI ने स्पुतनिक लाइट की सिंगल डोज को आपातकालीन उपयोग की अनुमति दी है. (फाइल फोटो)

नई दिल्‍ली :

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मांडविया (Mansukh Mandaviya) ने रविवार को बताया कि भारत के औषधि महानियंत्रक (Drugs Controller General of India) ने देश में कोविड रोधी एकल खुराक वाले टीके ‘स्पुतनिक लाइट' (Sputnik Light) के आपातकालीन उपयोग की अनुमति दे दी है. भारत के केंद्रीय दवा प्राधिकरण के एक विशेषज्ञ समिति की सिफारिशों के बाद यह कदम उठाया गया.  सिफारिश में विभिन्न नियामक प्रावधानों के तहत स्पुतनिक लाइट के सीमित आपातकालीन उपयोग की अनुमति देने को लेकर सुझाव दिया गया. 

स्पुतनिक-लाइट पूरी तरह स्पुतनिक वी के घटक-एक के समान है.  मांडविया ने एक कू पोस्ट में कहा कि ‘‘डीसीजीआई ने भारत में कोविड-19 रोधी टीके स्पुतनिक लाइट के एकल खुराक के लिए आपातकालीन उपयोग की अनुमति दी है. यह देश में नौवां टीका है. '' मंत्री ने कहा कि इस टीके से कोरोना वायरस के खिलाफ देश की सामूहिक लड़ाई को मजबूती मिलेगी. 

दिल्ली में 82 प्रतिशत किशोरों को लग चुका कोविड रोधी पहला टीका

एक आधिकारिक सूत्र ने कहा कि 31 जनवरी को एक बैठक के बाद विषय विशेषज्ञ समिति (एसईसी) की सिफारिशों के मद्देनजर डॉ. रेड्डीज लेबोरेटरीज ने ‘स्पुतनिक लाइट' टीके का आयात करने की अनुमति देने के लिए अपना प्रस्ताव प्रस्तुत किया था. 

डॉ. रेड्डीज ने सीमित आपातकालीन उपयोग और बूस्टर खुराक टीकाकरण के लिए टीके की प्रभावशीलता और सुरक्षा से संबंधित आंकड़ा भी पेश किया.  कंपनी ने बताया कि ‘स्पुतनिक लाइट' टीका रूस और अर्जेंटीना सहित 29 देशों में स्वीकृत है. 

Omicron के खिलाफ प्रभावी सुरक्षा दे सकता है Corona Vaccine का Booster Shot : नई रिसर्च

कुछ वक्‍त पहले सामने आए एक अध्‍ययन में दावा किया गया था कि स्पूतनिक-वी टीका और इसकी एक खुराक वाले स्पूतनिक लाइट बूस्टर टीके ने कोरोना वायरस के अत्यधिक संक्रामक ओमिक्रॉन स्वरूप के खिलाफ मजबूत सुरक्षा प्रदर्शित की है. गामेलेया नेशनल रिसर्च सेंटर ऑफ एपिडेमायोलॉजी एंड माइक्रोबायोलॉजी तथा रूसी प्रत्यक्ष निवेश कोष (आरडीआईएफ) ने ‘स्पूतनिक-वी टीकाकरण के बाद स्पूतनिक लाइट बूस्टर, सार्स-कोवी-2 के स्वरूप बी.1.1.529 (ओमीक्रोन) के प्रति एंटीबॉडी प्रतिक्रिया के प्रति अत्यधिक न्यूट्रल' शीर्षक वाले आलेख में कहा था कि टीके से गंभीर संक्रमण और अस्पताल में भर्ती होने की संभावना के खिलाफ मजबूत सुरक्षा मिलती है. 
 

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


निजी अस्पताल और क्लिनिक सीधे कंपनियों से खरीद सकेंगे कोरोना वैक्सीन, ड्रग कंट्रोलर ने दी इजाजत