"हमको तो बस तलाश नए रास्तों की.." संजय राउत का सुबह-सुबह शायराना ट्वीट; BJP नेता का भी तीखा तंज

राउत के इस ट्वीट पर बीजेपी नेता राम कदम ने चुटकी ली है और शिव सेना नेता को जवाब देते हुए उन्हें टूटा हुआ दिल करार दिया है. राम कदम ने लिखा है कि कोई तो पूछे टूटे हुए दिल से कि आज तेरा हाल क्या है.

शिव सेना प्रवक्ता और सांसद संजय राउत.

नई दिल्ली:

महाराष्ट्र (Maharashtra) की महाविकास अघाड़ी (MVA) सरकार के भीतर भ्रष्टाचार पर मचे घमासान के बीच सत्ताधारी शिव सेना के नेता संजय राउत (Sanjay Raut) ने रविवार (21 मार्च) की सुबह शायराना अंदाज में एक ट्वीट किया है. उन्होंने गीतकार जावेद अख्तर की एक शायरी साझा करते हुए लिखा है, ''शुभ प्रभात, हमको तो बस तलाश नए रास्तों की है, हम हैं मुसाफिर ऐसे जो मंजिल से आए हैं.''

राउत के इस ट्वीट पर बीजेपी नेता राम कदम ने चुटकी ली है और शिव सेना नेता को जवाब देते हुए उन्हें टूटा हुआ दिल करार दिया है. राम कदम ने लिखा है कि कोई तो पूछे टूटे हुए दिल से कि आज तेरा हाल क्या है.. उन्होंने ट्वीट किया, "मेरे टूटे हुए दिल से कोई तो आज ये पूछे के तेरा हाल क्या है .. के तेरा हाल क्या है मेरे टूटे... किस्मत तेरी रीत निराली, ओ छलिये को छलने वाली फूल खिला तो टूटी डाली जिसे उलफ़त समझ बैठा, Qमेरी नज़रों का धोखा था किसी की क्या खता है मेरे टूटे... माँगी मुहब्बत पाई जुदाई, दुनिया मुझको.."

'महाराष्ट्र गठबंधन के खिलाफ बीजेपी ने की है साजिश', परमबीर सिंह की चिट्ठी पर बोली कांग्रेस

राम कदम ने एक और ट्वीट कर महाराष्ट्र विकास अघाड़ी सरकार पर तंज कसा है. उसमें उन्होंने लिखा है, "रास न आई.. पहले कदम पर ठोकर खाई सदा आज़ाद रहते थे हमें मालूम ही क्या था मुहब्बत क्या बला है मेरे टूटे... #MahaVasooliAghadi"


"हर महीने 100 करोड़ रुपये चाहते थे गृह मंत्री" : मुंबई के पूर्व कमिश्नर ने अपने खत में लगाए ये 5 गंभीर आरोप

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


दरअसल, महाराष्ट्र में मुकेश अंबानी केस के बाद सियासी भूचाल नए स्तर पर पहुंच गया है. परमबीर सिंह  ने महाराष्ट्र के गृह मंत्री अनिल देशमुख पर भ्रष्टाचार का गंभीर आरोप लगाया है. पूर्व कमिश्नर ने एक पत्र मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे को लिखा है. इसमें राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के नेता और गृह मंत्री अनिल देशमुख पर गलत गतिविधियों में लिप्त होने का आरोप लगाया है. महाराष्ट्र सरकार ने परमबीर सिंह पर अक्षम्य अपराध करने का आरोप लगाते हुए हटा दिया था. उन्हें होमगार्ड विभाग भेज दिया गया था.