सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया के सीईओ अदार पूनावाला को वाई श्रेणी की सुरक्षा मिलेगी

भारत में इस समय सीरम इंस्‍टीट्यूट ऑफ इंडिया के वैक्‍सीन-कोविशील्‍ड और भारत बायोटेक के कोवैक्‍सीन के प्रयोग को इजाजत दी गई है. पूनावाला, सीरम इंस्‍टीट्यूट के सीईओ हैं.

सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया के सीईओ अदार पूनावाला को वाई श्रेणी की सुरक्षा मिलेगी

नई दिल्ली:

केंद्र सरकार ने सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया (SII) के मुख्‍य कार्यकारी अधिकारी (सीईओ) अदार पूनावाला को वाई श्रेणी की सुरक्षा देने का फैसला किया है. सूत्रों के अनुसार, केंद्रीय गृह मंत्रालय संभावित खतरे का आकलन करते हुए पहले ही इस बारे में आदेश जारी कर चुका है. गौरतलब है क‍ि गासाइरस पूनावाला के बेटे अदार ने विदेश से पढ़ाई की है. भारत लौटने के बाद उन्‍होंने पिता के बिजनेस में हाथ बंटाना शुरू किया और जल्‍द की कंपनी के सीईओ की जिम्‍मेदारी संभाली. सीरम इंस्‍टीट्यूट ऑफ इंडिया को ऊंचाई पर पहुंचाने में अदार का अहम योगदान रहा है, भारत की दिग्‍गज शख्सियतों में अदार को शुमार किया जाता है. महाराष्‍ट्र के पुणे में सीरम इंस्‍टीट्यूट ऑफ इंडिया का कैंपस करीब 100 एकड़ एरिया में फैला हुआ है जिसमें तमाम सुविधाएं मौजूद हैं.

सीरम इंस्टीट्यूट ने राज्यों के लिए कोरोना वैक्सीन की कीमत 400 से घटाकर 300 रुपये की : अदार पूनावाला


भारत में इस समय सीरम इंस्‍टीट्यूट ऑफ इंडिया के वैक्‍सीन-कोविशील्‍ड और भारत बायोटेक के कोवैक्‍सीन के प्रयोग को इजाजत दी गई है. पूनावाला, सीरम इंस्‍टीट्यूट के सीईओ हैं.रूसी वैक्‍सीन स्‍पूतनिक V के प्रयोग को भी हाल ही में मंजूरी दी गई है, रूसी वैक्‍सीन जल्‍द ही भारत में लगना शुरू होने की उम्‍मीद है.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


देशभर में कोरोना टीकारण अभियान 16 जनवरी से शुरू हुआ था. इस कोविड-19 टीकाकरण अभियान के लिए कोविशील्ड टीके (Covishield Vaccine) की आपूर्ति को पूनावाला ने ‘‘गौरवपूर्ण और ऐतिहासिक'' पल करार दिया था. इंस्टीट्यूट में कुछ पत्रकारों से बातचीत में पूनावाला ने कहा था कि असली चुनौती टीके को ‘‘आम जनता, संवेदनशील समूहों और स्वास्थ्यकर्मियों तक पहुंचाना है.'' पूनावाला ने कहा था, ‘‘हमारे ट्रक तड़के इंस्टीट्यूट से रवाना हुए और अब टीका पूरे देश में भेजा जा रहा है. यह गौरवपूर्ण और ऐतिहासिक पल है क्योंकि वैज्ञानिकों, विशेषज्ञों और इससे जुड़े तमाम लोगों ने एक साल से भी कम में टीका विकसित करने में बहुत मेहनत की है.'