अवमानना मामले में विजय माल्या के खिलाफ गुरुवार को सुनवाई करेगा SC, आखिरी जवाब देने का दिया था मौका

विजय माल्या (Vijay Mallya) पर अवमानना के मामले पर सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) गुरुवार को 2 बजे सुनवाई करेगा. इस मामले में एमाइकस क्यूरी जयदीप गुप्ता (Jaideep Gupta) ने सुप्रीम कोर्ट से सुनवाई गुरुवार को करने का आग्रह किया.

अवमानना मामले में विजय माल्या के खिलाफ गुरुवार को सुनवाई करेगा SC, आखिरी जवाब देने का दिया था मौका

माल्या को सम्पत्ति का सही ब्यौरा न देने के लिए अदालत के आदेशों की अवहेलना का दोषी माना गया.

नई दिल्ली :

भगौड़े कारोबारी विजय माल्या (Vijay Mallya) पर अवमानना के मामले पर सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) गुरुवार को 2 बजे सुनवाई करेगा. इस मामले में एमाइकस क्यूरी जयदीप गुप्ता (Jaideep Gupta) ने सुप्रीम कोर्ट से सुनवाई गुरुवार को करने का आग्रह किया. कोर्ट ने आग्रह स्वीकार करते हुए इस मामले पर सुनवाई के लिए कल गुरुवार 2 बजे का समय तय कर दिया.  बता दें, पिछली सुनवाई में सुप्रीम कोर्ट ने विजय माल्या को जवाब देने का आखिरी मौका देते हुए कहा था कि माल्या की अनुपस्थिति में ही सजा के मुद्दे पर आगे बढ़ने का फैसला किया जाएगा. कोर्ट ने यह भी कहा था कि अगर माल्या अपना पक्ष नहीं रखते हैं तो अदालत इस मामले को कानूनी आधार पर आगे बढ़ाएगी.  

अवमानना मामले में विजय माल्या के खिलाफ टली सुनवाई, अब सुप्रीम कोर्ट में अगले हफ्ते होगी सुनवाई

दरअसल,  किंगफिशर बेवरेजेज और किंगफिशर एयरलाइंस के बीच एक मामले में संपत्ति के पूर्ण विवरण का खुलासा नहीं किया था. माल्या को कोर्ट के आदेश के बाद भी डिएगो डील के 40 मिलियन डॉलर अपने बच्चों के विदेशी एकाउंट में ट्रांसफर करने और सम्पत्ति का सही ब्यौरा न देने के लिए 2017 में अदालत के आदेशों की अवहेलना का दोषी माना गया था. कोर्ट के इस फैसले पर माल्या की ओर से दाखिल पुनर्विचार याचिका भी सुप्रीम कोर्ट खारिज कर चुका है. 

इसे भी पढ़ें: 'महाभ्रष्ट व्यवस्था पर एक मजबूत सरकार से ...' : माल्या, नीरव और ऋषि अग्रवाल को लेकर वरुण गांधी का सरकार पर तंज

इससे पहले, सुप्रीम कोर्ट ने कहा था कि अगर माल्या अपना पक्ष नहीं रखते हैं तो अदालत इस मामले को तार्किक निष्कर्ष तक पहुंचाने के लिए आगे बढ़ेगी. गौरतलब है, दस फरवरी को हुई सुनवाई में सुप्रीम कोर्ट ने विजय माल्या को जवाब देने का आखिरी मौका दिया था. सुप्रीम कोर्ट ने कहा था कि माल्या अदालत के निर्देशों का जवाब देने के लिए स्वतंत्र हैं वरना माल्या की अनुपस्थिति में ही सजा के मुद्दे पर आगे बढ़ने का फैसला किया जाएगा . अगर माल्या अपना पक्ष नहीं रखते हैं तो अदालत इस मामले को तार्किक निष्कर्ष तक पहुंचाने के लिए आगे बढ़ने पर विचार करेगी.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


बैंकों के 18,000 करोड़ रुपये वापस आए, केंद्र सरकार ने सुप्रीम कोर्ट को दी जानकारी