मोदी सरकार के पूर्व मंत्री का हल्ला बोल, कृषि कानूनों के खिलाफ 10 हजार गांवों में चौपाल का ऐलान

राष्ट्रीय लोक समता पार्टी (RLSP) के राष्ट्रीय अध्यक्ष उपेंद्र कुशवाहा (Upendra Kushwaha) ने कहा कि किसान सड़कों पर उतरकर इन कानूनों का विरोध कर रहे हैं क्योंकि वे समझ गए हैं कि इससे उन्हें क्या और कितना नुकसान होगा.

मोदी सरकार के पूर्व मंत्री का हल्ला बोल, कृषि कानूनों के खिलाफ 10 हजार गांवों में चौपाल का ऐलान

दिल्ली बॉर्डर पर किसानों का आंदोलन जारी है. (फाइल फोटो)

खास बातें

  • मोदी सरकार में मंत्री रह चुके हैं उपेंद्र कुशवाहा
  • 10 हजार गांवों में चौपाल लगाएंगे कुशवाहा
  • RLSP के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं उपेंद्र कुशवाहा
नई दिल्ली:

राष्ट्रीय लोक समता पार्टी (RLSP) ने कृषि कानूनों (Farm Laws) को फौरन रद्द करने की मांग की है और कहा है कि यह कानून केंद्र सरकार ने पूंजीपतियों को फायदा पहुंचाने के लिए बनाया है. पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष उपेंद्र कुशवाहा (Upendra Kushwaha) ने कहा कि किसान सड़कों पर उतरकर इन कानूनों का विरोध कर रहे हैं क्योंकि वे समझ गए हैं कि इससे उन्हें क्या और कितना नुकसान होगा. कुशवाहा ने कहा कि यह लड़ाई किसान बनाम पूंजीपतियों की है और सरकार पूंजीपतियों के साथ खड़ी है.

पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव व प्रवक्ता फजल इमाम मल्लिक ने यह जानकारी दी है. कुशवाहा ने कहा कि बिहार में किसानों को इन कानूनों से होने वाले नुकसान की जानकारी देने के लिए रालोसपा किसान चौपाल लगाएगी. कुशवाहा ने गणतंत्र दिवस पर लाल किले में जो भी हुआ, उसे दुर्भाग्यपूर्ण बताया और कहा कि इसकी जिम्मेदारी केंद्र सरकार पर है. उन्होंने कहा कि लाल किले जैसे सुरक्षित स्थान पर हुड़दंगी कैसे दाखिल हो गए, इसका जवाब सरकार को देना होगा. उन्होंने कहा कि दरअसल किसान आंदोलन (Farmers Protest) को बदनाम करने की साजिश केंद्र सरकार ने रची थी और हुड़दंगियों को लाल किले में प्रवेश करने की छूट दे दी गई थी. सरकार को इसका जवाब देना चाहिए.

भीम आर्मी के चंद्रशेखर ने राकेश टिकैत से की मुलाकात, बोले- कंधे से कंधा मिलाकर लड़ेंगे

मल्लिक ने बताया कि किसान चौपाल दो फरवरी को अमर शहीद जगदेव जयंती के दिन से शुरू होगी और 28 फरवरी तक चलेगी. मल्लिक ने बताया कि दो फरवरी को अमर शहीद जगदेव की प्रतिमा पर माल्यार्पण कर सभी जिला मुख्यालयों पर तीनों कानूनों की प्रतियां जलाई जाएगी और फिर पूरे महीने चौपाल लगाया जाएगा. पार्टी उपेंद्र कुशवाहा के नेतृत्व में 10,000 से ज्यादा गांवों में चौपाल लगाएगी और इसके अलावा गांव-गांव में 25 लाख से ज्यादा किसानों के घरों में जाकर उन्हें इन काले कानूनों की जानकारी देगी.

BKU (लोकशक्ति) ने फिर शुरू किया कृषि कानूनों के खिलाफ आंदोलन


फजल मल्लिक ने बताया कि केंद्र सरकार इन कानूनों के जरिए पूंजीपतियों को फायदा पहुंचाने की कोशिश कर रही है और पार्टी इसकी जानकारी किसानों को देकर केंद्र सरकार की नीयत को उजागर करेगी. कुशवाहा ने कहा कि किसान आंदोलित हैं और बता रहे हैं कि इससे उनका क्या-क्या नुकसान होगा लेकिन सरकार यह नहीं बता रही है कि इसके क्या फायदे हैं. कुशवाहा ने इन काले कानूनों को अविलंब वापस लेने की अपनी मांग दोहराई. पटना में किसान चौपाल की शुरुआत उपेंद्र कुशवाहा करेंगे. वह दो फरवरी को काले कानूनों की प्रतियां जलाकर विरोध जताएंगे.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


VIDEO: रवीश कुमार का प्राइम टाइम : किसान और सरकार आमने-सामने