प्रियंका गांधी वाड्रा का नरेंद्र मोदी सरकार पर तंज - 'विकास को छुट्टी पर भेजने का वक्‍त आ गया...'

प्रियंका गांधी वाड्रा ने कहा है कि प्रधानमंत्री के राज में दो ही तरह का 'विकास' हो रहा है और अगर यह विकास है तो इसे छुट्टी पर भेजने का समय आ गया है.

प्रियंका गांधी वाड्रा का नरेंद्र मोदी सरकार पर तंज - 'विकास को छुट्टी पर भेजने का वक्‍त आ गया...'

प्रियंका गांधी वाड्रा ने मोदी सरकार के विकास के दावे पर निशाना साधा

नई दिल्‍ली :

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा (Priyanka Gandhi Vadra) ने बढ़ती महंगाई और विकास के दावों को लेकर नरेंद्र मोदी सरकार (Narendra Modi Government)पर निशाना साधा है. उन्‍होंने कहा है कि प्रधानमंत्री के राज में दो ही तरह का विकास हो रहा है और अगर यह विकास है तो इसे छुट्टी पर भेजने का समय आ गया है. प्रियंका ने बुधवार को ट्वीट में लिखा, 'प्रधानमंत्री जी,आपके राज में दो ही तरह का विकास हो रहा है:एक तरफ आपके खरबपति मित्रों की आय बढ़ती जा रही है, दूसरी तरफ आमजनों के लिए आवश्यक वस्तुओं के दाम बढ़ते जा रहे हैं. अगर यही विकास है तो इस विकास को अवकाश (छुट्टी) पर भेजने का वक्त आ गया है.' प्रियंका ने रसोई गैस की कीमतों के साथ साथ महंगाई  में हुए इजाफे के संदर्भ में यह ट्वीट किया था. सब्सिडी वाली रसोई गैस सहित सभी श्रेणियों में एलपीजी (तरलीकृत पेट्रोलियम गैस) सिलेंडर की कीमतों में बुधवार को 25 रुपये प्रति सिलेंडर की बढ़ोतरी की गई है. दो महीनों से भी कम समय में दरों में तीसरी बार बढ़ोतरी की गई है.

बढ़ती महंगाई को लेकर तेजस्‍वी यादव का 'प्रहार', 'डबल इंजन सरकार ने भीष्‍म प्रतिज्ञा ली है कि.... '

गौरतलब है कि प्रियंका से पहले उनके भाई राहुल गांधी ने भी बुधवार को बढ़ती महंगाई को लेकर केंद्र सरकार पर वार किया था. राहुल ने मीडिया से चर्चा में कहा था कि कि मोदीजी के शासन काल में जीडीपी बढ़ने का मतलब ग्रास डोमिस्टिक प्रोडशन या सकल घरेलू उत्‍पाद नहीं है बल्कि 'गैस, डीजल पेट्रोल की कीमत बढ़ रही है' से है. कांग्रेस के पूर्व अध्‍यक्ष ने कहा था ,'जीडीपी बढ़ रही है, GDP का मतलब Gas Diesel Petrol'.अपनी बात को आगे बढ़ाते हुए उन्‍होंने कहा, 'मोदी जी ने पहले कहा था कि मैं डिमोनेटाइजेशन कर रहा हूं. वित्त मंत्री कहती रहती हैं कि मैं मोनेटाइजेशन कर रही हूं. किसानों, मज़दूरों, छोटे दुकानदार, एमएसएमई, सैलरीड क्लास, सरकारी कर्मचारियों और ईमानदार उद्योगपतियों का डीमोनेटाइजेशन हो रहा है. दो चार बड़े उद्योगपतियों का मोनेटाइजेशन हो रहा है.'

अब असम के नेशनल पार्क से भी हटाया जाएगा राजीव गांधी का नाम

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


राहुल ने कहा था कि डीजल-पेट्रोल की कीमतें बढ़ने का सीधा असर आम लोगों पर पड़ता है. इससे आम जरूरत की चीजों का ट्रांसपोर्टेशन चार्ज बढ़ता है औरफलस्‍वरूप महंगाई में इजाफा होता है.पेट्रो उत्‍पादों के मुद्दे पर सरकार पर निशाना साधते हुए उन्‍होंने कहा कि पेट्रोल, डीजल और रसोई गैस की अंतरराष्ट्रीय कीमतें 2014 से नीचे हैं लेकिन भारत में दाम बढ़ रहे हैं. पेट्रोल 2014 में यूपीए सरकार के समय 71.5 रुपये प्रतिलीटर था, अब यह छलांग मारते हुए करीब 101 रुपये प्रति लीटर पहुंच गया है. इसी तरह डीजल 57 रुपये प्रतिलीटर से बढ़कर 88 रुपये प्रति लीटर हो गया है.