किसानों के समर्थन में उतरे नवजोत सिंह सिद्धू, अपने घर की छत पर लगाया काला झंडा

पंजाब के विधायक नवजोत सिंह सिद्धू (Navjot Singh Sidhu) ने तीन कृषि कानूनों का विरोध कर रहे किसानों के समर्थन (Farmer Protest) में पटियाला और अमृतसर के अपने आवास पर काला झंडा लगाया.

किसानों के समर्थन में उतरे नवजोत सिंह सिद्धू, अपने घर की छत पर लगाया काला झंडा

नवजोत सिंह सिद्धू ने कृषि कानूनों का विरोध कर रहे किसानों के समर्थन में आवास पर काला झंडा लगाया

नई दिल्ली:

दिल्ली की सीमाओं पर जारी किसानों के आंदोलन के छह महीने पूरे होने के मौके पर पंजाब के असंतुष्ट कांग्रेस नेता नवजोत सिंह सिद्धू (Navjot Singh Sidhu) भी किसानों के समर्थन (Farmer Protest) में खुलकर उतर आए हैं. पंजाब के विधायक  ने तीन कृषि कानूनों का विरोध कर रहे किसानों के समर्थन में पटियाला और अमृतसर के अपने आवास पर काला झंडा लगाया. पटियाला के घर पर काले झंडे लगाने के साथ सिद्धू ने सरकार के खिलाफ जमकर मोर्चा खोला. उन्होंने कहा कि पंजाब आज तीन काले कानूनों के खिलाफ लड़ रहा है. यह कानून, किसानों की आमदनी खत्म करने के लिए तैयार किया गया है. इस कानून को छोटे व्यापारियों और मजदूरों के पेट पर लात मारने के लिए लाया गया है, उन्होंने कहा कि इस कानून के खिलाफ पंजाब संघर्ष करेगा. 

Read Also: अमरिंदर सिंह के संकेतों से भन्नाए नवजोत सिंह सिद्धू, AAP में शामिल होने की अटकल पर कहा- साबित करो

क्रिकेट की दुनिया से राजनीति में आए सिद्धू ने पंजाब के सभी लोगों से किसानों के समर्थन में आने की अपील की है. उन्होंने कहा कि पंजाब की तरक्की की हर राह किसानों से ही होकर गुजरती है. बकौल सिद्धू, यह काला झंडा मेरे घर से इन काले कानूनों को ठुकराने की निशानी है. उन्होंने कहा कि जब तक इस सिस्टम को बदलेंगे नहीं तब तक चुप नहीं बैठेंगे. 


Read Also: आंदोलन के 6 महीने होने पर "काला दिवस", हजारों की संख्या में किसान करनाल से सिंघु बॉर्डर के लिए रवाना 

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


बताते चलें कि केंद्र के तीन कृषि कानूनों के खिलाफ किसानों के प्रदर्शन के छह महीने 26 मई को पूरे हो रहे हैं और इस दिन को ‘काला दिवस' के रूप में मनाने के लिए संगठन के आह्वान पर किसान कूच कर रहे हैं. पंजाब के किसान बड़ी संख्या में दिल्ली की सीमा के लिए कूच कर रहे हैं। यह दावा भारतीय किसान यूनियन (भाकियू) की पंजाब इकाई के नेताओं ने किया. किसान संगठनों ने मजदूरों, कर्मचारियों और कारोबारियों सहित सभी वर्गों से कृषि कानूनों के खिलाफ एकजुटता प्रकट करने के लिए घरों, दुकानों और औद्योगिक इकाइयों पर काले झंडे लगाने की अपील की है.