मुलायम ने लगवाई कोरोना वैक्सीन तो यूपी के डिप्टी CM ने अखिलेश यादव को घेरा, बोले- अब माफी मांगें

केशव प्रसाद मौर्य ने लिखा है कि सपा संरक्षक मुलायम सिंह यादव का स्वदेशी वैक्सीन लगवाने के लिए धन्यवाद.आपका वैक्सीन लगवाना इस बात का प्रमाण है कि सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने वैक्सीन को लेकर अफवाह फैलाई थी. इसके लिए अखिलेश को माफी मांगनी चाहिए.

मुलायम ने लगवाई कोरोना वैक्सीन तो यूपी के डिप्टी CM ने अखिलेश यादव को घेरा, बोले- अब माफी मांगें

मुलायम सिंह यादव ने ली कोरोना वैक्सीन की पहली डोज तो यूपी के डिप्टी सीएम ने कसा अखिलेश यादव पर तंज

लखनऊ:

समाजवादी पार्टी के संरक्षक मुलायम सिंह यादव ने सोमवार को कोरोना वैक्सीन लगवा ली. मुलायम की वैक्सीन लगवाते हुए तस्वीर शेयर कर यूपी के डिप्टी सीएम ने अखिलेश यादव पर तंज कसा है. केशव प्रसाद मौर्य ने लिखा है कि सपा संरक्षक मुलायम सिंह यादव का स्वदेशी वैक्सीन लगवाने के लिए धन्यवाद.आपका वैक्सीन लगवाना इस बात का प्रमाण है कि सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने वैक्सीन को लेकर अफवाह फैलाई थी. इसके लिए अखिलेश को माफी मांगनी चाहिए.


बता दें कि अखिलेश यादव ने कहा था कि वह बीजेपी की वैक्सीन नहीं लगवाएंगे. जब अपनी सरकार आएगी तो सबको फ्री में वैक्सीन लगेगी. हम बीजेपी की वैक्सीन नहीं लगवा सकते. अखिलेश के इस बयान पर काफी सियासत भी हुई थी. बीजेपी ने इस पर कहा था कि ये देश के वैज्ञानिकों का अपमान है. इसके बाद अखिलेश यादव ने इस पर सफाई भी दी थी कि उनका बयान वैक्सीन बनाने वाले वैज्ञानिकों के खिलाफ नहीं बल्कि बीजेपी की नीयत के खिलाफ है. इसके बाद अखिलेश यादव के बयान फ्री वैक्सीन को लेकर आए कि बीजेपी बहाना न बनाए. सभी लोगों को फ्री में वैक्सीन लगवाए और वैक्सीन के लिए सरकार के पास क्या ठोस योजना है.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


हाल ही में अखिलेश यादव ने ट्वीट करके कोरोना वायरस के टीके की प्रभावशीलता और सुरक्षा की जानकारी को सार्वजनिक रूप से साझा करने की मांग की थी. उन्होंने गुरुवार को ट्वीट किया कि जैसा कि अनेक देशों ने दिखाया है कि टीके संबंधी आंकड़ों को साझा करके जिंदगियां बचाई जा सकती हैं. उन्होंने इस ट्वीट में ब्रिटेन के अखबार फाइनेंशियल टाइम्स की खबर टैग करते हुए कहा था कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आम भारतीयों की सेहत और उनकी सुरक्षा के मुकाबले अपनी राजनीतिक आवश्यकताओं को लेकर ज्यादा चिंतित हैं.