सेवाभाव की मिसाल..विधायक ने गर्भवती महिला की आपात सर्जरी करके की प्रसव में मदद

थियामसंगा पेशे से डॉक्टर हैं और उन्हें प्रसूति एवं स्त्री रोग में विशेषज्ञता हासिल है. वे जब भी दूरदराज के क्षेत्रों के दौरे पर जाते हैं तो अपने साथ प्राय: स्टेथोस्कोप रखते हैं ताकि आपात चिकित्सकीय स्थिति में लोगों की मदद कर सकें. 

सेवाभाव की मिसाल..विधायक ने गर्भवती महिला की आपात सर्जरी करके की प्रसव में मदद

विधायक थियामसंगा पेशे से डॉक्टर हैं और उन्हें प्रसूति एवं स्त्री रोग में विशेषज्ञता हासिल है (फाइल फोटो)

खास बातें

  • पेशे से डॉक्टर हैं मिजोरम के विधायक थियामसंगा
  • दूरदराज दौरे पर जाते हैं तो साथ में होता है स्टेथोस्कोप
  • गर्भवती महिला की आपात सर्जरी करके पेश की सेवा की मिसाल
आइजोल :

मिजोरम (Mizoramके विधायक जेडआर थियामसंगा (ZR Thiamsanga) ने एक गर्भवती महिला (Pregnant Woman)की आपात सर्जरी करके प्रसव में मदद की. दूरदराज स्थित चम्फाई जिले के भूकंप प्रभावित इलाके का दौरा करने के दौरान उन्होंने यह सर्जरी की.थियामसंगा पेशे से डॉक्टर हैं और उन्हें प्रसूति एवं स्त्री रोग में विशेषज्ञता हासिल है. वे जब भी दूरदराज के क्षेत्रों के दौरे पर जाते हैं तो अपने साथ प्राय: स्टेथोस्कोप रखते हैं ताकि आपात चिकित्सकीय स्थिति में लोगों की मदद कर सकें. सोमवार को थियामसंगा, म्यामांर सीमा के निकट अपने विधानसभा क्षेत्र चम्फाई उत्तर का दौरा कर रहे थे. वे कोविड-19 की स्थिति और हाल में भूकंप की वजह से हुई क्षति का जायजा लेने यहां पहुंचे थे.

प्लाज्मा डोनेट करने के लिए आगे आए असम के 67 पुलिसकर्मी

थियामसंगा ने बताया कि दूरदराज के नगुर गांव की रहनेवाली 38 वर्षीय सी लालहमंगाईहसंगी अपने दूसरे बच्चे को जन्म देने वाली थी. महिला को काफी रक्तस्राव हो रहा था और उसकी स्थिति नाजुक थी.उन्होंने बताया कि चम्फाई जिले के चिकित्सा अधिकारी स्वास्थ्य कारणों की वजह से छुट्टी पर थे और महिला 200 किलोमीटर दूर आइजोल तक जाने की स्थिति में नहीं थी. उन्होंने बताया कि जब उन्हें महिला की स्थिति की जानकारी दी गई तो वह तत्काल अस्पताल पहुंचे और वहां आपात सर्जरी करके प्रसव में महिला की मदद की. उन्होंने बताया कि मां और बच्चा दोनों सुरक्षित हैं.

उन्होंने कहा कि जरूरतमंदों की मदद करना उनका कर्तव्य है.इससे पहले जून के महीने में भी विधायक खबरों में आए थे. भारत-म्यामां सीमा की रक्षा में तैनात रहनेवाले एक बीमार सुरक्षाकर्मी का इलाज करने के लिए वह नदी को पार करने के बाद कई किलोमीटर तक पैदल चलकर वहां पहुंचे थे.उन्होंने 2018 में मिजो नेशनल फ्रंट की टिकट पर चुनाव लड़ा था और कांग्रेस के तत्कालीन विधायक टीटी जोथानसंगा को हराया था. फिलहाल वह राज्य स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण बोर्ड के उपाध्यक्ष भी हैं.


चेन्नई में दिव्यांग कोरोना योद्धाओं ने पेश की मिसाल

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com




(हेडलाइन के अलावा, इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है, यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)