मेडिकल कॉलेज की पार्टी बनी COVID 'सुपरस्प्रेडर', एक ही दिन में करीब तिगुने हो गए मरीज

स्वास्थ्य आयुक्त ने कहा कि 17 नवंबर को कॉलेज में एक फ्रेशर्स पार्टी प्रकोप के लिए जिम्मेदार है. अधिकारियों ने कहा कि जिन कोविड पॉजिटिव रोगियों में हल्के या कोई लक्षण नहीं हैं उनका परिसर के अंदर इलाज चल रहा है.

बेंगलुरु:

कर्नाटक (Karnataka) के धारवाड़ में एक मेडिकल कॉलेज में हुई फ्रेशर पार्टी ने वहां कोरोना (Coronavirus) का कहर बरपाया है. एक ही दिन में वहां कोविड मरीजों की संख्या बढ़कर करीब तिगुनी हो गई है और कॉलेज COVID​​​​-19 क्लस्टर बन गया है. अधिकारियों ने बताया कि कॉलेज में कोरोनोवायरस से संक्रमित छात्रों की संख्या 66 से बढ़कर अब 182 हो गई है.

अधिकारी के मुताबिक अधिकांश संक्रमित लोगों को कोविड वैक्सीन की दोनों खुराकें दी जा चुकी थीं और वे पूर्ण टीकाकृत थे. अधिकारियों ने बताया कि यह प्रकोप हाल ही में कॉलेज के अंदर आयोजित एक फ्रेशर पार्टी के कारण हुआ. संक्रमित लोगों के नमूने जीनोम अनुक्रमण के लिए भेजे गए हैं ताकि यह जांचा जा सके कि ताजा प्रकोप के पीछे कोई नया वैरिएंट है या नहीं.

दिसंबर में आ सकती है COVID-19 की माइल्ड तीसरी लहर: महाराष्ट्र स्वास्थ्य मंत्री

धारवाड़ में एसडीएम कॉलेज ऑफ मेडिकल साइंसेज में एक फ्रेशर पार्टी के बाद 300 छात्रों के कोविड टेस्ट रिपोर्ट जब गुरुवार को आए तो 66 छात्र, जो पूरी तरह से टीकाकृत थे, पॉजिटिव  पाए गए.

अधिकारियों ने कहा कि संक्रमितों को कॉलेज परिसर के अंदर ही क्वारंटीन में रखा गया है और दो छात्रावासों को एहतियात के तौर पर सील कर दिया गया है. राज्य का स्वास्थ्य विभाग आज कॉलेज और अस्पताल में 3,000 से अधिक कर्मचारियों और छात्रों का परीक्षण (क्लिनिकल ​​और नॉन क्लिनिकल) करेगा.


कर्नाटक : ACB की कार्यवाही में फंसे कई भ्रष्‍ट अफसर लेकिन लोकायुक्‍त के कमजोर होने से बच रहीं 'बड़ी मछलियां'

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


स्वास्थ्य आयुक्त ने कहा कि 17 नवंबर को कॉलेज में एक फ्रेशर्स पार्टी प्रकोप के लिए जिम्मेदार है. अधिकारियों ने कहा कि जिन कोविड पॉजिटिव रोगियों में हल्के या कोई लक्षण नहीं हैं उनका परिसर के अंदर इलाज चल रहा है.