MP: कोरोना कर्फ्यू में घूम रहे लोगों को तहसीलदार ने दी 'मेंढक कूद' की सजा, सोशल डिस्‍टेसिंग का नहीं रखा गया ध्‍यान..

कोरोना के प्रकोप को कम करने के लिए सरकार ने वीकेंड पर लॉकडाउन और नाइट कर्फ्यू जैसे उपाय लागू किए हैं लेकिन लोग इसका भी उल्‍लंघन करने से नहीं चूक रहे हैं

MP: कोरोना कर्फ्यू में घूम रहे लोगों को तहसीलदार ने दी 'मेंढक कूद' की सजा, सोशल डिस्‍टेसिंग का नहीं रखा गया ध्‍यान..

कोरोना कर्फ्यू के दौरान बेवजह बाहर घूम रहे लोगों को 'मेंढक कूद' की सजा मिली

खास बातें

  • इंदौर शहर के नजदीक देपालपुर की है घटना
  • मेंढक कूद के दौरान हुआ सोशल डिस्‍टेंसिंग का उल्‍लंघन
  • एक युवक नहीं कर पाया तो साहब ने मारी लात
भोपाल :

Corona curfew: मध्‍य प्रदेश के इंदौर शहर के समीप देपालपुर में कोरोना कर्फ्यू के दौरान बेवजह बाहर घूम रहे लोगों को तहसीलदार बजरंग बहादुर सिंह ने ऐसी सजा दी जिसे देखकर सब हैरान रह गए. 'तहसीलदार साहब' ने इन सभी लोगों को मेंढक की तरह सड़क पर कूदते हुए चलने का आदेश दिया. यहां तक तो ठीक है, इस दौरान शारीरिक दूरी (सोशल डिस्‍टेसिंग) का पालन भी नहीं किया हुआ. उधर, जब एक युवक ऐसा नहीं कर पाया तो तहसीलदार बजरंग बहादुर सिंह ने उसे लात मारी.

एम्‍बुलेंस नहीं मिली तो पति ने ठेले पर ऑक्‍सीजन सिलेंडर लगा बीमार बीवी को पहुंचाया अस्‍पताल..VIDEO

गौरतलब है कि पूरे देश की तरह मध्‍य प्रदेश में भी कोरोना के केसों की संख्‍या लगातार बढ़ी है. मध्‍य प्रदेश के इंदौर, भोपाल, ग्‍वालियर और जबलपुर जैसों शहरों में रोजाना काफी केस आ रहे हैं..कोरोना के केसों के बढ़ने के कारण स्‍वास्‍थ्‍य सुविधाओं पर दबाव बढ़ा है और ज्‍यादातर अस्‍पतालों में दवाओं, बेड्स तथा ऑक्‍सीजन की कमी हो गई है. 


 रीवा के बड़े अस्‍पताल के ICU यूनिट की बिजली अचानक हुई बंद, समय रहते सुधार होने से टली 'अनहोनी'

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


कोरोना के प्रकोप को कम करने के लिए सरकार ने वीकेंड पर लॉकडाउन और नाइट कर्फ्यू जैसे उपाय लागू किए हैं लेकिन लोग इसका भी उल्‍लंघन करने से नहीं चूक रहे हैं. कोरोना प्रोटोकॉल का उल्‍लंघन करके वे न केवल अपने लिए बल्कि दूसरे लोगों के लिए भी संक्रमण का खतरा बढ़ा रहे हैं. कुछ दिन पूर्व, मध्‍य प्रदेश के मंदसौर शहर में लॉकडाउन का उल्‍लंघन करने वाले ऐसे युवाओं को पुलिस ने उठक-बैठक कराकर 'दंडित' किया था. इन युवाओं को चेतावनी दी गई है कि फिर वे ऐसी गलती को नहीं दोहराएं.