MP: 'कमलनाथ कृष्ण तो CM शिवराज मामा कंस', MPPCC दफ्तर के सामने लगी होर्डिंग

कमलनाथ सरकार की तारीफ करते हुए होर्डिंग में दावा किया गया है कि उनकी सरकार में ओबीसी को 27 फीसदी आरक्षण दिया गया. इनके अलावा सामान्य वर्ग को 10 फीसदी आरक्षण मिला. 27 लाख से अधिक किसानों का कर्ज माफ किया गया. 100 रुपये में 100 यूनिट बिजली दी गई. वृद्धावस्था पेंशन 300 से बढ़ाकर 600 रुपये किया गया.

MP: 'कमलनाथ कृष्ण तो CM शिवराज मामा कंस', MPPCC दफ्तर के सामने लगी होर्डिंग

होर्डिंग में कमलनाथ सरकार के छिंदवाड़ा मॉडल की तुलना शिवराज सरकार से की गई है.

भोपाल:

मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) की राजधानी भोपाल (Bhopal) में कांग्रेस (Congress) कार्यकर्ताओं ने प्रदेश कांग्रेस कार्यालय के बाहर एक बड़ी सी होर्डिंग लगवाई है, जिसमें पूर्व सीएम कमलनाथ (Kamal Nath) को भगवान कृष्ण और मौजूदा मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को 'कंस मामा' के रूप में चित्रित किया गया है. होर्डिंग पर कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी, राहुल गांधी, प्रियंका गांधी, मनमोहन सिंह और एआईसीसी के प्रभारी सचिव मुकुल वासनिक के साथ-साथ दिग्विजय सिंह की भी तस्वीरें लगाई गई हैं.

कांग्रेस नेता शहरयार खान ने कहा कि पोस्टर के जरिए लोग कमलनाथ से एक बार फिर राज्य का विधान सभा चुनाव (2023) लड़ने और भारतीय जनता पार्टी को सबक सिखाने की अपील कर रहे हैं. इस होर्डिंग के जरिए राज्यवासियों को जन्माष्टमी की बधाई भी दी गई है. 

श्रीनाथ नाम से डोसा की दुकान चला रहा था मुस्लिम युवक, उपद्रवियों ने कहा- दुकान का नाम बदलकर कुछ और कर दो

पिछले साल भी कमलनाथ का एक डिजिटल पोस्टर, जिसमें उन्हें 'विकास का अर्जुन' दिखाया गया था, कृष्ण जन्माष्टमी के अवसर पर सोशल मीडिया साइटों पर वायरल हुआ था. तब उसे कांग्रेस के राज्य सचिव राकेश सिंह यादव द्वारा प्रसारित किया गया था, जिसमें कमलनाथ को पार्टी के उद्धारकर्ता के रूप में दिखाया गया था.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


नई होर्डिंग में कमलनाथ सरकार के छिंदवाड़ा मॉडल की तुलना शिवराज सरकार से की गई है. लिखा गया है कि मध्य प्रदेश घोषणा वीर मामा कंस से मुक्ति मांग रहा है. कमलनाथ सरकार की तारीफ करते हुए होर्डिंग में दावा किया गया है कि उनकी सरकार में ओबीसी को 27 फीसदी आरक्षण दिया गया. इनके अलावा सामान्य वर्ग को 10 फीसदी आरक्षण मिला. 27 लाख से अधिक किसानों का कर्ज माफ किया गया. 100 रुपये में 100 यूनिट बिजली दी गई. वृद्धावस्था पेंशन 300 से बढ़ाकर 600 रुपये किया गया.