किसान आंदोलन: नरेंद्र मोदी सरकार के मंत्री बोले, 'पीएम को बदनाम करने के लिए विदेशों का सहारा ले रही कुछ ताकतें'

केंद्रीय मं‍त्री रतनताल कटारिया ने कहा कि ये लोग अब इतनी नीचता पर उतर आए हैं कि सरकार को बदनाम करने के लिए विदेशों का सहारा ले रहे हैं.

किसान आंदोलन: नरेंद्र मोदी सरकार के मंत्री बोले, 'पीएम को बदनाम करने के लिए विदेशों का सहारा ले रही कुछ ताकतें'

केंद्रीय मं‍त्री रतनताल कटारिया ने कहा, कुछ ताकतें पीएम मोदी को बदनाम करने का षड्यंत्र कर रही हैं

नई दिल्ली:

Kisan Aandolan: किसान आंदोलन (Farmer's protest) से जुड़े मुद्दे पर केंद्रीय मं‍त्री रतनताल कटारिया (Rattan Lal Kataria) ने कहा है कि देश में कुछ ताकतें ऐसी हैं जो नहीं चाहतीं कि मामले का हल निकले. उन्‍होंने कहा कि ये लोग अब इतनी नीचता पर उतर आए हैं कि सरकार को बदनाम करने के लिए विदेशों का सहारा ले रहे हैं. रेहाना जैसी शख़्सियतों से ट्वीट कराए जा रहे हैं ताकि सरकार बदनाम हो. केंद्रीय मंत्री कटारिया ने कहा कि प्रधानमंत्री आग्रह कर रहे है कि बातचीत की टेबल पर आइए. हर बिंदु पर बात कीजिए. पीएम ने कहा है कि जहां भी संभव हो पाएगा, किसानों की मांगों को पूरा किया जाएगा. उन्‍होंने कहा क‍ि पिछले 72-73 दिन का एक्सपिरेयंस बता रहा है कि कुछ ऐसी ताक़तें हैं जो नहीं चाहतीं कि मसले का हल हो. वे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को बदनाम करने का षड्यंत्र कर रही हैं.विशेषकर कांग्रेस पार्टी पिछले समय से प्रयास कर रही है कि किसी तरह मोदी जी को बदनाम किया जाए. हालांकि इसमें उनको सफलता मिलने वाली नहीं है क्‍योंकि सारी दुनिया और देश मोदी जी को प्‍यार करता हैं और इस समस्‍या का हल हम करके रहेंगे. 

कृषि मंत्री बोले - 'कृषि कानूनों पर किसानों को भड़काया गया, आंदोलन बस एक राज्य तक सीमित'

गौरतलब है कि केंद्र के तीन कृषि कानूनों के खिलाफ प्रदर्शन को अंतरराष्ट्रीय हस्तियों से समर्थन मिल रहा है. ग्रेटा थनबर्ग और रिहाना जैसी शख्सियतों ने किसान आंदोलन के समर्थन में ट्वीट किए हैं और आंदोलन को समर्थन जताया है. आंदोलन को विदेश से मिल रहे समर्थन के बारे में पूछे जाने पर भारतीय किसान यूनियन (भाकियू) के नेता राकेश टिकैत ने अपने ही अंदाज में कहा, ‘‘ मुझे क्या पता, करा होगा, मैं क्यों उन्हें जानू.'' पश्चिम उत्तर प्रदेश के मुजफ्फरनगर के रहने वाले टिकैत ने हालांकि, रिहाना, ग्रेटा थनबर्ग सहित अंतरराष्ट्रीय कलाकारों एवं कार्यकर्ताओं द्वारा उनके आंदोलन को समर्थन देने का स्वागत किया लेकिन साथ ही कहा कि वह उन्हें नहीं जानते. 


किसान संगठनों का 6 फरवरी को देशभर में चक्का जाम

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com