भारत को मिली तीसरी कोरोनावायरस वैक्सीन, रूस की Sputnik V को मिली एमरजेंसी इस्तेमाल की मंज़ूरी

कोरोना संक्रमण के बिगड़ते हालातों के बीच देश को एक और वैक्सीन के रुप में थोड़ी राहत जरूर मिली है. मंगलवार को कोविड रोधी टीके ‘SPUTNIK V' को भारत के औषधि महानियंत्रक (DGCI) से मंजूरी मिल गई.

नई दिल्ली:

कोरोना संक्रमण के बिगड़ते हालातों के बीच देश को एक और वैक्सीन के रुप में थोड़ी राहत जरूर मिली है. मंगलवार को कोविड रोधी टीके ‘SPUTNIK V' को भारत के औषधि महानियंत्रक (DGCI) से मंजूरी मिल गई. ड्रग्स कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया के वी.जी. सोमानी ने यह मंज़ूरी दी है. देश में आपात इस्तेमाल के लिए इस टीके का रूस से आयात किया जाएगा. बताते चलें कि देश में भारत बायोटेक के ‘कोवैक्सीन' और सीरम इंस्टिट्यूट ऑफ इंडिया द्वारा निर्मित ऑक्सफोर्ड-एस्ट्रोजेनेका के ‘कोविशील्ड' टीके को पहले ही मंजूरी मिल चुकी है. इस तरह यह भारत के पास कोरोना संक्रमण के खिलाफ तीसरी वैक्सीन है. 

Read Also: भारत में लगातार 7वें दिन एक लाख से ज़्यादा कोरोनावायरस केस

डॉ. रेड्डीज ने पिछले साल सितंबर में इस टीके के मेडिकल एग्जामिनेशन और भारत में इसके डिस्ट्रीब्यूशन अधिकार के लिए ‘रशियन डायरेक्ट इन्वेस्टमेंट फंड' (RDIF) के साथ भागीदारी शुरू की थी. बता दें कि स्पूतनिक वी' के तीसरे चरण के टेस्ट के  अंतरिम नतीजों में इसके 91.6 फीसदी प्रभावी होने की बात सामने आई थी. 


Read Also: सोनिया गांधी ने पीएम मोदी से की मांग- उम्र नहीं, जरूरत के मुताबिक हो टीकाकरण

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


‘SPUTNIK V' को मंजूरी मिलना भारत के लिए कई मायनों में महत्वपूर्ण है. खासकर उन राज्यों के लिए जहां वैक्सीन की कमी, टीकाकरण अभियान में आड़े आ रही थी. जानकारों का कहना है कि एक और वैक्सीन के जुड़ जाने से भारत कोरोना का मुकाबला और मजबूती से कर पाएगा.