...तो क्या एक होगा चौटाला परिवार? हरियाणा के डिप्टी CM दुष्यंत चौटाला की दादा संग ये तस्वीर बता रही अंदरूनी कहानी

2019 में हरियाणा विधान सभा चुनाव से पहले राजनीतिक महत्वाकांक्षा के चलते ओपी चौटाला के दोनों बेटों की राहें जुदा हो गई थीं. तब जेल में बंद अजय सिंह चौटाला ने छोटे भाई अभय  चौटाला से अलग होकर दोनों बेटों दुष्यंत चौटाला और दिग्विजय चौटाला के नेतृत्व में जननायक जनता पार्टी का गठन किया था. युवा जाट मतदाताओं ने तब दुष्यंत पर भरोसा कर उन्हें वोट किया और जेजेपी विधान सभा में 10 सीटें जीत गई.

...तो क्या एक होगा चौटाला परिवार? हरियाणा के डिप्टी CM दुष्यंत चौटाला की दादा संग ये तस्वीर बता रही अंदरूनी कहानी

एक शादी समारोह में अपने दादा ओम प्रकाश चौटाला का पैर छूते हरियाणा के डिप्टी CM दुष्यंत चौटाला

नई दिल्ली:

हरियाणा (Haryana) के उप मुख्यमंत्री (Deputy CM Haryana) दुष्यंत चौटाला (Dushyant Chautala) ने आज (सोमवार, 6 दिसंबर) सुबह एक ऐसी तस्वीर सोशल मीडिया पर ट्वीट की है, जो चौटाला परिवार में सुलह की ओर इशारा कर रही है. दरअसल, दुष्यंत चौटाला ने एक शादी समारोह की तस्वीर पोस्ट की है, जिसमें वह अपने दादा और हरियाणा के पूर्व मुख्यमंत्री ओम प्रकाश चौटाला का पैर छूते नजर आ रहे हैं.

यह तस्वीर रविवार रात की है, जब दोनों नेता गुरुग्राम में बीजेपी नेता की बेटी की शादी समारोह में पहुंचे थे. वहां आमना-सामना होने पर दुष्यंत चौटाला ने अपने दादा के पैर छूए. दादा ओपी चौटाला भी पोते को आशीर्वाद देते नजर आ रहे हैं. उस तस्वीर को पोस्ट करते हुए दुष्यंत ने लिखा है, "दो पलों में पूरे हो गए हो जैसे सारे अरमान, छुए दादा जी के पैर, जैसे छू लिया आसमान.."


बता दें कि तीन दिन पहले ही दुष्यंत चौटाला के पिता और जननायक जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अजय चौटाला, जो ओम प्रकाश चौटाला के बड़े बेटे हैं, ने चौटाला परिवार के एक होने के बारे में गेंद बड़े चौटाला (ओम प्रकाश चौटाला) के पाले में यह कहते हुए डाल दिया था कि अगर वह कहेंगे तो इस पर विचार होगा. उन्होंने जेजेपी और इनेलो के एकीककरण पर स्पष्ट रूप से कहा कि इसका फैसला ओम प्रकाश चौटाला को ही करना है.

दिल्ली के केवल 100 किलोमीटर के दायरे को एनसीआर में रखा जाए : CM मनोहर लाल खट्टर

बता दें कि 2019 में हरियाणा विधान सभा चुनाव से पहले राजनीतिक महत्वाकांक्षा के चलते ओपी चौटाला के दोनों बेटों की राहें जुदा हो गई थीं. तब जेल में बंद अजय सिंह चौटाला ने छोटे भाई अभय  सिंह चौटाला से अलग होकर अपने दोनों बेटों दुष्यंत चौटाला और दिग्विजय चौटाला के नेतृत्व में जननायक जनता पार्टी का गठन किया था. युवा जाट मतदाताओं ने तब दुष्यंत पर भरोसा कर उन्हें वोट किया और जेजेपी विधान सभा में 10 सीटें जीत गई.

इसके बाद जेजेपी ने बीजेपी का समर्थन दिया और मनोहर लाल खट्टर सरकार में शामिल हो गई. दुष्यंत चौटाला उप मुख्यमंत्री बनाए गए. धीरे-धीरे जाटों का झुकाव दुष्यंत से खिसकने लगा और जब किसानों का आंदोलन हुआ तब जेजेपी को लगा कि उसका वोटर उससे अलग हो रहा है. ऐसे में पहले से ही जनाधार खो चुकी इनेलो और नए संकट को देखते हुए जेजेपी भी अब एक होकर फिर से हरियाणा पर चौटाला परिवार का शासन चाह रही है, ताकि कोई चौटाला राज्य का मुख्यमंत्री बन सके. 

किसान नेताओं और हरियाणा सरकार की बातचीत विफल, चार घंटे चली चर्चा


ओम प्रकाश चौटाला 1999 से 2005 तक राज्य के मुख्यमंत्री थे. ओम प्रकाश चौटाला के पिता देवी लाल भी 1977 से 1979 और दूसरी बार 1987 से 1989 तक हरियाणा के मुख्यमंत्री रह चुके हैं. वह वीपी सिंह और चंद्रशेखर की सरकार में देश के उप प्रधानमंत्री भी रहे हैं.

वीडियो: नगालैंड में सेना का ऑपरेशन कैसे हुआ गलत, 14 लोगों गंवानी पड़ी जान

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com