राममंदिर मामला : पूर्व केंद्रीय मंत्री यशवंत सिन्‍हा का PM को लेकर ट्वीट, 'मोदी है, तो मुमकिन है...'

यशवंत सिन्‍हा, पिछले कुछ समय से पीएम मोदी के खिलाफ हमलावर रुख अख्तियार किए हुए हैं.

राममंदिर मामला : पूर्व केंद्रीय मंत्री यशवंत सिन्‍हा का PM को लेकर ट्वीट, 'मोदी है, तो मुमकिन है...'

यशवंत सिन्‍हा ने ट्वीट में लिखा-हद हो गई, राम को भी नहीं छोड़ा

खास बातें

  • पीएम पर लगातार निशाना साध रहे हैं यशवंत सिन्‍हा
  • ट्वीट में लिखा-हद ही हो गई, राम को भी नहीं छोड़ा
  • जन्‍मभूमि ट्रस्‍ट पर लगा है जमीन खरीद में भ्रष्‍टाचार का आरोप

पूर्व केंद्रीय मंत्री और तृणमूल कांग्रेस नेता यशवंत सिन्‍हा (Yashwant Sinha) ने राम मंदिर की जमीन को लेकर कथित घोटाले को लेकर पीएम नरेंद्र मोदी (Prime Minister Narendra Modi) पर निशाना साधा है. एक समय बीजेपी के वरिष्‍ठ नेताओं में शुमार किए जाने वाले और अटलजी की सरकार में अहम मंत्रालय संभाल चुके सिन्‍हा ने इस मसले पर ट्वीट किया है. अपने ट्वीट में उन्‍होंने लिखा, 'राम का साथ, मोदी का विश्‍वास और हमारा विकास. हद ही हो गई. राम को भी नहीं छोड़ा, अब क्‍या बचा? मोदी है तो मुमकिन है.' गौरतलब है कि पूर्व प्रशासनिक अधिकारी यशवंत सिन्‍हा, पिछले कुछ समय से पीएम मोदी के खिलाफ हमलावर रुख अख्तियार किए हुए हैं.

'तुम्हें यहां बसने को किसने कहा था?' नदी का पानी लाल होने पर मंत्री ने आदिवासियों को हड़काया

इससे पहले, यशवंत सिन्‍हा ने देश में कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों और अर्थव्‍यवस्‍था के ढहने को लेकर भी केंद्र सरकार पर तंज कसा था. पिछले साल उन्‍होंने व्‍यंग्‍यात्‍मक अंदाज में ट्वीट किया था- "भारतीय लोकतंत्र के इतिहास में एक सुनहरा अध्याय जोड़ने के लिए पीएम मोदी को बधाई. अगला साल और भी बेहतर होने का वादा किया गया जब भारत कोविड-19 मामलों में और ऊपर चढ़ जाएगा और अर्थव्यवस्था पूरी तरह से ध्वस्त हो जाएगी." सिन्‍हा पहले बीजेपी में थे लेकिन उन्‍होंने 2018 में पार्टी छोड़ दी थी.


वाजपेयी सरकार में मंत्री रहे यशवंत सिन्हा ने थामा TMC का हाथ, BJP के अटल युग को किया याद

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


गौरतलब है कि राम जन्मभूमि ट्रस्ट पर राम मंदिर (Ram Mandir Ayodhya) के लिए जमीन खरीदने में भ्रष्टाचार का आरोप लगा है. समाजवादी पार्टी (SP) ने अयोध्या में और आम आदमी पार्टी (AAP) ने लखनऊ में प्रेस कॉन्फ्रेंस कर आरोप लगाया कि ट्रस्ट के सचिव चंपत राय (Champat Rai) ने, जो जमीन कुछ समय पहले सिर्फ दो करोड़ रुपये में बिकी थी, उसी जमीन को कुछ वक्त बाद 18.5 करोड़ रुपये में खरीद कर बड़ा घपला किया है. चंपत राय ने इस बारे में मीडिया से कहा कि हम इन आरोपों की कोई चिंता नहीं करते. हम पर महात्मा गांधी की हत्या का भी आरोप लगा था. राय ने इन आरोपों का खंडन किया है और इन्‍हें राजनीति से प्रेरित बताया है.