आंदोलन खत्म... घर जाने लगे किसान, लेकिन रास्ते अभी भी बंद

सीमेंट की 2 फीट मोटी दीवार 2-3 दिनों से तोड़ी जा रही हैं, लेकिन अब तक टूट नहीं सकी है. बड़े-बड़े कंटेनर और बैरिकेड भी हटाये जाएंगे. अब तक कंटीले तार और कीलें काफी हद तक हटा ली गई हैं. पुलिस ने ये सब इंतज़ाम किसानों को दिल्ली आने से रोकने के लिए किए थे.

नई दिल्ली:

सिंघु बॉर्डर से किसान तो पूरी तरह हट गए हैं, लेकिन उन्हें रोकने के लिए दिल्ली पुलिस द्वारा लगाए गए बैरिकेट, कंटीले तार और मोटी दीवार अब तक नहीं हट पाये हैं. जिसके चलते ये रास्ता अभी तक नहीं खुल सका है. उम्मीद है कि रास्ता अगले 2 दिन में खुल जायेगा. दरअसल, सीमेंट की 2 फीट मोटी दीवार 2-3 दिनों से तोड़ी जा रही हैं, लेकिन अब तक टूट नहीं सकी है. बड़े-बड़े कंटेनर और बैरिकेड भी हटाये जाएंगे. अब तक कंटीले तार और कीलें काफी हद तक हटा ली गई हैं. पुलिस ने ये सब इंतज़ाम किसानों को दिल्ली आने से रोकने के लिए किए थे. अब किसान तो लगभग चले गए हैं लेकिन इन रुकावटों के चलते हाइवे अब तक बन्द ही है.

टीकरी बॉर्डर 380 दिन बाद खुला, किसान आंदोलन खत्म होने के बाद सिंघू व गाजीपुर बॉर्डर भी जल्द खुलेंगे

सिंघु बॉर्डर पर किसानों के जाने के बाद अब सड़क पर उड़ती धूल और सन्नाटा है. जैसा कि वादा किया था, किसान जाते जाते-जाते सड़क की गंदगी साफ करके गए हैं. दिल्ली की तरफ कुछ किसान मिले, जो अपनी गाड़ियों को फूलों से सजाकर घर जाते दिखे. उनके चेहरों पर जीत की खुशी साफ दिख रही थी.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


बता दें कि पिछले 1 साल से दिल्ली चंडीगढ़ हाईवे सिंघु बॉर्डर के पास बन्द था..कहा जाता है कि इससे यहां आसपास व्यवसाय चला रहे लोगों को काफी नुकसान हुआ और आमलोगों को भी परेशानी हुई.