Cyclone Tauktae: पीएम मोदी ने गुजरात के लिये 1000 करोड़ की तत्काल सहायता की घोषणा की

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Modi) ने बुधवार को चक्रवात ताउते (Cyclone Tauktae) से प्रभावित गुजरात (Gujarat) के लिये 1000 करोड़ रुपये की तत्काल आर्थिक सहायता की घोषणा की.

Cyclone Tauktae: पीएम मोदी ने गुजरात के लिये 1000 करोड़ की तत्काल सहायता की घोषणा की

पीएम मोदी ने की चक्रवात ताउते से प्रभावित गुजरात को 1000 करोड़ रुपये की मदद की घोषणा।

अहमदाबाद:

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुजरात के चक्रवात ताउते से प्रभावित इलाकों में राहत व पुनर्वास के लिए 1000 करोड़ के वित्तीय सहायता का ऐलान किया है. सभी चक्रवात प्रभावित राज्यों में मारे गए लोगों के परिजनों को 2-2 लाख रुपये की अनुग्रह राशि और आपदा में घायल हुए सभी नागरिकों को 50,000 रुपये दिए जाएंगे. चक्रवात तूफ़ान 'ताउते' ने गुजरात के तटीय इलाकों में जो कहर बरपाया है उसका प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बुधवार को हवाई सर्वेक्षण कर जायजा लिया. 3 सबसे ज्यादा प्रभावित इलाकों - भावनगर, अमरेली और गीर -सोमनाथ में नुकसान की समीक्षा के बाद प्रधानमंत्री ने गुजरात राज्य को तत्काल राहत गतिविधियों के लिए 1,000 करोड़ की आर्थिक मदद की घोषणा की. सभी चक्रवात प्रभावित राज्यों में मृतकों के परिजनों को 2 लाख रुपये की अनुग्रह राशि और घायलों को 50,000 रुपये दिए जाएंगे. केंद्र सरकार गुजरात में नुकसान का आकलन के लिए अंतर-मंत्रालयी दल भेजेगी. गुजरात के अलावा महाराष्ट्र, गोवा, केरल, कर्नाटक और राजस्थान सरकार से नुकसान का आंकलन रिपोर्ट मिलने के बाद केंद्र सरकार उन्हें तत्काल वित्तीय सहायता देगी.

Read Also: दिल्ली NCR पर भी चक्रवात ताउते का असर, सुबह से हो रही है रिमझिम बारिश, कई राज्यों में अलर्ट

इस बीच साइक्लोन ताउते के प्रकोप के बाद लाखों लोगों की जिंदगी फिर बहाल करने की जद्दोजहद के बीच मौसम विभाग ने अगले हफते एक और चक्रवाती तूफ़ान के भारतीय तट से टकराने की चेतावनी दी है.

Read Also: Cyclone Tauktae से मुंबई के Trident Hotel का हिस्सा टूटने का Video हुआ वायरल, जानें क्या है पूरी सच्चाई

मौसम विभाग के मुताबिक 22 मई के आसपास उत्तरी अंडमान समुद्र और उससे सटे पूर्व-मध्य बंगाल की खाड़ी के ऊपर एक निम्न दबाव का क्षेत्र बनने की संभावना है. इसके अगले 72 घंटे के दौरान चक्रवाती तूफान के रूप में धीरे-धीरे तेज होने का पूर्वानुमान है. इसके 26 मई की शाम तक पश्चिम बंगाल-ओडिशा के आसपास के तटों तक पहुंचने की बहुत संभावना है. ज़ाहिर है, तटीय इलाकों में प्राकृतिक आपदा से निपटने की चुनौती बड़ी हो रही है.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


पीएम मोदी ने तूफान से हुई तबाही का किया हवाई सर्वे