जानिए, कोरोना वायरस के खिलाफ 'जंंग' में कहां खड़ा है भारत...

कोरोना केसों की वृद्धि दर में गिरावट अब तक ट्रेंड बनता जा रहा है. कुछ सप्‍ताह पहले प्रतिशत 3.7 था जो इस समय गिरते हुए 2.3 तक आ गया है यानी कोरोना के रोजाना आ रहे नए केसों की रफ्तार में कमी आई है.

जानिए, कोरोना वायरस के  खिलाफ 'जंंग'  में कहां खड़ा है भारत...

भारत में कोरोना वायरस से मृत्‍यु दर दूसरे देशों की तुलना में काफी कम है (प्रतीकात्‍मक फोटो)

हर रोज कोविड-19 के कितने नए केस आ रहे हैं?
कोरोना के नए केसों में आई वृद्धि का सिलसिला अब थम रहा है. इसमें गिरावट का प्रतिशत बढ़ा है. कोरोना महामारी के कर्व के 'फ्लैट' होने से इसकी पुष्टि होती है. कोरोना केसों की वृद्धि दर में गिरावट अब तक ट्रेंड बनता जा रहा है. कुछ सप्‍ताह पहले प्रतिशत 3.7 था जो इस समय गिरते हुए 2.3 तक आ गया है यानी कोरोना के रोजाना आ रहे नए केसों की रफ्तार में कमी आई है. हालांकि यह बात भी काबिलेगौर है कि वृद्धि की यह दर भी इससमय दुनिया में सबसे अधिक है. ऐसे में इस ट्रेंड को आगे भी जारी रखने की जरूरत है, इसके लिए सोशल डिस्‍टेंसिंग के नियमों का सख्‍ती से पालन जरूरी है.

vokndbu

नए कोरोना केसों में इजाफे की यह दर बनी रही तो मध्‍य सितंबर तक भारत कोरोना केसों की कुल संख्‍या में ब्राजील को पीछे छोड़ देगा और अक्‍टूबर माह की शुरुआत तक अमेरिका को भी यह पछाड़ सकता है. यह कोरोना केसों में गिरावट का यह प्रतिशत बरकरार रहा और पहले से ज्‍यादा मजबूत हुआ तो ऐसी नौबत आने से बचा जा सकता है.

दिल्ली : बीते 24 घंटे के भीतर कोरोना के 1,215 नए मामले, 22 मरीजों की हुई मौत

hp3p5bj8

टेस्‍ट की संख्‍या में वृद्धि हो रही है?
कोरोना के केसों के कम होने की पहले वजह यह थी कि हम कम कोरोना टेस्‍ट कर रहे थे. अब देशभर में कोरोना के टेस्‍ट की संख्‍या में तेजी लाई गई है. जुलाई माह के अंत तक टेस्‍ट की संख्‍या 4.2 लाख की थी तो अब बढ़कर 9 लाख टेस्‍ट रोजाना तक पहुंच गए हैं.

हालांकि यहां एक समस्‍या है. टेस्‍ट की संख्‍या में हुई इस जबर्दस्‍त वृद्धि का एक कारण यह है कि अधिकतर राज्‍य रैपिड एंटीजन टेस्ट (RAT's) का ज्‍यादा सहारा ले रहे हैं. एंटीजन टेस्‍ट वैसे तो सस्‍ता है लेकिन यह परंपरागत RT-PCR टेस्‍ट की तुलना में कम विश्‍वसनीय माना जा रहा है. 

29% दिल्लीवासियों में मिले एंटीबॉडी : दूसरी सीरो सर्वे रिपोर्ट

njam3aa4


भारत में मृत्‍यु की 'निचली' दर
भारत में कोरोना से मौतों का प्रतिशत दूसरे देशों की तुलना में लगातार नीचे बना हुआ है. जहां इस मामलों में विश्‍व औसत 3.5 से चार प्रतिशत तक है. कुछ देशों में तो कोरोना से मौतों का प्रतिशत इससे भी बहुत ज्‍यादा है जैसे-इटली का 14 और स्‍पेन का 10 प्रतिशत.

भारत में कोरोना मृत्‍यु दर ज्‍यादातर देशों से लगातार नीचे है. पिछले तीन-चार सप्‍ताह में ये यह घटते हुए 2.4 फीसदी से 1.9 फीसदी तक आ गई है. कई लोग मानते हैं कि भारत में युवा लोगों की ज्‍यादा संख्‍या के कारण मृत्‍यु दर कम है.

9ufjpo


कोराना का R फैक्‍टर
R' रेट यानी कि रि-प्रोडक्‍शन रेट. सरल शब्‍दों में कहें तो एक संक्रमित व्‍यक्ति से कितने लोग संक्रमित हो रहे हैं. यदि .'R' रेट 2.0 है तो यह दर्शाता है कि कोविड-19 से संक्रमित एक व्‍यक्ति औसत के रूप में अन्‍य दो लोगों को संक्रमित करेगा. ये दो लोगों में से प्रत्‍येक दो-दो अन्‍य लोगों को संक्रमित करेंगे. इस तरह संक्रमण बढ़ते हुए सोसाइटी में महामारी का रूप ले लेगा.यह सुनिश्चित करना जरूरी है कि 'R' रेट कम से कम हो. भारत में इस मामले में स्थिति में सुधार हो रहा है. यह 1.19 से कम होकर 1.05 तक आ गया. भारत को आर फैक्‍टर 1.0 या इससे भी नीचे लाने का टारगेट सेट करना होगा. यूके यानी यूनाइटेड किंगडम में कुछ माह पहले भारत के ज्‍यादा केस थे लेकिन आर फैक्‍टर 1.0 के ही नीचे था.

i3476re8


पॉजिटिविटी रेट
पॉजिटिविटी रेट में आई गिरावट को कोरोना के खिलाफ जंग के लिहाज से अच्‍छा संकेत माना जाता है.हालांकि भारत में कोरोना टेस्‍ट की संख्‍या में बहुत अधिक वृद्धि के कारण पॉजिटिविटी रेट का महत्‍व कुछ कम हो गया है. 18 अगस्‍त को 7.7 प्रतिशत था. 

jvcc24no


(सभी ग्राफ्स 23-25 जुलाई से 18 अगस्‍त तक की अवधि के हैं.)

नोट:एंटीजन टेस्‍ट महत्‍वपूर्ण हैं लेकिन पीसीटी टेस्‍ट की तुलना में इनकी अलग भूमिका होती है. परिणाम की गति और कम लागत के नाते एंटीजन टेस्‍ट का काम कोरोना के पॉजिटिव मामलों की पहचान करना है. दोनों टेस्‍ट की मैथेडोलॉजी एक दूसरे से अलग है. इस लिहाज से एंटीजन टेस्‍ट और पीसीआर टेस्‍ट के परिणामों को समग्र पॉजिटिविटी रेट से मिलाकर नहीं देखा जाना चाहिए. 


कोरोना: क्या एहतियातों के बीच बच्चों को संक्रमण से बचाया जा सकता है?

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com