देश में कोविड-19 के केस तेजी से बढ़ने की स्‍वास्‍थ्‍य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने बताई वजह...

कोरोना वैक्‍सीन संबंधी एक प्रश्‍न पर उन्‍होंने बताया कि लगभग 7 वैक्सीन क्लीनिकल ट्रायल में हैं जबकि दो दर्जन प्री क्लीनिकल ट्रायल में हैं.

देश में कोविड-19 के केस तेजी से बढ़ने की स्‍वास्‍थ्‍य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने बताई वजह...

डॉ. हर्षवर्धन ने बताया, इस समय करीब 7 वैक्सीन क्लीनिकल ट्रायल में हैं जबकि दो दर्जन प्री क्लीनिकल ट्रायल में हैं

खास बातें

  • कहा, लोग सोच रहे वैक्‍सीन आ गई, सब ठीक हो गया
  • अब लोग कोरोना का गंभीरता से नहीं ले रहे हैं
  • कोरोना की स्थिति पर सरकार रखे है बारीकी से नजर
नई दिल्ली:

India Corona cases update: भारत में कोरोना के केसों में पिछले करीब एक माह में जबर्दस्‍त इजाफा हुआ है. स्‍वास्‍थ्‍य विशेषज्ञ इसे कोविड-19 की दूसरी लहर मान रहे हैं. देश मे कोरोना के केस अचानक इतनी तेजी से क्यों बढ़ रहे हैं, केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन (Dr Harsh Vardhan) ने इसकी वजह बताई है. डॉ. हर्षवर्धन ने कहा कि देश मे बहुत लोगों को लगता है कि कोविड वायरस के खिलाफ वैक्सीन आ गयी है. अब सब ठीक हो गया है यानी लोग कोरोना को अब गंभीरता से नहीं ले रहे हैं. लोग कोविड-19 को हल्के में ले रहे हैं. सुपर स्प्रेडर इवेन्ट्स हो रहे हैं.

फारूक अब्दुल्ला कोरोना वायरस से संक्रमित, पूरा परिवार हुआ क्वारंटीन

उन्‍होंने कहा कि ये रेयर केस है कि वैक्सीन के बाद दोबारा इंफेक्शन हुआ हो, लेकिन वैक्सीन लेने के बाद अगर इंफेक्शन हो जाता है तो जान का खतरा नही होता है. सभी परिस्थितियों में कोविड को हैंडल का तरीका पहले से स्थापित हो चुका है. 
टेस्ट,ट्रैक और ट्रीट ये जरूरी है. ट्रैक के बाद आइसोलेशन और ट्रीटमेंट जरूरी है. कोराना के खिलाफ तैयारी का जिक्र करते हुए उन्‍होंने बताया क 20 लाख बेड बनाए गए हैं. भारत सरकार सभी केस को गहराई से देख रही है. पिछले हफ्ते 47 जिलों के साथ मीटिंग हुई थी. आज सुबह 430 जिलों में 7,14, 21 या 28 दिनों में केस नही आया है.

कोरोना वैक्‍सीन संबंधी एक प्रश्‍न पर उन्‍होंने बताया कि लगभग 7 वैक्सीन क्लीनिकल ट्रायल में हैं जबकि दो दर्जन प्री क्लीनिकल ट्रायल में हैं. उन्‍होंने बताया कि सभी स्टेट्स को 17 जनवरी 2020 से गाइडलाइन दी जा रही है. 
प्रधानमंत्री, कैबिनेट सेक्रेटरी, राज्‍यों के चीफ सेक्रेटरी का स्वास्थ्य मंत्री के साथ लगातार संवाद चल रहा है. कोविन प्लेटफॉर्म के जरिये वैक्सीन दी जा रही है.डॉ हर्षवर्धन ने बताया कि परसों यानी 1 अप्रैल से 45 साल से ऊपर के लोगों को 50 हजार हजार स्थानों पर वैक्सीन उपलब्ध होगी. अब तक बड़ी संख्या में रजिस्ट्रेशन इसके लिए लोगों ने कराए हैं.
 वैक्‍सीनेशन साइट पर भी रजिस्ट्रेशन करवाया जा सकता है. उन्‍होंने कहा कि थोड़ा समय और कोविड अप्रोप्रियट बिहेवियर और वैक्सीन आंदोलन को लेकर समर्थन देंगे तो कोविड पर विजय प्राप्त प्राप्‍त की जा सकेगी.


Covid-19: महाराष्ट्र में कोरोना वायरस संक्रमण के 31,643 नए मामले, 102 मरीजों की मौत

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


महाराष्ट्र में कोरोना के बढ़ते मामलों को लेकर उन्‍होंने कहा कि महाराष्ट्र और चार पांच राज्य में 85 से 90 फीसदी केस हैं. देश मे 4034 लैब स्थापित हो चुकी है.डॉ हर्षवर्धन ने बताया कि आज मैंने पत्नी नूतन गोयल के साथ दूसरी डोज ली है. पहली डोज 2 मार्च को ली थी. डोज लेने के 30 मिनट बाद और पहली डोज के बाद किसी भी तरह की साइड इफेक्ट नही हुआ है. पहले भी कई बार कहा जा चुका है कि दोनों वैक्सीन सेफ हैं, अफवाहों पर भरोसा न करें. उन्‍होंने कहा कि दूसरी डोज के बाद दो हफ्ते बाद शरीर में एंटीबॉडी होती है. वैक्सीन के बाद भी गाइडलाइन का पालन करना है. किसी भी तरह की लापरवाही न करें. उन्‍होंने कहा कि भारत से हम अब तक 6 करोड़ से ज्यादा डोज 84 देशों को दे चुके हैं.