परिवार समेत जहर पीने वाले शख्स को चेक देते फोटो खिंचाने पर घिरीं BJP विधायक, VIDEO सामने आया

बीजेपी एमएलए कृष्णा गौर ने कहा कि उन्होंने यह मामला मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के सामने रखा है. इसके बाद उन्होंने दो लाख रुपये का चेक तत्काल पहुंचाया है. इसके बाद यह चेक मरीज को सौंपा गया है.

भोपाल:

मध्य प्रदेश की बीजेपी सरकार (BJP MLA) की एक विधायक जिंदगी और मौत के बीच झूल रहे एक शख्स को मदद के लिए चेक देने के साथ फोटो खिंचवाने को लेकर घिर गई हैं. गोविंदपुरा विधानसभा से बीजेपी विधायक कृष्णा गौर (Krishna Gaur) की इस तस्वीर पर विवाद खड़ा हो गया है. गौर भोपाल के आनंदनगर के गायत्री अस्पताल गई और उस शख्स को चेक देकर तस्वीरें खिंचवाई जो. खुद अस्पताल में भर्ती है. उसकी दो बेटियों और मां की मौत हो चुकी है. दरअसल भोपाल में कर्ज में डूबे एक मैकेनिक ने अपनी दो बेटियों, पत्नी और मां के साथ जहर पी लिया था. अभी तक इस मामले में मैकेनिक की दो बेटियों और मां की मौत हो चुकी है.

इस मामले में पुलिस ने 4 महिला सूदखोरों के खिलाफ मामला दर्ज किया है. दरअसल भोपाल के पिपलानी में रहने वाले एक ही परिवार के 5 लोगों ने जहर खाकर आत्महत्या करने की कोशिश की थी. इस घटना से काफी हड़कंप मचा था. इसमें दोनों बच्चियों और वृद्ध महिला की मौत हो गई थी. पुलिस को मौके से सुसाइड नोट भी मिला था. इसमें बच्चियों ने दो महिलाओं को आरोपी बताया है. मृतक बच्चों में एक बच्ची की उम्र 21 साल और दूसरी बच्ची की उम्र 16 साल बताई जा रही है.


बताया जा रहा है कि इस परिवार ने 2 प्रतिशत ब्याज दर पर 3.72 लाख रुपये का लोन लिया था. इसमें से 80,000 रुपये उन्‍होंने लौटा भी दिए थे, लेकिन उन्‍हें कर्ज देने वाले 10,000 रुपये प्रति सप्ताह ब्याज के भुगतान के लिए दबाव बना रहे थे. आरोपियों ने इन लोगों ने परिवार के सदस्‍यों को फर्जी मामलों में फंसाने और बेटियों के साथ रेप की धमकी भी दी थी. इससे वे बुरी तरह परेशान थे. पुलिस ने इस मामले में चार महिलाओं के खिलाफ केस दर्ज कर जांच शुरू कर दी है. एक वीडियो भी सामने आया है. इसमें दो पालतू कुत्‍तों और एक सफेद चूहे को मरा पड़ा देखा जा सकता है, जबकि दीवारों पर 'हम बुजदिल नहीं, मजबूर हैं' और 'हमें न्याय चाहिए' लिखा है.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


बीजेपी एमएलए कृष्णा गौर ने कहा कि उन्होंने यह मामला मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के सामने रखा है. इसके बाद उन्होंने दो लाख रुपये का चेक तत्काल पहुंचाया है. इसके बाद यह चेक मरीज को सौंपा गया है. पीड़ित परिवार को सहायता राशि देने के लिए ही वो वहां पर गई थीं.