पूर्णिया हत्याकांड : तेजस्वी चाहते हैं कि उनके खिलाफ CBI जांच हो! नीतीश कुमार को लिखी चिट्ठी

Bihar Election 2020: तेजस्वी यादव ने नीतीश कुमार से कहा- गृहमंत्री के नाते अगर आप चाहें तो नामांकन के पूर्व हमें गिरफ्तार कर पूछताछ के लिए बुला सकते हैं

पूर्णिया हत्याकांड : तेजस्वी चाहते हैं कि उनके खिलाफ CBI जांच हो! नीतीश कुमार को लिखी चिट्ठी

2020 Bihar Assembly Election: तेजस्वी यादव ने सीएम नीतीश कुमार को पत्र लिखा है.

पटना:

Bihar Election 2020: बिहार (Bihar) के नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव (Tejashwi Yadav) ने पूर्णिया हत्याकांड (Purnia murder case) को लेकर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार (Nitish Kumar) को चिट्ठी लिखी है. तेजस्वी ने खुद के खिलाफ ही सीबीआई जांच (CBI Inquiry) की अनुशंसा करने की मांग मुख्यमंत्री से की है. उन्होंने नीतीश कुमार से कहा है कि ''मेरा मानना है कि कानून अपना काम करे, त्वरित अनुसंधान हो, और जैसी आपके शासन की प्रवृत्ति रही है, सत्ता शीर्ष पर बैठे आला लोग इसे प्रभावित करने के लिए स्वतंत्र हैं.''

तेजस्वी यादव ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को भेजे गए पत्र में लिखा है कि ''कुछ दिन पहले पूर्णिया के एक सामाजिक राजनैतिक कार्यकर्ता की जघन्य हत्या की गई. अत्यधिक व्यस्तता की वजह से मुझे थोड़ी देर से तमाम मामले की जानकारी प्राप्त हुई. फिर हमने यह भी देखा कि एक प्रेरित एफआईआर जिसमें मुझे औेर मेरे बड़े भाई को नामजद करने के बाद आपके मीडिया प्रबंधन के कौशल की कहानियां सामने आने लगीं.''  

आरजेडी नेता ने लिखा है कि ''दिन रात आपके प्रवक्ताओं/नेताओं की ओछी और आधारहीन टिप्पणियों के बावजूद मेरा मानना है कि कानून अपना काम करे,  त्वरित अनुसंधान हो, और जैसी आपके शासन की प्रवृत्ति रही है, सत्ता शीर्ष पर बैठे आला लोग इसे प्रभावित करने के लिए स्वतंत्र हैं. आपके अपने की लोग कई बार आपके अधीन काम कर रही बिहार पुलिस की साख और काबिलियत पर प्रश्न चिन्ह उठा चुके हैं.'' 


तेजस्वी का चुनावी दांव- 'पहली कैबिनेट में पहली कलम से बिहार के 10 लाख युवाओं को देंगे जॉब'

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


तेजस्वी ने लिखा है कि ''पीड़ित परिवार को यथाशीघ्र न्याय मिले और दूध का दूध पानी का पानी हो, इस मंशा के साथ मैं आपसे आग्रह करता हूं कि इस मामले की राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय स्तर की किसी भी एजेंसी से अविलंब जांच कराने की अनिुशंसा की जाए. गृहमंत्री के नाते अगर आप चाहें तो नामांकन के पूर्व हमें गिरफ्तार कर पूछताछ के लिए बुला सकते हैं. आशा है इस पर त्वरित विचार करते हुए अनुसंधान की जिम्मेदारी सीबीआई को सौंपने की अनुशंसा करेंगे.''