SAD में जाकर उसे तोड़ा, फिर वापस कांग्रेस में आ गए : कुछ ऐसा है कैप्टन का सियासी सफर

Amarinder Singh Resigns: कैप्टन अमरिंदर सिंह ने आज अपना इस्तीफा सौंपने के बाद कहा कि समय आने पर वह अपने विकल्पों का प्रयोग करेंगे. अब सभी की निगाहें उनके अगले कदम पर होंगी.

SAD में जाकर उसे तोड़ा, फिर वापस कांग्रेस में आ गए : कुछ ऐसा है कैप्टन का सियासी सफर

पंजाबः कैप्टन अमरिंदर सिंह ने सीएम पद से दिया इस्तीफा. (फाइल फोटो)

नई दिल्ली:

अब भी यह स्पष्ट नहीं है कि कैप्टन अमरिंदर सिंह (Amarinder Singh) पंजाब में कांग्रेस (Punjab Congress) का साथ देते रहेंगे या पार्टी से नाता तोड़ लेंगे.. उन्होंने खुद कहा कि वे अपमानित हुए और उन्हें इस्तीफे का फैसला लेना पड़ा. यह भी अभी तक स्पष्ट नहीं है कि क्या वह अन्य दलों में शामिल होंगे, चाहे वह भाजपा हो, पुराने प्रतिद्वंद्वी शिरोमणि अकाली दल (शिअद), या नौसिखिया आम आदमी पार्टी (आप). कांग्रेस में कैप्टन के करियर की शुरुआत भी अजीब थी. वह 1980 के दशक में कांग्रेस में शामिल हुए फिर शिअद में चले गए. शिअद को विभाजित कर फिर कांग्रेस में लौट आए थे.

विडंबना यह है कि उन्हें ऐसे समय में पद छोड़ने के लिए मजबूर किया गया है जब कांग्रेस खुद एक अन्य राजनेता नवजोत सिंह सिद्धू को तरजीह देती दिख रही है, जो प्रतिद्वंद्वियों के साथ कुछ साल बिताने के बाद पार्टी में शामिल हुए थे. इसमें कोई शक नहीं है कि 79 वर्षीय कैप्टन निर्विवाद रूप से पंजाब के राजनीतिक परिदृश्य में वर्षों से एक बड़ी और मजबूत उपस्थिति बनाए हुए हैं. भले ही उनकी पार्टी हाल के दिनों में देश के कई अन्य हिस्सों में हाशिये पर चली गई हो.

हाल के महीनों में राजनीतिक संकट के बावजूद एक कट्टर देशभक्त के रूप में कैप्टन अमरिंद सिंह की छवि बेदाग रही है. यहां तक ​​कि वैचारिक प्रतिद्वंद्वियों भी उनकी प्रशंसा करते रहे हैं.

भारतीय ओलंपिक खिलाड़ियों के लिए उनके हालिया भव्य भोज गर्मजोशी से भरा था, जिसकी खबर चर्चा हुई थी. राष्ट्रीय सुरक्षा के मामलों में उनके कड़े बयानों और विशेष रूप से पाकिस्तान के खिलाफ उनका सख्त रवैया हमेशा सुर्खियों में रहता है. साथ ही यह भी साबित करता है कि एक सैनिक-हमेशा-एक-सैनिक व्यक्तित्व के साथ ही जीता है.

1942 में जन्मे अमरिंदर सिंह एक युद्ध में भाग लेने वाले भारत के दुर्लभ राजनेताओं में से एक हैं. 1965 में जब पाकिस्तान के साथ युद्ध छिड़ा तो वह भारतीय सेना की सिख रेजीमेंट में कैप्टन थे. 15 साल बाद, वह कांग्रेस में शामिल हो गए और पटियाला सीट जीतकर लोकसभा में प्रवेश किया. यह ऐसे समय में था जब आपातकाल के बाद विपक्ष में करीब तीन साल बाद पार्टी सत्ता में लौटी थी.

हालांकि, सिखों के सबसे पवित्र स्थल स्वर्ण मंदिर में 1984 के ऑपरेशन ब्लू स्टार के बाद अमरिंदर सिंह कांग्रेस से अलग हो गए थे. तब वह प्रतिद्वंद्वी पार्टी शिअद में शामिल हो गए, केवल एक अलग समूह बनाने के लिए जो अंततः कांग्रेस में शामिल हो गया.

वह राज्य की शिअद सरकार में मंत्री भी बने थे. 1990 के दशक की शुरुआत में शिअद से अलग होना शुभ संकेत नहीं था, जैसा कि उनके अलग हुए समूह शिअद-पंथिक के विनाशकारी चुनावी प्रदर्शन से स्पष्ट था.

वह चरण उस दशक के अंत में समाप्त हो गया जब वह कांग्रेस पार्टी में लौट आए. वह 2002 में पहली बार पंजाब के मुख्यमंत्री बने और पूरे पांच साल का कार्यकाल पूरा किया. एक दशक बाद, 2017 में, वह सत्ता में फिर लौट आए.

उनके दूसरे कार्यकाल की दूसरी छमाही में पंजाब, पड़ोसी राज्य हरियाणा और ज्यादातर उत्तरी भारत के अन्य हिस्सों में केंद्र के कृषि कानूनों के खिलाफ विरोध देखा गया.

यहां तक ​​​​कि जैसे ही यह लगने लगा कि सुलगता किसान आंदोलन उन्हें मुख्यमंत्री के रूप में दूसरे सीधे कार्यकाल की ओर ले जाएगा, पंजाब कांग्रेस में गुटबाजी तेज हो गई.

महीनों तक उनका सामना सिद्धू से हुआ, जो राज्य में पार्टी के कम से कम एक वर्ग और उसके कई विधायकों को प्रेरित करते दिख रहे थे. महत्वपूर्ण रूप से, पूर्व क्रिकेटर पर पार्टी आलाकमान का पूरा सहयोग दिख रहा था.

अमरिंदर सिंह को कुछ सप्ताह पहले नवजोत सिंह सिद्धू की पंजाब कांग्रेस प्रमुख के रूप में पदोन्नति स्वीकार करनी पड़ी, लेकिन जाहिर है कि समस्या यहीं समाप्त नहीं हुई.


आज अपना इस्तीफा सौंपने के बाद, उन्होंने कहा कि समय आने पर वह अपने विकल्पों का प्रयोग करेंगे. अब सभी की निगाहें उनके अगले कदम पर होंगी.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


यह भी पढ़ेंः