गरीब पिता की 'पढ़ाकू' बेटी को ऑनलाइन क्‍लास के लिए चाहिए था स्‍मार्टफोन, तापसी पन्‍नू ने भेजा iPhone

परिवार की जरूरत का पता लगने के बाद संपर्क करने में 32 साल की तापसी पन्‍नू सबसे आगे रहीं, उन्‍होंने लिखा कि वह तुरंत एक फोन भेज रही हैं और यह आईफोन आज इस छात्रा तक पहुंच गया.

गरीब पिता की 'पढ़ाकू' बेटी को ऑनलाइन क्‍लास के लिए चाहिए था स्‍मार्टफोन, तापसी पन्‍नू ने भेजा iPhone

तापसी पन्‍नू ने मदद के लिए फौरन हाथ बढ़ाते हुए छात्रा को आईफोन भेजा

बेंगलुरू:

बॉलीवुड एक्‍ट्रेस तापसी पन्‍नू (Taapsee Pannu) ने बड़ा दिल दिखाते हुए कर्नाटक की उस स्‍टूडेंट (Karnataka student)को आईफोन (iPhone)भेजा है जिसके पिता ने खस्‍ता आर्थिक स्थिति का हवाला देते हुए प्रतिभावान बेटी की एजुकेशन में मदद के लिए स्‍मार्टफोन की गुहार लगाई थी. कार वॉशर के लौर पर काम करने वाले अपनी बेटी की ऑलनाइन शिक्षा के लिए स्‍मार्टफोन की जरूरत थी. NDTV ने इस लड़की की स्‍टोरी प्रमुखता से‍ दिखाई थी जिसने अपने PUC या प्री-यूनिवर्सिटी कॉलेज परीक्षाओं में 94 प्रतिशत अंक हासिल किए थे. इस स्‍टोरी के लोगों के सामने आने के बाद कई लोगों ने परिवार की मदद के लिए स्मार्टफोन भेजने की पेशकश की वहीं कुछ लोगों ने इस लड़की और पढ़ाई में शानदार प्रदर्शन करने वाली उसकी दो बहनों की शिक्षा का खर्च उठाने की पेशकश भी की 


परिवार की जरूरत का पता लगने के बाद संपर्क करने में 32 साल की तापसी पन्‍नू सबसे आगे रहीं, उन्‍होंने लिखा कि वह तुरंत एक फोन भेज रही हैं और यह आईफोन आज इस छात्रा तक पहुंच गया. इस छात्रा ने एनडीटीवी को बताया,  "आज, मुझे तापसी मैम से फोन मिला. यह एक आईफोन है, जिस पर मुझे विश्वास नहीं हो रहा है. मैंने इसकी कल्पना भी नहीं की थी! मैं कड़ी मेहनत करूंगी और NEET (मेडिकल प्रवेश परीक्षा) क्लियर करने की कोशिश करूंगी. आपका आशीर्वाद हमेशा मेरे साथ रहे." तीन बेटियों की पढ़ाई के लिए इनके पिता ने अपने रिश्तेदारों से पैसे उधार लिए हैं और शिक्षा के लिए अपनी पत्नी के सोने के गहने तक बेच दिए हैं. पिता का कहना था कि स्मार्टफोन बेटी की ऑनलाइन क्‍लासेज के लिए मददगार होगा लेकिन यह उसके परिवार के बजट से बाहर है.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


इस छात्रा के पिता उत्तर कर्नाटक के गडग में कारों की धुलाई का काम करते हैं और महीने भर में बमुश्किल 6,000 रुपये कमा पाते हैं. गौरतलब है कि कोरोना महामारी के चलते ऑनलाइन क्‍लास ही संचालित होने के कारण कई छात्रों और परिवारों को भी इसी तरह की चुनौतियों का सामना करना पड़ रहा है. कोरोनावायरस महामारी को काबू करने के लिए सरकार ने मार्च माह से देशभर में लॉकडाउन लागू किया था. हालांकि लॉकडाउन को तो चरणबद्ध तरीके से खोला जा रहा है लेकिन स्‍कूल-कॉलेज अभी भी बंद रखे गए हैं, ऐसे में देशभर के अधिकांश स्कूलों और कॉलेजों में कक्षाएं ऑनलाइन आयोजित की जा रही हैं.