विज्ञापन
Story ProgressBack
This Article is From Nov 16, 2022

World COPD Day: वायु प्रदूषण सीओपीडी के लिए कितना खतरनाक और फेफड़ों को कैसे इफेक्ट करता है? जानिए

World COPD Day: विश्व सीओपीडी दिवस हर साल 16 नवंबर को मनाया जाता है. साल 2022 के लिए वर्ल्ड सीओपीडी दिवस की थीम "जीवन के लिए आपके फेफड़े" है. इस दिन का उद्देश्य दुनिया भर में सीओपीडी के बोझ को कम करने की स्थिति और तरीकों के बारे में जागरूकता पैदा करना है.

World COPD Day: वायु प्रदूषण सीओपीडी के लिए कितना खतरनाक और फेफड़ों को कैसे इफेक्ट करता है? जानिए
सीओपीडी प्रगतिशील फेफड़ों के रोगों का एक ग्रुप है.

World COPD Day 2022: क्रॉनिक ऑब्सट्रक्टिव पल्मोनरी डिजीज (COPD) दुनिया भर में मौत का तीसरा प्रमुख कारण है. विश्व स्वास्थ्य संगठन के अनुसार, सीओपीडी दुनिया भर में 3.23 मिलियन मौतों का कारण बना और उनमें से लगभग 90 प्रतिशत मौतें 70 साल से कम उम्र के लोगों की थीं और लो और मध्यम आय वाले देशों में हुईं. वायु प्रदूषण का सीओपीडी पर सीधा प्रभाव पड़ता है, वायु प्रदूषण के संपर्क में आने के लगभग तुरंत बाद लोगों को सांस की तकलीफ, खांसी, थूक, सिरदर्द और चेहरे और गले पर सूखापन के लक्षणों का अनुभव होता है.

सूखी खांसी के लिए आजमाए हुए 4 कारगर घरेलू उपाय, तुरंत मिलेगा गले का आराम

सीओपीडी प्रगतिशील फेफड़ों के रोगों का एक समूह है जो सामान्य, रोकथाम योग्य और उपचार योग्य हैं. यह आम तौर पर 35 से 40 साल से अधिक आयु के रोगियों में धूम्रपान इतिहास के साथ या बिना धूम्रपान के इतिहास में देखा जाता है और ज्यादातर पुरुषों में देखा जाता है, हालांकि धीरे-धीरे महिलाओं में इसका प्रचलन बढ़ रहा है. सीओपीडी वाले ज्यादातर लोगों में वातस्फीति होती है, एक ऐसी स्थिति जिसमें एल्वियोली (फेफड़ों में हवा की थैली) धूम्रपान से नष्ट हो जाती है. हवा की थैली कमजोर हो जाती है और अंततः टूट जाती है, जो फेफड़ों के सतह क्षेत्र और ब्लड फ्लो तक पहुंचने वाली ऑक्सीजन की मात्रा को कम कर देती है. सीओपीडी की छत्रछाया में आने वाली एक अन्य स्थिति क्रोनिक ब्रोंकाइटिस है, जिसमें ब्रोन्कियल ट्यूब की परत सूजन का अनुभव करती है, जिन लोगों को ब्रोंकाइटिस होता है उन्हें अक्सर लगातार खांसी होती है जो गाढ़ा, फीका पड़ा हुआ या पीपयुक्त थूक लाती है. उन्हें घरघराहट, सीने में दर्द और सांस की तकलीफ का भी अनुभव हो सकता है.

सर्दियों में अपनाएं ये आसान स्किन केयर रूटीन, करने होंगे सिर्फ 3 काम और मक्खन जैसी कोमल रहेगी त्वचा

सीओपीडी से सांस लेना मुश्किल हो जाता है. कभी-कभी खांसी और सांस की तकलीफ के साथ शुरुआत में लक्षण हल्के हो सकते हैं. जैसे-जैसे यह विकसित होता है, लक्षण अधिक स्थिर हो जाते हैं और सांस लेने में तेजी से मुश्किल हो सकती है. व्यक्ति को सीने में जकड़न, ऊर्जा की कमी, पैरों या टखनों में सूजन और वजन कम होने का भी अनुभव होता है.

सीओपीडी के कारणों को कई कारकों से जोड़ा जा सकता है जैसे कि धूम्रपान, संक्रमण, पारिवारिक इतिहास और अस्थमा जैसी अन्य बीमारियां. हालांकि, मुख्य कारण लंबे समय तक वायु प्रदूषण, जहरीले धुएं और अन्य फेफड़ों की जलन के संपर्क में रहना है. घर के अंदर का वायु प्रदूषण वायु प्रदूषकों के संपर्क में आने का एक स्रोत भी हो सकता है, जो कई प्रदूषकों से बने होते हैं, जिनमें पर्यावरण या सेकेंड हैंड धुएं और घरेलू ताप और खाना पकाने के लिए सोलिड फ्यूल का दहन शामिल है.

उड़द की दाल खाने से Diabetes में कैसे जल्द कंट्रोल हो जाता है Blood Sugar लेवल, जानिए

यह बीमारी 30 के दशक के अंत से लेकर वृद्धावस्था तक लोगों को प्रभावित कर सकती है, जो पहले से मौजूद पुरानी फेफड़ों की बीमारियों जैसे लगातार अस्थमा से पीड़ित हैं. अगर ये हाई जोखिम वाले लोग लंबे समय तक वायु प्रदूषण के संपर्क में रहते हैं, तो यह उनके फेफड़ों की लोकल इम्यूनिटी को प्रभावित कर सकता है जिससे बार-बार संक्रमण हो सकता है और सीओपीडी बढ़ सकता है. इस बात के भी प्रमाण हैं कि जो बच्चे अत्यधिक प्रदूषित क्षेत्रों में बड़े होते हैं उनमें अस्थमा विकसित होने की संभावना अधिक होती है. कभी-कभी फेफड़ों को नुकसान अपरिवर्तनीय होता है और कई सालों तक पीड़ित हो सकता है या जीवन भर भी पीड़ित हो सकता है जो सीओपीडी में उनके मध्य आयु में समाप्त होता है. गंभीर वायु प्रदूषण की स्थिति में रहना आदर्श नहीं है और स्थिति को सुधारने के लिए तत्काल प्रयास किए जाने चाहिए.

(डॉ. दविंदर कुंद्रा, सलाहकार पल्मोनोलॉजी, एचसीएमसीटी मणिपाल अस्पताल, द्वारका)

अस्वीकरण: इस लेख में व्यक्त किए गए विचार लेखक के निजी विचार हैं. एनडीटीवी इस लेख में दी गई किसी भी जानकारी की सटीकता, पूर्णता, उपयुक्तता या वैधता के लिए ज़िम्मेदार नहीं है. सभी जानकारी यथावत आधार पर प्रदान की जाती है. लेख में दिखाई देने वाली जानकारी, तथ्य, या राय एनडीटीवी के विचारों को प्रतिबिंबित नहीं करते हैं और एनडीटीवी इसके लिए कोई जिम्मेदारी या उत्तरदायित्व नहीं लेता है.

अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है. यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है. अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें. एनडीटीवी इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है.

NDTV.in पर ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें, व देश के कोने-कोने से और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं

फॉलो करे:
डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • मराठी
  • 24X7
Choose Your Destination
Previous Article
Cervical Cancer : सर्वाइकल कैंसर क्या है, शुरुआती लक्षण और बचाव के उपाय
World COPD Day: वायु प्रदूषण सीओपीडी के लिए कितना खतरनाक और फेफड़ों को कैसे इफेक्ट करता है? जानिए
Disadvantages Of Egg: These People Should Avoid Eating Eggs
Next Article
Disadvantages Of Egg: भूलकर भी ये लोग ना करें अंडे का सेवन, नुकसान जानकर हो जाएंगे हैरान
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com
;