व्हाइट लंग्स निमोनिया क्या है? कैसे पहचानें इसके लक्षण, कारण और जानिए इलाज के तरीके

यहां हम व्हाइट लंग्स निमोनिया के लक्षण, कारण, उपचार और रोकथाम के बारे में बता रहे हैं जिन्हें आपको जरूर जान लेना चाहिए.

व्हाइट लंग्स निमोनिया क्या है? कैसे पहचानें इसके लक्षण, कारण और जानिए इलाज के तरीके

खांसी में खूनी, पीला या हरा बलगम आ सकता है, निमोनिया का संकेत हो सकता है.

व्हाइट लंग्स निमोनिया क्या है? लंग्स एक्स-रे पर सफेद धब्बे निमोनिया का संकेत देते हैं. फेफड़े में सूजन बैक्टीरिया, वायरल या केमिकल रिस्क के कारण है या नहीं इसके लिए और टेस्ट की जरूरत हो सकती है. चेस्ट एक्स-रे में हमारे फेफड़ों में हवा काली दिखाई देती है, जो दर्शाता है कि हवा भरी हुई है. निमोनिया होने पर आपके फेफड़ों के कुछ एरिया लिक्विड से भर सकते हैं, जिससे एक्स-रे पर जो क्षेत्र काले या गहरे दिखाई देने चाहिए वे सफेद दिखाई देने लगते हैं. हालांकि आजकल निमोनिया को आमतौर पर "व्हाइट लंग्स" कहा जाता है. कई बीमारियां रेस्पिरेटरी सिस्टम पर प्रभाव डाल सकती हैं और फेफड़ों के कुछ एरिया असामान्य रूप से "सफेद" हो सकते हैं.

व्हाइट लंग्स के लक्षण | Symptoms of White Lungs

अगर वायरस ब्रोन्कियल नलियों में जाता है, तो यह अपर रेस्पिरेटरी सिस्टम में लक्षण पैदा कर सकता है जैसे बहती या भरी हुई नाक, गले में खराश और खांसी. थूक जो अचानक हरा हो जाता है या जिसमें खून की धारियां होती हैं, वह वायरस या बैक्टीरिया के कारण हो सकता है जो लंग्स टिश्यू में प्रवेश करता है और सांस लेने में कठिनाई पैदा करता है.

ये भी पढ़ें: आंखों में ये 3 बदलाव हार्ट अटैक होने का देते हैं संकेत, जानें आंखों में किस वजह से दिखते हैं ये लक्षण

लक्षणों की पहचान कैसे करें?

  • खांसी, जिसमें खूनी, पीला या ग्रीन म्यूकस निकल सकता है.
  • पसीना, ठंड लगना और बुखार
  • थकान और एनर्जी की कमी
  • सांस लेने में कठिनाई तेज, उथली सांस लेना
  • सीने में तेज या चुभने वाली बेचैनी जो डीप ब्रीदिंग लेने या खांसने से बिगड़ जाती है.
  • भूख में कमी
  • उल्टी और मतली, खासकर शिशुओं में.

अगर इनमें से कोई भी लक्षण दिखाई दे अगर आपके लिए सांस लेना मुश्किल हो जाए या अगर आपका बुखार बढ़ जाए तो आपको निमोनिया हो सकता है.

व्हाइट लंग्स के कारण | Causes of White Lungs

कई कारक व्हाइट लंग्स के निमोनिया का कारण बन सकते हैं:

आरएसवी, कोविड या इन्फ्लूएंजा से निमोनिया भी इस सफेदी का कारण बन सकता है. माइकोप्लाज्मा न्यूमोनिया और स्ट्रेप्टोकोकस न्यूमोनिया (न्यूमोकोकस) बैक्टीरियल निमोनिया के सामान्य कारण हैं. निमोनिया का कारण बनने वाले वायरस में आमतौर पर फ्लू, रेस्पिरेटरी सिंकाइटियल वायरस (आरएसवी), या SARS-CoV-2 शामिल होते हैं, जो कि वह वायरस है जो कोविन-19 का कारण बनता है.

व्हाइट लंग्स के इलाज | White Lungs Treatment

  • बैक्टीरियल निमोनिया के इलाज के लिए एंटीबायोटिक्स
  • वायरल निमोनिया का इलाज एंटीवायरल दवा से किया जाता है.
  • दवाएं जो फंगल निमोनिया के लिए फंगस से लड़ती हैं.
  • मांसपेशियों में दर्द और बुखार के लिए ओवर-द-काउंटर दवाएं

रोकथाम

  • निमोनिया होने की संभावना को कम करने के लिए आप कुछ सावधानियां बरत सकते हैं:
  • न्यूमोकोकल और इन्फ्लूएंजा टीकाकरण.
  • बार-बार अपने हाथ धोना.
  • बीमार व्यक्तियों से दूरी बनाकर रखें.
  • तुरंत धूम्रपान छोड़ें.

पौष्टिक डाइट बनाए रखने और रेगुलर एक्सरसाइज करने से आपका इम्यून सिस्टम भी मजबूत होगा और निमोनिया होने का खतरा कम हो जाएगा. अगर आप व्हाइट लंग्स सिंड्रोम के किसी भी लक्षण का अनुभव करते हैं तो अपने डॉक्टर से बात करें.



Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

(अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है. यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है. अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें. एनडीटीवी इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है.)

अन्य खबरें