Vitamin C Deficiency: ये 5 शुरूआती संकेत और लक्षण बताते हैं कि शरीर में होने लगी है विटामिन सी की भारी कमी

Vitamin C Deficiency Symptoms: विटामिन सी की कमी से मसूड़ों में सूजन और दर्द, जोड़ों में दर्द और गहरे रंग के मल जैसे लक्षण हो सकते हैं.

Vitamin C Deficiency: ये 5 शुरूआती संकेत और लक्षण बताते हैं कि शरीर में होने लगी है विटामिन सी की भारी कमी

विटामिन सी इम्यूनिटी को बढ़ाता है और सेवन की गई डाइट से आयरन के अवशोषण को बढ़ावा देता है

खास बातें

  • Vitamin C Deficiency: विटामिन सी एक आवश्यक पोषक तत्व है.
  • विटामिन सी सबसे प्रभावी पोषक तत्वों में से एक है
  • जो इम्यून सिस्टम की कमियों, हृदय रोगों, आंखों की बीमारी से बचाता है.

Signs Of Vitamin C Deficiency: विटामिन सी एक आवश्यक पोषक तत्व है जो शरीर के सुचारू कामकाज को सुनिश्चित करता है. सेंट्रल यूरोपियन जर्नल ऑफ मेडिसिन के एक अध्ययन ने पुष्टि की कि विटामिन सी पूरकता इम्यू सिस्टम को उत्तेजित करने, डीएनए क्षति को रोकने में फायदेमंद है जिससे कई बीमारियों का खतरा भी कम हो जाता है. विटामिन सी सबसे प्रभावी पोषक तत्वों में से एक है जो किसी व्यक्ति को इम्यून सिस्टम की कमियों, हृदय रोगों, आंखों की बीमारियों, त्वचा की झुर्रियों और प्रसव पूर्व स्वास्थ्य समस्याओं से बचाता है. कोलेजन के संश्लेषण, घावों के उपचार, और उपास्थि, हड्डियों और दांतों की मरम्मत और रखरखाव सहित कई महत्वपूर्ण जैविक कार्यों के लिए पोषण विशेषज्ञ विटामिन सी की कमी वाले लोगों को ताजे फल और सब्जियां खाने और नियमित रूप से सप्लीमेंट डाइट लेने की सलाह देते हैं.

विटामिन सी की कमी के शुरुआती लक्षण और संकेत | Early Signs And Symptoms Of Vitamin C Deficiency

विटामिन सी की कमी के शुरुआती लक्षण जैसे भूख न लगना, थकान, वजन कम होना और सुस्ती आठ से 12 सप्ताह के बाद दिखाई देने लग सकते हैं. हालांकि, एक से तीन महीने के भीतर निम्नलिखित लक्षण सामने आ सकते हैं.

ढीले और खून बहने वाले मसूड़े, गहरे रंग का मल: विटामिन सी की कमी के प्रमुख लक्षणों में से एक जो एक खराब लाइफस्टाइल के स्पष्ट संकेत हैं.

धीमी गति से घाव भरना: घाव के धीमी गति से भरने का एक कारण विटामिन सी की कमी भी हो सकता है. खराब घाव भरने से कोलेजन निर्माण में कमी आती है और विटामिन सी कोलेजन के निर्माण में मदद करता है.

थका हुआ और कर्कश: अगर आपके पास अक्सर थकान, कमजोरी और कर्कशता आती है, तो आप अपने विटामिन सी के स्तर की जांच कर सकते हैं.

कमजोर इम्यूनिटी: अगर आप बार-बार बीमार पड़ रहे हैं और ठीक होने में मुश्किल समय आ रहा है, तो यह पर्याप्त इम्यूनिटी की कमी के कारण हो सकता है. विटामिन सी का उचित सेवन इम्यून सिस्टम को बढ़ावा देने में मदद कर सकता है, इस प्रकार हमें विभिन्न संक्रमणों और पुरानी बीमारियों से बचा सकता है.

स्कर्वी: विटामिन सी की लंबे समय तक कमी से स्कर्वी हो सकता है, एक ऐसी स्थिति जिसमें ढीले दांत, फटे नाखून, जोड़ों में दर्द, भंगुर हड्डियां आदि जैसे लक्षण होते हैं. उचित खुराक कुछ महीनों के भीतर बीमारी को ठीक कर सकती है.

अगर आप ऊपर दिए गए लक्षणों का अनुभव करते हैं तो आपको क्या करना चाहिए?

सबसे पहले आपके शरीर द्वारा दिए जाने वाले संकेतों के प्रति सतर्क रहना अनिवार्य है. अपने विटामिन सी के सेवन पर फिर से विचार करें और बिना देर किए डॉक्टर से परामर्श करें.

खट्टे फल, टमाटर, आलू, स्ट्रॉबेरी, हरी और लाल शिमला मिर्च, ब्रोकली, कीवी आदि में विटामिन सी पर्याप्त मात्रा में पाया जाता है. हालांकि, कई लोगों को सलाह दी जाती है कि वे कई चिकित्सीय स्थितियों के कारण अपने डॉक्टरों द्वारा निर्धारित पूरक रूप में इसका सेवन करें, जिसके लिए उनकी इम्यूनिटी प्रणाली के समर्थन की जरूरत होती है.

जरूरत पड़ने पर डॉक्टर से सलाह लेने के बाद ही सप्लीमेंट लें.

क्या है लॉ लाइंग प्लेसेंटा,क्‍या करें अगर बच्‍चे की नाल हो नीचे


(डॉ. संचयन रॉय नेशनल हार्ट इंस्टीट्यूट, नई दिल्ली में एक वरिष्ठ सलाहकार आंतरिक चिकित्सा और क्रिटिकल केयर हैं)

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


अस्वीकरण: इस लेख में व्यक्त विचार लेखक के निजी विचार हैं. एनडीटीवी इस लेख की किसी भी जानकारी की सटीकता, पूर्णता, उपयुक्तता या वैधता के लिए ज़िम्मेदार नहीं है. सभी जानकारी यथास्थिति के आधार पर प्रदान की जाती है. लेख में दी गई जानकारी, तथ्य या राय एनडीटीवी के विचारों को नहीं दर्शाती है और एनडीटीवी इसके लिए कोई जिम्मेदारी या दायित्व नहीं लेता है.