Drinking Water: खड़े होकर पानी पीने से होते ये 3 गंभीर नुकसान, इस आदत को आज ही छोड़ दें, बाद में पछताने से फायदा नहीं

Drinking Water While Standing: यह गठिया को ट्रिगर करने वाले जोड़ों में तरल पदार्थ भी जमा करता है. यह किडनी द्वारा पानी की निस्पंदन प्रक्रिया को भी प्रभावित करता है. किडनी और मूत्राशय में अशुद्धियों से मूत्र मार्ग में संक्रमण हो सकता है.

Drinking Water: खड़े होकर पानी पीने से होते ये 3 गंभीर नुकसान, इस आदत को आज ही छोड़ दें, बाद में पछताने से फायदा नहीं

हमें बहुत लोगों ने कहा होगा कि खड़े होकर पानी नहीं पीना चाहिए.

खास बातें

  • हमें बहुत लोगों ने कहा होगा कि खड़े होकर पानी नहीं पीना चाहिए.
  • एक हेल्दी लाइफस्टाइल के लिए सही तरीके और पॉजिशन में पानी पीना जरूरी है.
  • खड़े होकर पानी क्यों नहीं पीना चाहिए? यहां है सही जवाब.

Is Drinking Water While Standing Is Harmful: हमें बहुत लोगों ने कहा होगा कि खड़े होकर पानी नहीं पीना चाहिए. एक हेल्दी लाइफस्टाइल के लिए सही तरीके और पॉजिशन में पानी पीना जरूरी है. तो क्या है पानी पीने का सही तरीका? स्वास्थ्य विशेषज्ञों और आयुर्वेद के अनुसार, खड़े होकर पानी पीने का विचार सीधे उस गति से संबंधित है जिस गति से पानी शरीर में जाता है. माना जाता है कि, जिस पॉजिशन में पानी का सेवन किया जाता है उसका मानव शरीर पर व्यापक प्रभाव पड़ सकता है. खड़े होकर पानी क्यों नहीं पीना चाहिए? आपका आसन पानी के सेवन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है. जब हम खड़े होकर पानी पीते हैं तो नसें तनाव की स्थिति में होती हैं जो तरल पदार्थ के संतुलन को बाधित करती है जिससे शरीर में विषाक्त पदार्थों और अपच में वृद्धि हो  सकती है. यह गठिया को ट्रिगर करने वाले जोड़ों में तरल पदार्थ भी जमा करता है. यह किडनी द्वारा पानी की निस्पंदन प्रक्रिया को भी प्रभावित करता है. किडनी और मूत्राशय में अशुद्धियों से मूत्र मार्ग में संक्रमण हो सकता है.

खड़े होकर पानी पीने पर आयुर्वेद क्या कहता है?

आयुर्वेद के अनुसार खड़े रहकर पानी पीने से कोई लाभ नहीं होता है. यह माना जाता है कि खड़े होने की स्थिति में पीने से शरीर को पानी से किसी भी प्रकार के लाभ को अवशोषित करने की अनुमति नहीं मिलती है, क्योंकि यह निचले पेट में एसोफैगस के माध्यम से दबाव में बहती है और आस-पास के क्षेत्रों को नुकसान पहुंचाती है. लंबे समय में यह पूरे पाचन तंत्र और आस-पास के अंगों को परेशान करता है. साथ ही, पानी का तापमान बहुत मायने रखता है और यही कारण है कि आयुर्वेद कभी भी ठंडे पीने के पानी के अभ्यास का समर्थन नहीं करता है, क्योंकि यह पेट को बुरी तरह प्रभावित कर सकता है.

खड़े होकर पानी पीने के नुकसान | Disadvantages Of Drinking Water Standing

1. किडनी पर नकारात्मक प्रभाव

जब आप खड़े होकर पानी पीते हैं तो तरल पदार्थ बिना किसी निस्पंदन के पेट के निचले हिस्से में चला जाता है, यह सब उच्च दबाव के कारण होता है. यह पानी की अशुद्धियों को मूत्राशय में जमा कर देता है जिसके परिणामस्वरूप किडनी को भारी नुकसान हो सकता है. साथ ही यह भी देखा गया है कि खड़े होकर पानी पीने से प्यास भी नहीं बुझती क्योंकि यह लीवर में जमा नहीं होकर पोषक तत्वों का वितरण करता है. यह बिना किसी लाभ के बस गुजरता है.

2. गठिया और जोड़ों को नुकसान पहुंचा सकता है

यह अजीब लग सकता है, लेकिन हां, खड़े होकर पानी पीने से गठिया और जोड़ों को नुकसान जैसी स्वास्थ्य समस्याएं हो सकती हैं. अध्ययन में कहा गया है कि जब आप खड़े होकर पानी पीते हैं तो पानी का प्रवाह तेज होता है और उच्च दबाव वाली हवा के साथ यह पूरे सिस्टम को प्रभावित कर सकता है जिससे गठिया और जोड़ों को नुकसान जैसी समस्याएं हो सकती हैं.

3. पेट की दीवारों पर पानी के छींटे

जब आप खड़े होकर पानी पीते हैं, तो पानी नीचे की ओर बहता है और पेट की दीवारों पर छींटे पड़ने से कुछ कटाव होता है. माना जाता है कि लंबे समय में बहते पानी का झटका पाचन तंत्र को नुकसान पहुंचा सकता है. यह आपके पेट की दीवार और जठरांत्र संबंधी मार्ग को भी नुकसान पहुंचा सकता है.

प्रोस्‍टेट क्या होता है, क्यों बढ़ जाता है प्रोस्टेट, एक्सपर्ट के साथ समझें प्रोस्टेट कैंसर को


Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है. यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है. अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें. एनडीटीवी इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है.