Dengue and Severe Dengue: बरसात में बढ़ जाता है डेंगू का खतरा, जानें डेंगू से कैसे करें बचाव, होने पर क्या करें और कैसी हो मरीज की डाइट

Dengue and Severe Dengue: बरसात के इस मौसम में डेंगू का खतरा बढ़ जाता है. ऐसे में आपको पता होना चाहिए कि कैसे डेंगू से बचाव करना है. डेंगू हो जाने पर क्या करना है और मरीज का खान पान कैसा हो.आज हम आपको डेंगू से जुड़ी कुछ ऐसी जरूरी बातें बता रहे हैं.

Dengue and Severe Dengue: बरसात में बढ़ जाता है डेंगू का खतरा, जानें डेंगू से कैसे करें बचाव, होने पर क्या करें और कैसी हो मरीज की डाइट

Dengue and Severe Dengue: डेंगू हो जाने पर क्या करना है और मरीज का खान पान कैसा हो.

बरसात के मौसम में बहुत सी बीमारियां पैर पसार कर लोगों को अपना शिकार बनाने लगती है. जिनमें से एक डेंगू फीवर है, जो मच्छर के काटने से फैलता है. डेंगू के बुखार से ग्रसित मरीज का शरीर अंदर से कमजोर हो जाता है, अगर सही समय पर इलाज न हो तो मौत तक हो जाती है. ऐसे में आपको अपनी और परिवार की सुरक्षा के लिए डेंगू  (Dengue) के बारे में पता होना चाहिए. आपको पता होना चाहिए कि कैसे डेंगू से बचाव करना है. डेंगू हो जाने पर क्या करना है और मरीज का खान पान कैसा हो. इसलिए आज हम आपको डेंगू से जुड़ी कुछ ऐसी जरूरी बातों को बता रहे हैं.

डेंगू से बचाव कैसे करें

  • डेंगू मच्छर के काटने से फैलता है. इसलिए खुद को मच्छरों से बचाने की कोशिश करें.
  • बारिश के दिनों में फूल कपड़े पहने और शरीर को कहीं से भी खुला न छोड़ें.
  • बरसात में सफाई का ध्यान रखें. घर के आसपास या गलियों के गढ्ढों में बरसात का पानी जमा न होने दें.
  • कूलर का पानी बदलते रहें. ऐसा करने मच्छर पनपते नहीं हैं.  
  • मच्छरदानी लगाकर सोए, जिससे मच्छर आपसे दूर रहें.  
  • छतों पर रखी पानी की टंकियों का पुराना पानी बदल दें, साथ ही सही तरीके से ढंक कर रखें.

डेंगू होने पर क्या करें

  • बुखार आते ही सबसे पहले मरीज को डॉक्टर के पास लेकर जाएं और उसका ब्लड टेस्ट करवाकर प्लेटलेट्स की जांच करवाएं.
  • मरीज को खूब पानी पिलाएं, जिससे की शरीर में पानी की कमी न हो.
  • यदि 100 डिग्री से कम बुखार है तो मरीज को पेरासिटामोल दे सकते हैं. बिना डॉक्टर की सलाह के कोई और दवा न दें.
  • डेंगू बुखार अगर 102 हो या इसके करीब हो, तो इसे कम करने लिए मरीज के माथे पर सादे पानी की पट्टियां रखें.
  • परिवार के सदस्यों के साथ मरीज के लिए भी मच्छरदानी का यूज करें. जिससे की मच्छर किसी को काट नहीं पाए.
  • मरीज के कपड़े नियमित रूप से बदलते रहें, साथ ही हाथ-पैर धोने या नहाने के लिए गुनगुने पानी का यूज करें.
  • मरीज को लोगों से दूर रखने की कोशिश करें. 

डेंगू रोगी का खानपान

  • मरीज को जो भी खाना चाहें उसे खाने के लिए दें. शरीर में पानी की कमी न हो इसलिए मरीज को दूध, लस्सी, छाछ, नारियल पानी, सादा पानी, हर्बल टी, सूप और नींबू पानी खूब पीने को दें.
  • मरीज को दिन में 4 से 5 लीटर लिक्विड पिलाएं. साथ ही मरीज को हर 1 से 2 घंटे में कुछ ना कुछ खिलाते-पिलाते रहें.
  • खाने में दलिया, प्रोटीन के लिए अंडे और डेयरी पदार्थ, सब्जियों में टमाटर, कद्दू, गाजर, खीरा, चुकंदर और फलों संतरा, पपीता, अमरूद, कीवी, आलू बुखारा, तरबूज खिलाएं.
  • इसके अलावा सुबह और शाम पपीते के पत्तों रस पिलाएं. इसे पीने प्लेटलेट्स बढ़ते हैं और बुखार कम होता हैं. डेंगू के मरीज के लिए पपीता बहुत ही फायदेमंद और असरदार होता है.

डॉक्‍टरों ने कहा था Count Your Days,अब कैंसर को हरा खुशियां गिन रहा है अमित

अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है. यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है. अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें. एनडीटीवी इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है.

हेल्थ की और खबरों के लिए जुड़े रहिए

मानव शरीर के लिए विटामिन क्यों जरूरी हैं? जानें इन 6 सबसे जरूरी विटामिन्स के फायदे


H1N1 Flu Virus (स्वाइन फ्लू) क्या है? जानें इसके लक्षण, कारण, रिस्क फैक्टर और डायग्रोस प्रोसेस

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com