Yoga For Lungs Strength: हेल्दी और स्ट्रॉन्ग लंग्स के लिए कमाल है ये एक योगासन, पीठ दर्द और पेट के लिए भी है कारगर!

Best Yoga Asanas For Lungs: हेल्दी फेफड़ों के लिए योग (Yoga For Healthy Lungs) काफी कारगर हो सकता है. खासकर ऐसे समय जब पूरी दुनिया संक्रमण (Infection) से लड़ रही हों, जो हमारे फेफड़ों पर अटैक करता है. ऐसे में और भी खास हो जाता है कि हम फेफड़ों को मजबूत करने के उपाय (Ways To Strengthen The Lungs) करें और अपने लंग्स को हमेशा हेल्दी रखें. फेफड़ों को मजबूत रखने के लिए योग (Yoga To Keep Lungs Strong) काफी कारगर हो सकता है.

Yoga For Lungs Strength: हेल्दी और स्ट्रॉन्ग लंग्स के लिए कमाल है ये एक योगासन, पीठ दर्द और पेट के लिए भी है कारगर!

Yoga For Lungs Strength: इस एक योगासन से पीठ दर्द में भी राहत पाई जा सकती है

खास बातें

  • फेफड़ों को हेल्दी रखने के लिए फायदेमंद है भुजंगासन.
  • यहां जानें भुजंगासन को करने का सही तरीका.
  • यह एक योग पीठ दर्द और पेट के लिए भी है फायदेमंद.

Best Yoga Poses For Lungs: लंग्स को हेल्दी रखने के लिए योग (Yoga) सबसे बेस्ट तरीकों में से एक हो सकता है. योग आपके संपूर्ण स्वास्थ्य के लिए लाभकारी माना जाता है. लंग्स (Lungs) का हमारी सांस से सीधा संबंध है. बिना लंग्स के हमारा सांस लेना मुमकिन नहीं है. ऐसे में हेल्दी फेफड़ों के लिए योग (Yoga For Healthy Lungs) काफी कारगर हो सकता है. खासकर ऐसे समय जब पूरी दुनिया संक्रमण (Infection) से लड़ रही हों, जो हमारे फेफड़ों पर अटैक करता है. ऐसे में और भी खास हो जाता है कि हम फेफड़ों को मजबूत करने के उपाय (Ways To Strengthen The Lungs) करें और अपने लंग्स को हमेशा हेल्दी रखें. फेफड़ों को मजबूत रखने के लिए योग (Yoga To Keep Lungs Strong) काफी कारगर हो सकता है. कई लोग गुटका, तंबाकू और अत्यधिक धूम्रपान करते हैं जिससे लंग्स खराब हो सकते हैं.

रोजाना योग कर आप फेफड़ों (Lungs) को जवां बना सकते हैं. हेल्दी डाइट और हर रोज योग उम्र भर फिट रहने का आसान तरीका हो सकता है. योग (Yoga) करने से आप मानसिक और शारीरिक दोनों तल पर खुद को मजबूत महसूस करते हैं. फेफड़ों के लिए भुजंगासन (Bhujangasana) एक लाभकारी योग हो सकता है. यह आसान योग आपके लंग्स को हेल्दी रखने में मददगार हो सकता है. भुजंगासन एक ऐसा योगासन है जिससे न सिर्फ फेफड़ों को फायदा हो सकता है बल्कि यह आपके पेट और कोर के लिए फायदेमंद हो सकता है. 

रोजाना भुजंगासन करने के स्वास्थ्य लाभ | Health Benefits Of Bhujangasana

1. फेफड़ों को हेल्दी रखने में मददगार

हर कोई चाहता है कि वह हमेशा स्वस्थ और निरोगी रहे. फेफडों का इसमें काफी अहम रोल होता है. अगर आपके फेफडें हेल्दी हैं तो आपको सांस की समस्याएं होने का खतरा कम होता है. योग कर फेफड़ों को हेल्दी रखा जा सकता है. ऐसी ही एक योग है भुजंगासन जिसे करना काफी आसान है. यह आसन पेफड़ों के लिए काफी फायदेमंद हो सकता है. इसे करने से फेफड़ों में सांस भरी जाती है. खुली हवा में यह आसन करने से फेफड़े खुलकर सांस लेने में मदद मिलती है. आसन करते वक्त सीने की मांसपेशियों में खिंचाव पैदा होता है, जिस वजह से अस्थमा पेशेंट्स की सांस प्रणाली को भी फायदा पहुंच सकता है. 

cobra poseYoga For Healthy Lungs: फेफड़ों को हेल्दी रखने के लिए करें ये आसान योगासन 

2. पेट को देता है फायदा

भुजंगासन करना काफी आसन है. भुजंगासन को अंग्रेजी में कोबरा पोज कहा जाता है. भुजंगासन न सिर्फ आपके फेफड़ों को हेल्दी रख सकता है बल्कि यह आपके पेट के लिए काफी फायदेमंद हो सकता है. इस आसन को करने से आपका पाचन भी बेहतर हो सकता है. भुजंगासन करने से पेट की मसल्स स्ट्रेच होते हैं, जिस वजह से लोअर एब्डोमेन से जुड़ी परेशानियों से राहत मिल सकती है. इस आसन को पेट की चर्बी को कम करने के लिए भी किया जा सकता है. साथ कोर को मजबूत करने में भी यह फायदेमंद हो सकता है.

3. पीठ दर्द के लिए फायदेमंद

कई लोग पीठ दर्द से परेशान होते हैं अगर आप इस सरल आसन को ट्राई करेंगे तो आपको इससे फायदा हो सकता है. भुजंगासन करने से पीठ की मांसपेशियां मजबूत हो सकती हैं. स्पाइन, ग्लूटियल मसल्स, आर्म्स, कंधे के लिए भी यह काफी प्रभावशाली माना जाता है. इस आसन का फायदा आपको रोज करने से ही मिलेगा. लंबे समय तक बैठे रहने से पीठ की मांसपेशियां अकड़ की समस्या से भी निजात दिलाने में भुजंगासन फायदेमंद हो सकता है.

भुजंगासन के अन्य फायदे

- पेट सही रहता है.
- स्पाइन के लिए फायदेमंद.
- ग्लूटियल के लिए लाभदायक.
- मसल्स रखता है मजबूत.
- आर्म्स को हेल्दी रखने में फायदेमंद
- कंधे और जांघे की मजबूती के लिए लाभकारी
- ग्लोइंग स्किन के लिए असरदार
- मूड़ को ठीक करने में फायदेमंद

bhujangasana front

भुजंगासन करने का तरीका | Method Of Performing Bhujangasana

- जमीन पर पेट के बल लेट जाएं.
- अपने हाथों को सिर के पास कंधों के लेवल पर लाकर जमीन पर टिकाएं.
- धीरे-धीरे सांस अंदर भरते हुए ऊपर की तरफ उठें.
- जितनी देर हो सके सांस रोके रहें, फिर धीरे-धीरे सांस छोड़ते हुए जमीन की तरफ आ जाएं.
- ऐसा शुरूआत में 3 से 4 बार करें.
- शुरुआत में थोड़ी मुश्किल आएगी, बाजू में दर्द भी होगा, मगर हर रोज अभ्यास करने से सब ठीक हो जाएगा.

भुजंगासन के लिए बरतें ये सावधानियां

- जिन लोगों का पेट की परेशानी हो उन्हें यह नहीं करना चाहिए. जैसे पेट का ऑपरेशन, अपेंडिक्स.
- सही वक्त और खाली पेट ही इस आसन को करें.  
- पीठ में दर्द किसी चोट या अन्य वजह से है, तब भी यह आसन न करें.
- गर्भवती महिलाओं को इस आसन को करने की सलाह नहीं दी जाती है.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है. यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है. अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें. एनडीटीवी इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है.