विज्ञापन
Story ProgressBack
This Article is From Sep 27, 2023

शारदीय नवरात्रि 2023 में मां दुर्गा की सवारी क्या है, यहां जानिए माता के वाहन का महत्व

Shardiya Navratri 2023 Sawari: शारदीय नवरात्रि आने वाली है. नौ दिन चलने वाले आदिशक्ति के इस पर्व में भक्त माता दुर्गा की पूजा अर्चना करते हैं.

Read Time: 3 mins
शारदीय नवरात्रि 2023 में मां दुर्गा की सवारी क्या है, यहां जानिए माता के वाहन का महत्व
Shardiya Navratri 2023 date : इस शारदीय नवरात्रि में माता दुर्गा का आगमन उनके वाहन सिंह पर नहीं बल्कि हाथी पर होगा.

Shardiya Navratri 2023: हिंदू पंचाग (Panchang 2023) के अनुसार आश्विन माह के शुक्ल पक्ष की प्रतिप्रदा तिथि को नवरात्रि शुरु होती है. इस दिन घट स्थापना की जाती है. मान्यता है कि नौ दिन तक चलने वाले इस पर्व में माता दुर्गा की अराधना से जीवन में सुख और समृद्धि की प्राप्ति होती है. ऐसे में आइए जानते हैं कब है नवरात्रि, घट स्थापना का मुहूर्त और इस बार मां दुर्गा (Maa durga sawari 2023) का आगमन किस सवारी से होगा.

कब से शुरु होगी नवरात्रि | When is Shardiya Navratri Starts

इस वर्ष आश्विन माह के शुक्ल पक्ष की प्रतिप्रदा तिथि 14 अक्टूबर को रात 11 बजकर 24 मिनट से शुरु होकर 16 अक्टूबर को मध्य रात्रि 12 बजकर 32 मिनट तक रहेगी. इसलिए शारदीय नवरात्रि 15 अक्टूबर को शुरू होगी.

Latest and Breaking News on NDTV

घट स्थापना का मुहूर्त | Ghat Sthapna Muhurat

नवरात्रि में घट स्थापना प्रतिप्रदा के दिन की जाती है. ऐसे में घट स्थापना का मुहूर्त 15 अक्टूबर को सुबह 11 बजकर 44 मिनट से 12 बजकर 30 मिनट तक है.

Latest and Breaking News on NDTV

हाथी पर सवार होकर आएंगी मां दुर्गा

इस शारदीय नवरात्रि माता दुर्गा का आगमन उनके वाहन सिंह पर नहीं बल्कि हाथी पर होगा. मान्यता है कि माता दुर्गा का हाथी पर सवार होकर आना बहुत शुभ होता है.  मान्यताओं के अनुसार अगर नवरात्रि का समापन रविवार या सोमवार को होता है तो माता भैंसे पर सवार होकर प्रस्थान करती हैं, जिसे शुभ नहीं माना जाता है. अगर नवरात्रि का समापन मंगलवार और शनिवार को होता है तो मां मुर्गे पर सवार होकर प्रस्थान करती हैं. यह वाहन कष्ट का संकेत है. बुधवार और शुक्रवार को नवरात्रि का समापन होने पर माता हाथी पर सवार होकर प्रस्थान करती हैं यह अधिक वर्षा का संकेत देता है. गुरुवार के दिन नवरात्रि का समापन होने पर माता मनुष्य पर सवार होकर प्रस्थान करती हैं जो कि सुख और समृद्धि का संकेत होता है.

(Disclaimer: यहां दी गई जानकारी सामान्य मान्यताओं और जानकारियों पर आधारित है. एनडीटीवी इसकी पुष्टि नहीं करता है.)

NDTV.in पर ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें, व देश के कोने-कोने से और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं

फॉलो करे:
डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • मराठी
  • 24X7
Choose Your Destination
Previous Article
आज रखा जा रहा है कृष्णपिङ्गल संकष्टी चतुर्थी का व्रत, जान लें मुहूर्त, पूजा की विधि और चंद्र दर्शन का सही समय
शारदीय नवरात्रि 2023 में मां दुर्गा की सवारी क्या है, यहां जानिए माता के वाहन का महत्व
सोमवार से रविवार तक लड्डू गोपाल को चढ़ाएं 7 अलग अलग भोग
Next Article
सोमवार से रविवार तक लड्डू गोपाल को चढ़ाएं 7 अलग अलग भोग
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com
;