आज मंगलवार को करें हनुमान लला की ये आरती, दूर हो सकती हैं जीवन की सारी बाधाएं

हनुमान जी अपने भक्तों के सारे कष्ट और बाधाएं दूर करने वाले देवता माने जाते हैं. मान्यता है कि जो भी व्यक्ति मंगलवार के दिन सच्चे मन से पवनपुत्र हनुमान जी की पूजा-अर्चना करता है, उसके जीवन में सुख व शांति का वास हो जाता है और उसके जीवन के सारे कष्ट दूर हो जाते हैं.

आज मंगलवार को करें हनुमान लला की ये आरती, दूर हो सकती हैं जीवन की सारी बाधाएं

सभी संकटों से मुक्ति देते हैं बजरंगबली, पूजा के बाद पढ़ें ये आरती

नई दिल्ली:

हिंदू धर्म में सभी देवी देवताओं की आराधना-पूजा का दिन विशेष माना गया है. हनुमान जी की पूजा के लिए मंगलवार (Mangalwar) का दिन काफी महत्व रखता है. शास्त्रों में बताया गया है कि सिर्फ हनुमान जी का सुमरन करने से भर से ही सभी संकट और दुख दूर हो जाते हैं. माना जाता है कि मंगलवार के दिन हनुमान जी का व्रत आदि करने से ही भक्तों की सभी मनोकामनाएं पूर्ण हो जाती हैं. साथ ही सूर्य भी मजबूत होता है. भगवान हनुमान जी को बल और बुद्धि का प्रतीक माना जाता है. रामायण में भी भगवान हनुमान को अहम स्थान दिया गया है. हनुमान जी अपने भक्तों के सारे कष्ट और बाधाएं दूर करने वाले देवता माने जाते हैं.

ea0qk02

मान्यता है कि जो भी व्यक्ति मंगलवार के दिन सच्चे मन से पवनपुत्र हनुमान जी की पूजा-अर्चना करता है, उसके जीवन में सुख व शांति का वास हो जाता है और उसके जीवन के सारे कष्ट दूर हो जाते हैं. हिंदू परंपरा के अनुसार, किसी भी भगवान की पूजा तब तक पूरी नहीं होती है, जब तक उनकी आरती न हो जाए. हनुमान जी की पूजा के अंत में उनकी आरती जरूर करनी चाहिए.

fm7a369o

मंगलवार को करें हनुमान जी की आरती

आरती कीजै हनुमान लला की। दुष्ट दलन रघुनाथ कला की।।

जाके बल से गिरिवर कांपे। रोग दोष जाके निकट न झांके।।

अंजनि पुत्र महाबलदायी। संतान के प्रभु सदा सहाई।

दे बीरा रघुनाथ पठाए। लंका जारी सिया सुध लाए।

लंका सो कोट समुद्र सी खाई। जात पवनसुत बार न लाई।

लंका जारी असुर संहारे। सियारामजी के काज संवारे।

opb2gfg8

लक्ष्मण मूर्छित पड़े सकारे। आणि संजीवन प्राण उबारे।

पैठी पताल तोरि जमकारे। अहिरावण की भुजा उखाड़े।

बाएं भुजा असुर दल मारे। दाहिने भुजा संतजन तारे।

सुर-नर-मुनि जन आरती उतारे। जै जै जै हनुमान उचारे।

rovl8qd

कंचन थार कपूर लौ छाई। आरती करत अंजना माई।

लंकविध्वंस कीन्ह रघुराई। तुलसीदास प्रभु कीरति गाई।

जो हनुमानजी की आरती गावै। बसी बैकुंठ परमपद पावै।

आरती कीजै हनुमान लला की। दुष्ट दलन रघुनाथ कला की।


Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


(Disclaimer: यहां दी गई जानकारी सामान्य मान्यताओं और जानकारियों पर आधारित है. एनडीटीवी इसकी पुष्टि नहीं करता है.)