2008 सीरियल ब्लास्ट के आरोपी मोहम्मद हकीम को दिल्ली HC ने दी जमानत

2008 सीरियल ब्लास्ट के आरोपी मोहम्मद हकीम फरवरी 2009 से न्यायिक हिरासत में है और अभी भी उसके खिलाफ निचली अदालत में मुकदमा चल रहा है.

2008 सीरियल ब्लास्ट के आरोपी मोहम्मद हकीम को दिल्ली HC ने दी जमानत

HC ने कहा, कोर्ट एक डॉक्टर की तरह है जो लोगों के संवैधानिक अध‍िकारों को 'मरने' से बचाता है

नई दिल्‍ली :

2008 सीरियल ब्लास्ट के आरोपी मोहम्मद हकीम (Mohammad Hakeem)को दिल्ली हाईकोर्ट (Delhi High Court)ने जमानत दे दी. दिल्ली हाईकोर्ट ने यह कहते हुए जमानत दी कि कोर्ट एक डॉक्टर की तरह है जो लोगों के संवैधानिक अध‍िकारों को मरने से बचाता है. गौरतलब है कि 2008 सीरियल ब्लास्ट के आरोपी मोहम्मद हकीम फरवरी 2009 से न्यायिक हिरासत में है और अभी भी उसके खिलाफ निचली अदालत में मुकदमा चल रहा है. इसी साल मार्च में दिल्ली के पटियाला हाउस कोर्ट ने आरोपी मोहम्मद हकीम की जमानत याचिका खारिज कर दी थी जिसके बाद आरोपी की तरफ से दिल्ली हाई कोर्ट में जमानत याचिका लगाई गई. 

याचिकाकर्ता की तरफ से कोर्ट में दलील दी गई कि 12 साल 6 महीने से ज्यादा वक्त से आरोपी न्यायिक हिरासत में है. अब तक निचली अदालत में उसके मामले में सुनवाई के दौरान 256 लोगों की गवाही हो चुकी है और अभी भी 60 गवाही होनी बाकी है. कोर्ट ने अपने फैसले में कहा है कि आरोपी मोहम्मद हकीम एक दशक से ज्यादा जेल में रह चुका है उस गुनाह के लिए जो अब तक उस पर साबित नहीं हुआ है. यह उनके फंडामेंटल राइट का उल्लंघन है. 


बता दें कि आरोपी मोहम्मद हकीम के खिलाफ पुलिस ने यूएपीए समेत कई अन्य गंभीर धाराओं में मुकदमा दर्ज किया था. आरोपी मोहम्मद हकीम पर आरोप था कि वह साईकल के बैरिंग में लगने वाले छर्रे लखनऊ से दिल्ली लेकर आए थे जिसका इस्तेमाल 2008 सीरियल ब्लास्ट में किया गया था.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


- - ये भी पढ़ें - -
* 'लखीमपुर हिंसा: विपक्ष के निशाने पर चल रहे गृह राज्‍यमंत्री अजय मिश्रा ने अमित शाह से की मुलाकात, अटकलें तेज
* 'दूसरों की जिंदगी की कीमत पर उत्सव नहीं मना सकते', पटाखों पर SC की सख्त टिप्पणी
* 'पत्‍नी के पास जाने से रोका गया' : प्रियंका की गिरफ्तारी को लेकर रॉबर्ट वाड्रा