इंडिगो एयरलाइंस में नौकरी दिलवाने का झांसा देकर करते थे ठगी, फर्जी कॉल सेंटर का भंडाफोड़

पुलिस इन सभी आरोपियों से ये जानने की कोशिश कर रही है कि उन्होंने अब तक कितने लोगों को इस तरह से ठगी का शिकार बनाया है.

इंडिगो एयरलाइंस में नौकरी दिलवाने का झांसा देकर करते थे ठगी, फर्जी कॉल सेंटर का भंडाफोड़

नई दिल्ली:

पूर्वी दिल्ली पुलिस की साइबर सेल ने एक फर्जी कॉल सेंटर का भंडाफोड़ करते हुए 12 लोगों को गिरफ्तार किया, जिनमें कॉल सेंटर के 2 मालिक और 10 कॉल सेंटर में काम करने वाले कर्मचारी हैं. सभी आरोपी इस फर्जी कॉल सेंटर के जरिए दिल्ली एयरपोर्ट पर इंडिगो एयरलाइंस में नौकरी दिलवाने के नाम पर बेरोजगारों को ठगी का शिकार बनाते थे. दरअसल, इंडिगो एयरलाइंस को इस बात की भनक लग गई थी कि पूर्वी दिल्ली इलाके में एक ऐसा फर्जी कॉल सेंटर चल रहा है जो उनकी कंपनी में नौकरी दिलवाने के नाम पर ठगी कर रहा है. 

इसके बाद इंडिगो एयरलाइंस ने पूर्वी दिल्ली पुलिस के साइबर सेल में शिकायत दर्ज कराई. साइबर सेल ने गाजीपुर गांव में एक बिल्डिंग में छापा मारकर इस कॉल सेंटर का भंडाफोड़ किया है. पुलिस ने मौके से 12 लोगों को गिरफ्तार किया, जिनमें दो मालिक हैं जिनका नाम सुरजीत और सुंदरम है. यह दोनों पार्टनरशिप में इस फर्जी कॉल सेंटर को चला रहे थे. इन दोनों के अलावा पुलिस ने 8 लड़कियों और दो लड़कों को मौके से गिरफ्तार किया जिनको सुरजीत और सुंदरम ने कॉलिंग के लिए 6 हजार रुपए से 9 हजार सैलरी पर नौकरी पर रखा हुआ था. 

Delhi: अमेरिकी नागरिकों को वित्त विभाग का अफसर बनकर ठगते थे, फर्जी कॉलसेंटर का भंडाफोड़

शुरुआती जांच में आरोपियों ने पुलिस को बताया कि वो quikr.com नाम की वेबसाइट पर एक विज्ञापन अपलोड करते थे, जिसमें इंडिगो एयरलाइंस में वैकेंसी होने की बात कही जाती थी. नौकरी पाने के इच्छुक लोगों को अपना नाम और कॉन्टैक्ट नंबर साझा करने के लिए कहा जाता था. जिसके बाद आरोपी कॉल सेंटर के जरिए लोगों को फोन करके नौकरी दिलवाने का झांसा देते थे और उनसे रजिस्ट्रेशन फीस के नाम पर 1500 से 3000 रुपए वसूले जाते थे. 


Delhi: दिल्ली में चल रहा था फर्जी कॉल सेंटर,अमेरिकी नागरिकों को ठगते थे, 26 अरेस्ट

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


रजिस्ट्रेशन फीस वसूलने के बाद आरोपी बाकायदा लोगों को फर्जी ज्वाइनिंग लेटर भी देते थे. पुलिस ने इनके पास से लौपटॉप, स्मार्टफोन बरामद किए हैं. फिलहाल पुलिस इन सभी आरोपियों से ये जानने की कोशिश कर रही है कि उन्होंने अब तक कितने लोगों को इस तरह से ठगी का शिकार बनाया है.