विज्ञापन
Story ProgressBack

Riyan Parag: "जब मैंने 10 साल की उम्र में क्रिकेट...", टीम इंडिया के लिए खेलने को लेकर रियान पराग ने सुना दी ये दास्तान

Riyan Parag on Playing For Team India: रियान पराग ने 150 के करीब स्ट्राइक-रेट से 573 रन बनाकर आईपीएल के शानदार सीजन का आनंद लिया.

Read Time: 5 mins
Riyan Parag:
Riyan Parag on Playing for Team India

Riyan Parag on Playing For Team India: राजस्थान रॉयल्स के लिए इस सीजन तूफानी बल्लेबाज़ी करने वाले रियान पराग जब आपकी आँखों में देखते हैं और आपको बताते हैं कि "मैं भारत के लिए खेलूँगा, चाहे कुछ भी हो", तो यह किसी के अपने कौशल और काबिलियत में अत्यधिक आत्मविश्वास है. बुधवार को पीटीआई के साथ अपनी विशेष बातचीत के दौरान पराग ने कहा, "किसी समय, आपको मुझे लेना ही होगा, है न? तो यह मेरा विश्वास है, मैं भारत के लिए खेलूँगा. मुझे वास्तव में परवाह नहीं है कि कब." किसी भी युवा खिलाड़ी ने इतने कम समय में राय को विभाजित नहीं किया है, जितना कि असम के 22 वर्षीय खिलाड़ी ने, जिन्होंने 150 के करीब स्ट्राइक-रेट पर 573 रन बनाकर आईपीएल के शानदार सीजन का आनंद लिया राजस्थान रॉयल्स के लिए नंबर 4 पर आए.

आईपीएल के पिछले पांच वर्षों में, 2018 अंडर-19 विश्व कप विजेता रियान ने 200 रन का सीजन भी नहीं खेला. पराग ने बुधवार को यहां रेड बुल कैंपस क्रिकेट टूर्नामेंट के इतर कहा, "जब मैं रन नहीं बना रहा था - मैंने (पहले) एक साक्षात्कार में भी कहा था कि मैं भारत के लिए खेलूंगा." इस टूर्नामेंट की उन्होंने प्रतिभावान युवाओं को मौका देने के लिए सराहना की.

"यह मेरा खुद पर विश्वास है. यह मेरा अहंकार नहीं है. जब मैंने 10 साल की उम्र में क्रिकेट खेलना शुरू किया था, तब मेरे पिता (पूर्व रेलवे और असम खिलाड़ी पराग दास) के साथ मेरी यही योजना थी. हम (एक संयुक्त परियोजना) किसी भी चीज की परवाह किए बिना भारत के लिए खेलने जा रहे थे." इस बात की प्रबल संभावना है कि रियान के साथ अभिषेक शर्मा और हर्षित राणा को जिम्बाब्वे दौरे के लिए चुना जाएगा. "चाहे वह अगला दौरा हो, चाहे वह छह महीने में होने वाला दौरा हो, चाहे वह एक साल में होने वाला दौरा हो... मैं वास्तव में यह नहीं सोचता कि मुझे कब खेलना चाहिए. यह चयनकर्ता का काम है, यह अन्य लोगों का काम है," रियान ने कहा.

सोशल मीडिया के दूसरे पहलू को समझने के बाद, उन्होंने चीजों को दिल पर लेना बंद कर दिया है. "चीजों पर प्रतिक्रिया देते समय आपको बहुत तेज़ और बहुत तीखा होना पड़ता है. सोशल मीडिया और यह सब मानसिक दबाव में बहुत बड़ी भूमिका निभाते हैं. क्योंकि एक बार जब आप उन चीजों को सुनना शुरू कर देते हैं... तो यह हमेशा मज़ेदार तरीके से शुरू होता है, है न?", उन्होंने पूछा. "एक बार जब आप प्रदर्शन करना शुरू करते हैं, तो लोग वास्तव में आपको बढ़ावा देते हैं. एक बार जब आप इसे पढ़ना शुरू करते हैं, तो आपको दूसरे लोगों की बातें सुनने या दूसरी चीजें देखने की संतुष्टि मिलती है." उनके लिए इस साल का आईपीएल इस बात का प्रमाण था कि वह शीर्ष स्तर के खिलाड़ी हैं.

"लेकिन पिछले एक-दो साल में मैंने जो पाया है, वह यह है कि मेरे पास इस बात के पुख्ता सबूत होने चाहिए कि मैं इस स्तर का खिलाड़ी हूँ. इसका मतलब है कि मुझे बहुत अभ्यास करना चाहिए, उस स्तर पर अभ्यास करना चाहिए, उन परिस्थितियों का अभ्यास करना चाहिए," पराग ने कहा.

सीजन से उनकी सबसे बड़ी सीख क्या रही.

उन्होंने कहा, "पिछले सीजन से मैंने जो सबसे बड़ी बात सीखी है, वह यह है कि खुद पर विश्वास करना वास्तव में कारगर होता है, क्योंकि बहुत से लोग बहुत सी अलग-अलग बातें कहते हैं, चाहे वह नकारात्मक हो या सकारात्मक. लेकिन दिन के अंत में, जो मायने रखता है वह यह है कि आप अपने बारे में क्या सोचते हैं और मैं यही चाहता हूँ." 2018 में अपने डेब्यू सीजन से ही RR के लिए खेल रहे रियान के पिछले पाँच सीजन में कुल स्कोर बहुत खराब रहे. 160, 86, 93, 183, 78.

"मेरे पास बहुत से खराब सीजन थे, अच्छे सीजन से ज़्यादा और मुझे लगता है कि खुद पर लगातार विश्वास होना, कि आप वास्तव में इस स्तर के हैं, कि आप वास्तव में वो कर सकते हैं जिसका आपने सपना देखा था, यह एक निरंतरता रही है और यह हमेशा बनी रहेगी." उन्होंने कहा, "इस साल आपने आईपीएल में जो देखा वह यह है कि मैं घरेलू क्रिकेट कैसे खेलता हूँ. मैं खुद पर ज़िम्मेदारी लेता हूँ, मैं उम्मीदें लेता हूँ, मैं खुद पर अच्छा प्रदर्शन करने का बोझ उठाता हूँ और यही वजह है कि मैं सबसे अच्छा खेलता हूँ." 

तो पिछले सालों से क्या बदला है?

"मैं आईपीएल में ऐसा नहीं कर रहा था. मैं बहुत ज़्यादा दबाव ले रहा था, अपनी उम्मीदें बहुत ज़्यादा रख रहा था और बुनियादी चीज़ें सही से नहीं कर रहा था." इसके अलावा, RR के लिए महत्वपूर्ण नंबर 4 स्लॉट पर खेलना भी कारगर रहा. "मैंने सोचा कि मुझे इस साल भी यही करना है; अपने पसंदीदा स्थान पर खेलना है, नंबर 4. मैंने सोचा, "मैं घरेलू क्रिकेट में ऐसा ही करता हूँ, यही मैं आईपीएल में भी करने जा रहा हूँ और देखते हैं कि यह कैसा रहता है". यह बिल्कुल सही रहा," उन्होंने कहा.

इस आईपीएल में लंबे समय तक RR ने शानदार प्रदर्शन किया, लेकिन प्लेऑफ़ में उनका अभियान समाप्त हो गया और वे तीसरे स्थान पर रहे. पराग ने स्वीकार किया कि अभी भी कुछ निराशा है." मैं अभी भी इससे जूझ रहा हूँ. मैं घर वापस आया और मैं बहुत दुखी था. खेल के बाद की रात, यह वास्तव में मेरे दिमाग में नहीं आया. लेकिन फिर मैच के अगले दिन और फ़ाइनल से पहले, यह कठिन था," उन्होंने कहा. पराग ने कहा, "यह कठिन है, लेकिन क्रिकेट ऐसे ही चलता है. विश्व स्तरीय टीमें टूर्नामेंट खेल रही हैं, विश्व स्तरीय खिलाड़ी टूर्नामेंट खेल रहे हैं."

NDTV.in पर ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें, व देश के कोने-कोने से और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं

फॉलो करे:
डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • मराठी
  • 24X7
Choose Your Destination
Previous Article
T20 WC 2024: सुपर-8 मुकाबले से पहले टूर्नामेंट बीच में ही छोड़कर स्वदेश लौटेंगे ये दो भारतीय स्टार - रिपोर्ट
Riyan Parag: "जब मैंने 10 साल की उम्र में क्रिकेट...", टीम इंडिया के लिए खेलने को लेकर रियान पराग ने सुना दी ये दास्तान
India vs Pakistan, T20 World Cup 2024: Virat Kohli Average 308 in India vs Pakistan in T20I World Cup
Next Article
IND vs PAK, T20 World Cup: कोहली के इस बवाली रिकॉर्ड से दहशत में पाकिस्तान, विराट का बल्ला एक बार फिर उगलेगा आग!
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com
;