पूर्व कप्तान मोहम्मद अजहरुद्दीन खुलकर डब्ल्यू.वी. रमन के समर्थन में आए

रमन के मार्गदर्शन में भारत की महिला टीम ने ऑस्ट्रेलिया में टी20 विश्व कप के फाइनल में जगह बनाई और उन्हें सर्वश्रेष्ठ भारतीय कोचों में से एक माना जाता है लेकिन मदनलाल और सुलक्षणा नाईक की मौजूदगी वाली क्रिकेट सलाहकार सामिति ने उन्हें हटाकर पोवार को बहाल किया, जिन्हें 2018 में एक दिनी टीम की कप्तान मिताली राज के साथ विवाद के बाद इसी पद से हटाया गया था.

पूर्व कप्तान मोहम्मद अजहरुद्दीन खुलकर डब्ल्यू.वी. रमन के समर्थन में आए

मोहम्मद अजहरुद्दीन पहले ऐसे दिग्गज हैं, जो खुलकर रमन के समर्थन में आगे आए हैं

नयी दिल्ली:

पूर्व भारतीय कप्तान मोहम्मद अजहरूद्दीन ने रविवार को भारतीय महिला टीम के पिछले कोच डब्ल्यूवी रमन का समर्थन करते हुए कहा कि राष्ट्रीय महिला टीम के कोच के पद से हटाए गए इस पूर्व खिलाड़ी से अधिक चतुर लोग क्रिकेट में बेहद कम हैं. ध्यान दिला दें कि पिछले हफ्ते ही बहुत ज्यादा हैरानी भरे कदम में रमन की जगह पूर्व ऑफ स्पिनर रमेश पोवार को भारतीय महिला क्रिकेट टीम का मुख्य कोच नियक्त किया गया था. पोवार की नियुक्ति और डब्ल्यू.वी. रमन के कार्यकाल को आगे न बढ़ाए जाने के बाद बीसीसीआई फैंस और मीडिया के निशाने पर आ गया था. बहुत लोगों ने बीसीसीआई की कार्यप्रणाली पर सवाल उठाए, तो सीईसी (क्रिकेट सलाहकार कमेटी) और महिला चयन समिति भी निशाने पर आ गयी. बहरहाल, अजहरुद्दीन पहले इसे दिग्गज क्रिकेटर हैं, जिन्होंने खुलकर रमन का समर्थन किया है. 

न्यूजीलैंड के खिलाफ WTC Final में खेलेगी यह भारतीय टीम, गौर फरमा लें

अजहरूद्दीन ने ट्वीट किया, ‘‘खेल को लेकर डब्ल्यूवी रमन की समझ और कोचिंग कौशल कई लोगों के लिए काफी उपयोगी हो सकता है. उसने अधिक चतुर लोग बेहद कम हैं और उसके पास कई साल का अनुभव है. हैदराबाद क्रिकेट संघ उन्होंने अपने साथ जोड़ने का सर्वश्रेष्ठ प्रयास करेगा और इससे काफी फायदा होगा.' रमन को विवादास्पद हालात में बाहर किए जाने से मदनलाल की अगुआई वाली क्रिकेट सलाहकर समिति (सीएसी) और नीतू डेविड की अगुआई वाला चयन पैनल बीसीसीआई अधिकारियों की नजरों में आ गयी है.

विजय शंकर के बयान को तोड़ने मरोड़ने और उपहास के बाद उनके बचाव में उतरे फैंस


रमन के मार्गदर्शन में भारत की महिला टीम ने ऑस्ट्रेलिया में टी20 विश्व कप के फाइनल में जगह बनाई और उन्हें सर्वश्रेष्ठ भारतीय कोचों में से एक माना जाता है लेकिन मदनलाल और सुलक्षणा नाईक की मौजूदगी वाली क्रिकेट सलाहकार सामिति ने उन्हें हटाकर पोवार को बहाल किया, जिन्हें 2018 में एक दिनी टीम की कप्तान मिताली राज के साथ विवाद के बाद इसी पद से हटाया गया था. स्वयं को बाहर किए जाने के बाद रमन आरोप लगाया था कि उन्हें बदनाम करने का अभियान चलाया गया और उन्होंने भारतीय क्रिकेट बोर्ड के अध्यक्ष सौरव गांगुली से हस्तक्षेप की अपील भी की.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


VIDEO: कुछ महीने पहले मिनी ऑक्शन में कृष्णप्पा गौतम 9.25 करोड़ में बिके थे. ​