विज्ञापन
Story ProgressBack
This Article is From Nov 12, 2022

'भारत जोड़ो यात्रा' से राहुल गांधी को फायदा, लेकिन स्थानीय नेताओं को करनी होगी मेहनत

Sohit Mishra
  • ब्लॉग,
  • Updated:
    November 12, 2022 16:59 IST
    • Published On November 12, 2022 16:59 IST
    • Last Updated On November 12, 2022 16:59 IST

7 नवंबर की शाम 'भारत जोड़ो यात्रा' महाराष्ट्र के नांदेड़ जिले में पहुंची और राहुल गांधी का भव्य स्वागत किया गया. महाराष्ट्र में कांग्रेस एक समय सबसे मजबूत पार्टी थी, लेकिन फिलहाल वह नंबर 4 की पार्टी बन चुकी है.

Advertisement

राहुल गांधी की इस यात्रा में बड़े पैमाने पर भीड़ इकट्ठा होती नजर आई. कांग्रेस कार्यकर्ता जो पिछले कई समय से सोए हुए थे, या फिर हताश थे, वह एक बार फिर सड़कों पर लौट आए हैं. बड़े समय बाद कांग्रेस के कार्यकर्ता और लगभग सभी नेता एक साथ एक समय पर देखे गए.

इस यात्रा को पिछले कुछ दिनों तक कवर करने के बाद यह समझ आया कि 'भारत जोड़ो यात्रा' से राहुल गांधी को फायदा तो है, लेकिन कांग्रेस को अगर फायदा चाहिए तो उन्हें और मेहनत करने की जरूरत है.

Advertisement

राहुल गांधी 2 महीने से ज्यादा समय से लगातार चल रहे हैं. कन्याकुमारी से शुरू हुआ उनका यह सफर कश्मीर जाकर रुकेगा और इस बीच वह कई जगहों से गुजरेंगे. जहां हर तबके के लोगों से वह मिल रहे हैं. पिछले कुछ वर्षों में राहुल गांधी की जो छवि सरकार और सोशल मीडिया ने टीवी मीडिया के साथ मिलकर बनाई है, उसे बहुत हद तक खत्म करने के लिए यह यात्रा फायदेमंद रहेगी. गांव-गांव में अब भी लोग इंदिरा गांधी और राजीव गांधी के बारे में बात करते हैं और राहुल गांधी को इंदिरा गांधी के पोते के तौर पर लोग उत्सुकता से देखना चाहते हैं. लगातार सड़कों पर चलते रहना आसान नहीं है, ऐसे में राहुल गांधी पर जो आरोप लगते रहे हैं कि वह छुट्टी मनाने बाहर चले जाते हैं या वह गंभीर नेता नहीं है, ये सारे आरोप इस यात्रा की वजह से खत्म हो जाएंगे या कांग्रेस को जवाब देने का एक मौका मिलेगा.

Advertisement

लेकिन अगर कांग्रेस पार्टी को इस यात्रा से फायदा चाहिए तो उनके जो स्थानीय नेता हैं, उन्हें और मेहनत करने की जरूरत है. ग्रामीण महाराष्ट्र के लोग राहुल गांधी को तो पसंद करते हैं लेकिन उनकी दिक्कत कांग्रेस के स्थानीय नेताओं से है. लोगों की शिकायत है कि ये नेता उनके यहां पर आते-जाते नहीं है. ऐसे में अगर कांग्रेस इस यात्रा से अपना फायदा चाहती है तो उनके स्थानीय नेताओं को अब एक्टिव होकर एक बार फिर लोगों के बीच जाना होगा और उनकी समस्याओं को विधानसभा, लोकसभा या फिर दूसरे मंच से बार-बार उठाते रहना होगा.

Advertisement

कांग्रेस पार्टी को फायदा यह हुआ है कि कार्यकर्ता सड़कों पर लौट आए हैं और कार्यकर्ता काम करना चाहते हैं. एक ऐसे समय में जब महंगाई बढ़ी हुई है और साथ ही पेट्रोल-डीजल के दाम भी बढ़े हुए हैं. जनता विकल्प ढूंढ रही है. इस यात्रा के जरिए कांग्रेस के पास एक बहुत अच्छा मौका है, अपने आप को एक बार फिर विकल्प के तौर पर स्थापित करने का. लेकिन इसके लिए राहुल गांधी को भी ये सारे मुद्दे लगातार उठाते रहना होगा. राष्ट्रीय स्तर की राजनीति के बारे में तो राहुल गांधी बात कर रहे हैं, लेकिन जरूरत है कि जो स्थानीय नेता है, जो राज्य के नेता है. वह उन्हें अपने राज्य की परेशानियों के बारे में भी बताएं, ताकि जो लोग उनकी सभाओं में आ रहे हैं. वह सुने और अपने आप को इस यात्रा से जुड़ा पाएं.

Advertisement

कांग्रेस के नेताओं को दो काम और करने हैं. पहला यह कि आपस में चल रहे मनमुटाव और झगड़े को खत्म कर साथ में आएं, ताकि वह अपने आप को एकसाथ और मजबूत बता पाएं. दूसरा काम यह करना होगा कि अब यह नेता अपने परिवार को राजनीति में ना बढ़ाते हुए कार्यकर्ताओं पर फोकस करें, ताकि वह भी बढ़-चढ़कर इसमें हिस्सा लें.

अगर महाराष्ट्र की बात करें तो जिस तरह से एनसीपी और शिवसेना के नेता राहुल गांधी के साथ चलते नजर आए, इससे महाराष्ट्र में एकजुट विपक्ष की तस्वीर फैली हुई है और शिवसेना एनसीपी के कार्यकर्ता भी राहुल गांधी की इस यात्रा के बारे में चर्चा कर रहे हैं. जिस तरह से राज्य में सरकार बदली, इस यात्रा से सरकार के सामने महा विकास आघाडी अपने आप को मजबूत और एकत्रित विपक्ष के तौर पर पेश करती हुई दिख रही है और आने वाले शीतकालीन सत्र में क्या इसका असर विधानसभा में भी दिखा पाएंगे, यह देखना अहम होगा.

साथ ही राहुल गांधी कितना भी ना चाहें उन्हें  मीडिया से बात करनी होगा और इंटरव्यू देना होगा, क्योंकि तब ही घर-घर तक उनकी आवाज पहुंच पाएगी और जो बार-बार आरोप लग रहे हैं कि मीडिया उन्हें कवर नहीं कर रही है, उस पर भी विराम लगेगा.

- सोहित राकेश मिश्रा एनडीटीवी के संवाददाता हैं.  

डिस्क्लेमर (अस्वीकरण) :इस आलेख में व्यक्त किए गए विचार लेखक के निजी विचार हैं. इस आलेख में दी गई किसी भी सूचना की सटीकता, संपूर्णता, व्यावहारिकता अथवा सच्चाई के प्रति NDTV उत्तरदायी नहीं है. इस आलेख में सभी सूचनाएं ज्यों की त्यों प्रस्तुत की गई हैं. इस आलेख में दी गई कोई भी सूचना अथवा तथ्य अथवा व्यक्त किए गए विचार NDTV के नहीं हैं, तथा NDTV उनके लिए किसी भी प्रकार से उत्तरदायी नहीं है.

NDTV.in पर ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें, व देश के कोने-कोने से और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं

फॉलो करे:
डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • मराठी
  • 24X7
Choose Your Destination
Previous Article
कश्मीर ने वोटिंग का रिकॉर्ड क्यों बनाया
'भारत जोड़ो यात्रा' से राहुल गांधी को फायदा, लेकिन स्थानीय नेताओं को करनी होगी मेहनत
लाखों सपनों के टूटने, सालों के संघर्ष की कहानी : क्या अब मिलेगा घर...?
Next Article
लाखों सपनों के टूटने, सालों के संघर्ष की कहानी : क्या अब मिलेगा घर...?
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com
;