UP Elections : यूपी में इस बार नीतीश से गठबंधन के 'मूड' में नहीं BJP, क्या अकेले चुनाव लड़ेगी JDU

जदयू नेता राजीव रंजन ने माना कि अब तक जनता दल यूनाइटेड के सीटों की संख्या और उनके नाम के बारे में जो सूची भाजपा आलाकमान को दी गई थी, उसके ऊपर उनका कोई जवाब नहीं आया है.

UP Elections : यूपी में इस बार नीतीश से गठबंधन के 'मूड' में नहीं BJP, क्या अकेले चुनाव लड़ेगी JDU

यूपी में इस बार नीतीश से गठबंधन के 'मूड' में नहीं BJP

पटना:

उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव को लेकर राजनीतिक पार्टियां अपने उम्मीदवारों की घोषणा करने लगी हैं. लेकिन अब भी बीजेपी यूपी चुनाव में जनता दल यूनाइटेड के साथ गठबंधन करने को लेकर अपना रूख स्पष्ट नहीं कर रही है. ऐसा जदयू के वरिष्ठ नेताओं का मानना है. उनका कहना है कि बीजेपी की ओर से इस मामले पर कोई प्रतिक्रया नहीं आई है. ऐसे में अटकले लगाई जा रही हैं कि बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार का गठबंधन में यूपी चुनाव लड़ने का प्रस्ताव भाजपा ने खारिज कर दिया है. साथ ही ये भी कयास लगाए जा रहे हैं कि जदयू अकेले यूपी में विधानसभा चुनाव लड़ेगी. इसको लेकर पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष राजीव रंजन उर्फ ललन सिंह और पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव के सी त्यागी के अलग-अलग बयान सामने आए हैं.  

राजीव रंजन ने माना कि अब तक जनता दल यूनाइटेड के सीटों की संख्या और उनके नाम के बारे में जो सूची भाजपा आलाकमान को दी गई थी, उसके ऊपर उनका कोई जवाब नहीं आया है. इससे यही संकेत मिलते हैं कि भाजपा जनता दल यूनाइटेड के साथ तालमेल करने को लेकर बहुत इच्छुक नहीं है. वहीं के सी त्यागी ने घोषणा की कि मंगलवार को लखनऊ में पार्टी के नेताओं और संभावित प्रत्याशियों की एक बैठक बुलाई गई है.  इसमें आगे चुनावी मैदान में क्या करना है, उसके बारे में बातचीत कर अगला फैसला लिया जायेगा. 

UP Assembly Elections 2022: गोरखपुर शहर से CM योगी लड़ेंगे चुनाव, BJP ने उम्मीदवारों की पहली लिस्ट जारी की

हालांकि, इस सम्बंध में जनता दल यूनाइटेड की तरफ से भाजपा के साथ बातचीत करने के लिए अधिकृत केंद्रीय मंत्री आरसीपी सिंह का अब तक कोई अधिकारिक बयान नहीं आया है. लेकिन माना जा रहा है कि अगर भाजपा की तरफ से कोई सकारात्मक रुख होता तो अब तक नीतीश के करीबी रामचंद प्रसाद सिंह मीडिया में कोई बयान जरूर जारी करते. वहीं बिहार भाजपा के नेताओं का कहना है कि ये विषय उनके अधिकार क्षेत्र का नहीं है, इसलिए कोई विधिवत रूप से बयान देना संभव नहीं है. लेकिन पार्टी का केंद्रीय नेतृत्व, जिन सहयोगियों का जमीन पर प्रभाव है, जैसे अपना दल की अनुप्रिया पटेल या निषाद पार्टी के संजय निषाद, उनसे बातचीत कर सीटों के तालमेल को अंतिम रूप दे रहा है. 

UP Elections 2022: 'BJP ने पहले ही उन्हें गोरखपुर भेज दिया', CM योगी पर अखिलेश यादव का तंज

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


उत्तर प्रदेश के पिछले विधानसभा चुनाव में नीतीश कुमार ने उस समय महगठबंधन का हिस्सा होने के बाबजूद भाजपा के केंद्रीय नेतृत्व के इशारे पर अंतिम समय में चुनाव में उम्मीदवार ना उतारने का फैसला लिया था, इसके कारण उनके यूपी यूनिट में विद्रोह भी हुआ था. लेकिन उस समय नीतीश ने लालू के साथ गठबंधन खत्म कर भाजपा के साथ घर वापसी का फैसला ले लिया था.