सुशील मोदी ने RJD को बताया कमजोर छात्र, तो तेजस्वी यादव बोले - राजद के डर से 24 साल से नीतीश कुमार के पिछलग्गू बने हुए हो...

बिहार में इसी साल होने वाले विधानसभा चुनाव को लेकर क्षेत्रीय पार्टियों में सियासत और बयानबाजी का दौर तेज हो चला है.

सुशील मोदी ने RJD को बताया कमजोर छात्र, तो तेजस्वी यादव बोले - राजद के डर से 24 साल से नीतीश कुमार के पिछलग्गू बने हुए हो...

उप मुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी (Sushil Kumar Modi) और तेजस्वी यादव - फाइल फोटो

पटना:

बिहार में इसी साल होने वाले विधानसभा चुनाव को लेकर क्षेत्रीय पार्टियों में सियासत और बयानबाजी का दौर तेज हो चला है. कोरोनावायरस के कारण पार्टियों के नेतागण कयास लगा रहे हैं कि परिस्थिति अनुकूल न होने पर चुनाव समय पर न हो पाने या टल जाने की संभावना हो सकती है. उप मुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी (Sushil Kumar Modi) ने बिहार चुनाव मुद्दे पर राजद को निशाने पर लिया, जिसपर पलटवार करते हुए RJD नेता तेजस्वी यादव (Tejashwi Yadav) ने जमकर निशाना साधा.

सुशील मोदी ने अपने आधिकारिक ट्विटर अकाउंट पर लिखा, ''विधानसभा चुनाव समय पर हों या टल जाएं, एनडीए आयोग के निर्णय का पालन करेगा. हम हर स्थिति के लिए तैयार हैं, लेकिन जैसे कमजोर विद्यार्थी परीक्षा टालने के मुद्दे खोजते हैं, वैसे ही राजद अपनी संभावित हार को देखते हुए चुनाव टालने के लिए बहाना खोज रहा है.''

बिहार के डिप्टी सीएम सुशील मोदी द्वारा राजद को कमजोर विद्यार्थी का तंज कसने पर तेजस्वी यादव ने पलटवार करते हुए उल्टा उन्हें ही कमजोर और गैर-स्वाभिमानी बताया. साथ ही तेजस्वी ने बिहार के मुख्यमंत्री और जेडीयू प्रमुख नीतीश कुमार का 24 वर्ष से पिछलग्गू बता डाला.


तेजस्वी यादव ने ट्वीट कर लिखा, ''कमजोर और गैर-स्वाभिमानी आप है श्रीमान जी, 2013 में नीतीश जी द्वारा लातमार बाहर फेंकने के बावजूद 2017 में बेहयाई के साथ बिना किसी रीजन और विजन के सरकार में शामिल हो लिए. हिम्मत और इतने ही मज़बूत हो तो अकेले लड़ के देख लीजिए. राजद के डर से 24 वर्ष से नीतीश जी के पिछलग्गू बने हुए हो.''

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


बताते चले कि डिप्टी सीएम सुशील कुमार मोदी ने शनिवार को जारी एक बयान में कहा कि बिहार विधानसभा के चुनाव में अभी तीन महीने की देर है. तब तक संक्रमण की क्या स्थिति रहेगी, यह कहना कठिन है. सारी स्थिति का आकलन कर कोई निर्णय करना चुनाव आयोग का काम है. इसलिए आयोग की तैयारियों पर अभी से राजनीतिक बयानबाजी नहीं होनी चाहिए.