अब लैब में बना खून बचाएगा मरीजों की जान, सफल हुआ ट्रायल, वैज्ञानिकों ने बनाया डुप्लीकेट खून

जानकारी के मुताबिक, वैज्ञानिकों ने ब्लड डॉनर्स की मूल कोशिकाओं के प्रयोग से लैब में इस खून को तैयार किया है. ये डुप्लीकेट खून तैयार करने के बाद पहले ट्रायल के तौर पर दो वालंटियरों को मात्र 5 से 10 एमएल खून ही चढ़ाया गया है.

अब लैब में बना खून बचाएगा मरीजों की जान, सफल हुआ ट्रायल, वैज्ञानिकों ने बनाया डुप्लीकेट खून

वैज्ञानिकों ने ब्लड डॉनर्स की मूल कोशिकाओं के प्रयोग से लैब में इस खून को तैयार किया है.

इंसानों के लिए ब्लड बहुत ही ज़रूरी होता है. ब्लड की कमी होने पर इंसानों को दूसरे इंसान का ब्लड चढ़ता है. कई बार समय पर ब्लड नहीं मिलने से इंसान की मौत हो जाती है. इस समस्या से निपटने के लिए हम ब्लड डोनेट करते हैं या फिर ब्लड की मांग करते हैं. हालांकि, इस समस्या का निदान वैज्ञानिकों ने खोज लिया है. यह एक चमत्कारी खोज है.  दरअसल, वैज्ञानिकों ने डुप्लीकेट खून बनाया है जो इंसानों की जान बचा सकता है. यह ब्लड लैब में बना है. इसका क्लिनिकल टेस्ट भी हो चुका है. 

cam की एक रिपोर्ट के अनुसार, यह डुप्लीकेट ब्लड खून संबंधित सभी बीमारियों रामबाण असर दिखाएगा. खासतौर पर उन लोगों के लिए यह काफी ज्यादा कारगार साबित होगा, जिनका ब्लड ग्रुप दुर्लभ होता है. 

वीडियो देखें

जानकारी के मुताबिक, वैज्ञानिकों ने ब्लड डॉनर्स की मूल कोशिकाओं के प्रयोग से लैब में इस खून को तैयार किया है. वैज्ञानिकों को उम्मीद है कि लैब में तैयार हुए ब्लड सेल्स सामान्य रेड सेल्स से ज्यादा अच्छा काम करेंगे. लैब में तैयार हुए ब्लड के बारे में और शोध जारी है.

यूनिवर्सिटी ऑफ ब्रिस्टल में प्रोफेसर और एनआईएचआर ब्लड एंड ट्रांसप्लांट की डायरेक्टर एशले टोय ने इस बारे में बताया कि इस प्रक्रिया में स्टेम सेल्स को ब्लड सेल्स में तब्दील किया गया है. यह एक बड़ा कदम होगा. प्रोफेसर एशले ने आगे कहा कि दुनिया में पहली बार लैब में तैयार खून इंसान को चढ़ाया गया है. प्रोफेसर ने आगे कहा कि हम देखने के लिए उत्साहित हैं कि ट्रायल के अंत तक सभी सेल्स कितना कामगार होंगे.

वीडियो देखें- God Of War RagnaRok Hindi Review: साल का सबसे बेहतरीन गेम?

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

Featured Video Of The Day

Ind vs Ban 1st ODI : पहले वनडे मैच में भारत को मिली करारी हार