लोगों के लिए अजूबा बना आम का पेड़, एक ही पेड़ पर लगते हैं 121 वैरायटी के आम

उत्तर प्रदेश के सहारनपुर में आम का एक ऐसा पेड़ है, जिस पर 121 किस्म के आम उगते हैं. जी हां, बिल्कुल सही पढ़ा है आपने. एक ही पेड़ में 121 तरह के आम देखकर लोग हैरान हो गए हैं. आलम ये है कि इस पेड़ को देखने के लिए लोगों का हुजूम उमड़ रहा है.

लोगों के लिए अजूबा बना आम का पेड़, एक ही पेड़ पर लगते हैं 121 वैरायटी के आम

लोगों के लिए अजूबा बना आम का पेड़, एक ही पेड़ पर लगते हैं 121 वैरायटी के आम

खास बातें

  • इस आम के पेड़ पर 121 वेराइटी के आम उगते हैं
  • उत्तर प्रदेश के सहारनपुर में है ये आम का पेड़
  • इस पेड़ को तैयार करने में करीब 5 साल का वक्त लगा

आज भी जब आम की बात होती है तो आम के वेराइटी की बात जरूर होती है.कई 'लंगड़ा' के गुणगान करते हैं तो कई 'दशहरी' या 'चौसा' की मिठास के कायल होते हैं. अलग अलग शहरों के आम की अपनी खासियत है, पर एक जगह उपलब्धता नहीं होने से लोग हर आम का स्वाद नहीं चख पाते हैं. लेकिन अगर आपको कोई ये कहे कि एक आम का पेड़ ऐसा है जिस पर 121 वेराइटी के आम उगते हैं, तो आपको ये मज़ाक लगेगा, पर आपको बता दें कि ये कोई मज़ाक नहीं बल्कि सौ प्रतिशत सच है.

उत्तर प्रदेश के सहारनपुर में आम का एक ऐसा पेड़ है, जिस पर 121 किस्म के आम उगते हैं. जी हां, बिल्कुल सही पढ़ा है आपने. एक ही पेड़ में 121 तरह के आम देखकर लोग हैरान हो गए हैं. आलम ये है कि इस पेड़ को देखने के लिए लोगों का हुजूम उमड़ रहा है.ऐसे में ज़ाहिर है आप भी ये जानने के लिए उत्सुक होंगे कि आखिर ये संभव कैसे हुआ.

दरअसल सहारनपुर में जिस आम के पेड़ ने इतनी सुर्खियां बटोरी हैं उसके पौधे को खास तरीके से तैयार किया गया है.इसे तैयार करने में करीब 5 साल का वक्त लगा है और अब इस एक पौधे पर अलग अलग किस्म के पौधे आने लगे हैं. आम के लिए पहचाने जाने वाले सहारनपुर के कंपनी बाग इलाके में ये खास पौधा लगाया गया है. वैसे तो ये पौधा 15 साल का हो गया है, लेकिन तकरीबन 5 साल पहले हॉर्टिकल्चरिस्ट (Horticulturist) इस पर एक्सपेरिमेंट कर रहे हैं, जिससे नई तरह की वैरायटी तैयार की जा सके.

इस नई वैरायटी पर चल रही है रिसर्च

एएनआई की ओर से दी गई जानकारी के मुताबिक, बागवानी एवं प्रशिक्षण केंद्र के जॉइंट डायरेक्टर भानु प्रकाश राम ने बताया कि कंपनी के बाग में करीब पांच साल पहले ये अनूठा एक्सपेरिमेंट किया गया था. इस प्रयोग का मकसद आम की नई वेराइटीज पर रिसर्च करना था. इससे पहले भी सहारनपुर में आम और दूसरे फलों पर कई एक्सपेरिमेंट किए जाते रहे हैं.


इस पेड़ पर पैदा होती हैं आम की ये वेरायटीज

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


इस पेड़ पर दशहरी, लंगड़ा, रामकेला, चौंसा, आम्रपाली, सहारनपुर अरुण, सहारनपुर वरुण, सहारनपुर सौरभ, सहारनपुर गौरव, सहारनपुर राजीव, लखनऊ सफेदा, समेत 121 किस्म के आम पाए जाते हैं. कई नई प्रजातियों पर भी काम चल रहा है. शोधकर्ताओं का कहना है कि ,कई नई वैरायटी इस पर काम चल रहा है ताकि और बेहतर उत्पादन किया जा सके.