काबुल ड्रोन हमले में मारा गया व्यक्ति आतंकी था या एड वर्कर? एंटनी ब्लिंकन ने कहा- नहीं पता

अमेरिकी सीनेट के विदेश मामलों की समिति के सामने पेश होते हुए अमेरिकी सेक्रेटरी ऑफ़ स्टेट एंटनी ब्लिंकन ने कहा कि काबुल में अमेरिकी ड्रोन हमले में जो मारा गया वो एड वर्कर था या ISIS-K का आतंकवादी इसकी अभी जानकारी नहीं है.

काबुल ड्रोन हमले में मारा गया व्यक्ति आतंकी था या एड वर्कर? एंटनी ब्लिंकन ने कहा- नहीं पता

काबुल ड्रोन हमले में मारे गए व्यक्ति के बारे में अमेरिकी विदेश मंत्री से पूछा गया सवाल. (फाइल फोटो)

नई दिल्ली:

अमेरिकी सीनेट के विदेश मामलों की समिति के सामने पेश होते हुए अमेरिकी सेक्रेटरी ऑफ़ स्टेट एंटनी ब्लिंकन ने कहा कि काबुल में अमेरिकी ड्रोन हमले में जो मारा गया वो एड वर्कर था या ISIS-K का आतंकवादी इसकी अभी जानकारी नहीं है. ब्लिंकन ने सीनेटर रैंड पॉल के सवालों का जवाब देते हुए ये बात कही. पॉल ने पूछा कि बाइडन प्रशासन ने जिस पर ड्रोन से बम मारा वो एड वर्कर था या ISIS-K गुट के आतंकवादी? 

ब्लिंकन ने जवाब दिया कि बाइडन प्रशासन की तरफ़ से अभी इस हमले को लेकर समीक्षा की जा रही है और पूरी रिपोर्ट जल्द सामने रखी जाएगी. पॉल ने पूछा कि कौन एड वर्कर है और कौन ISIS-K आतंकी आपको पता नहीं? ब्लिंकन ने कहा कि वो अभी इस पर नहीं बोल सकते. पॉल ने फिर सवाल दागा कि आपको पता नहीं है या आप हमें बताना नहीं चाह रहे? ब्लिंकन ने कहा कि अभी मुझे पता नहीं है, क्योंकि अभी हम इसकी समीक्षा कर रहे हैं. 


इसके बाद सिनेटर पॉल ने सेक्रेटरी ऑफ़ स्टेट ब्लिंकन को काफ़ी खरी खोटी सुनाई कि पड़ताल तो ड्रोन हमले के पहले किया जाना चाहिए था. हमला कर जान लेने के बाद पड़ताल का क्या मतलब. न्यूयॉर्क टाइम्स ने ख़बर दी थी कि अमेरिकी ड्रोन ने जिस पर हमला किया वो 43 साल का अहमदी था जो कि एक एड वर्कर था न कि आतंकवादी. हमले के वक़्त वह कार में पानी की बोतलें आदि डाल रहा था. परिवार ने दावा किया कि हमले में दस लोग मारे गए जिनमें सात बच्चे थे.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


सीनेटर पॉल ने कहा कि इस तरह बेगुनाहों को मारकर हम आतंकियों की नई जमात पैदा कर रहे हैं. सेक्रेटरी ब्लिंकन सीनेट के विदेश मामलों की संसदीय समिति के सामने पेश होकर अफ़ग़ानिस्तान से अमरीकी सेना निकालने के राष्ट्रपति बाइडन के फ़ैसले का बचाव किया. इसी दौरान उनसे ये सवाल जवाब हुआ. इससे पहले कांग्रेस की विदेश मामलों की संसदीय समिति के सामने पेश हो चुके हैं.