रूस ने यूक्रेन पर की मिसाइलों की बारिश, अब तक के सबसे बड़े हमले में 70 से अधिक मिसाइलें दागीं

शुक्रवार के हमले ने पिछले हमलों की तुलना में अधिक नुकसान पहुंचाया है. कुछ मरम्मत के बाद, यूक्रेनी ग्रिड ऑपरेटर उक्रेनर्गो ने आपातकाल लगा दिया. इसके चलते यूक्रेन को ब्लैकआउट के लिए मजबूर होना पड़ा.

रूस ने यूक्रेन पर की मिसाइलों की बारिश, अब तक के सबसे बड़े हमले में 70 से अधिक मिसाइलें दागीं

रूसी हमले के बाद खारकीव में मलबे को देखता यूक्रेनी कर्मचारी.

यूक्रेन के अधिकारियों ने कहा कि युद्ध की शुरुआत के बाद से अपने सबसे बड़े हमलों में से एक में रूस ने शुक्रवार को यूक्रेन पर 70 से अधिक मिसाइलें दागीं. रायटर्स के अनुसार, यूक्रेन के दूसरे सबसे बड़े शहर में बिजली सप्लाई को ठप कर दिया और कीव को आपातकालीन ब्लैकआउट लागू करने के लिए मजबूर कर दिया.

अधिकारियों ने बताया कि हमले में मध्य क्रीवी रिह में तीन लोगों की मौत हो गई और दक्षिण के खेरसॉन में गोलाबारी में एक अन्य की मौत हो गई. इससे पहले, कब्जे वाले पूर्वी यूक्रेन में रूसी-स्थापित अधिकारियों ने कहा कि यूक्रेनी गोलाबारी से 12 लोगों की मौत हो गई थी.

शाम के वीडियो संबोधन में, यूक्रेनी राष्ट्रपति वोलोदिमिर ज़ेलेंस्की ने कहा कि रूस के पास अभी भी कई बड़े पैमाने पर हमलों के लिए पर्याप्त मिसाइलें हैं और उन्होंने फिर से पश्चिमी सहयोगियों से कीव को अधिक और बेहतर वायु रक्षा प्रणालियों की आपूर्ति करने का आग्रह किया.

ज़ेलेंस्की ने कहा कि यूक्रेन युद्ध में वापसी करने के लिए काफी मजबूत है. मॉस्को के रॉकेट उपासक कितनी भी कोशिश कर लें, युद्ध में शक्ति का संतुलन नहीं बदलेगा." कीव ने गुरुवार को चेतावनी दी थी कि मॉस्को ने अगले साल की शुरुआत में 24 फरवरी के आक्रमण के लगभग एक साल बाद एक नए ऑल-आउट आक्रमण की योजना बनाई है, जिसमें यूक्रेन के क्षेत्रों को मिसाइलों और तोपखाने द्वारा बर्बाद कर दिया गया है, लेकिन रूसी सेना ने बहुत कम हिस्से पर कब्जा किया है.

रूस ने कई युद्धक्षेत्रों में हार के बाद अक्टूबर की शुरुआत से लगभग साप्ताहिक रूप से यूक्रेनी ऊर्जा बुनियादी ढांचे पर मिसाइलों की बारिश की है, लेकिन शुक्रवार के हमले ने पिछले हमलों की तुलना में अधिक नुकसान पहुंचाया है. कुछ मरम्मत के बाद, यूक्रेनी ग्रिड ऑपरेटर उक्रेनर्गो ने आपातकाल लगा दिया. इसके चलते यूक्रेन को ब्लैकआउट के लिए मजबूर होना पड़ा. उक्रेनर्गो ने यह भी चेतावनी दी है कि पिछले बमबारी की तुलना में उपकरणों की मरम्मत और बिजली बहाल करने के लिए अधिक समय की आवश्यकता होगी.

यूक्रेन की वायु सेना ने कहा कि रूस ने यूक्रेन के वायु क्षेत्र के पास अपने युद्धक विमान उड़ाकर उसके एयर डिफेंस सिस्टम को भटकाने की कोशिश की. इसके सेना प्रमुख ने कहा कि 76 में से 60 रूसी मिसाइलों को मार गिराया गया था, लेकिन ऊर्जा मंत्री जर्मन गालुशचेंको ने कहा कि कम से कम नौ बिजली पैदा करने वाले संयंत्रों को नुकसान पहुंचा है. मास्को का कहना है कि हमलों का उद्देश्य यूक्रेन की सेना को अक्षम करना है. हालांकि, यूक्रेन के लोग इसे युद्ध अपराध कहते हैं.

राजधानी कीव में एक रेलवे स्टेशन पर आश्रय के लिए जा रही 53 वर्षीया लिदिया वासिलिएवा ने कहा, "वे हमें नष्ट करना चाहते हैं और हमें गुलाम बनाना चाहते हैं, लेकिन हम आत्मसमर्पण नहीं करेंगे. हम बर्दास्त करेंगे." कीव के मेयर विटाली क्लिट्सको ने शुक्रवार देर रात कहा कि सिर्फ एक तिहाई निवासियों के पास पानी और 40% बिजली हैं. उन्होंने कहा कि मेट्रो को भी इसके कारण बंद करना पड़ा है.

ज़ेलेंस्की ने यूक्रेन के लोगों से धैर्य रखने का आग्रह किया और क्षेत्रीय अधिकारियों से ऊर्जा की आपातकालीन आपूर्ति की व्यवस्था करने में अधिक रचनात्मक होने का आह्वान किया. यूक्रेन का दूसरा सबसे बड़ा पूर्वोत्तर शहर खारकीव भी बुरी तरह प्रभावित हुआ है. बिजली, हीटिंग और पानी सप्लाई ठप हो गई है. इंटरफैक्स यूक्रेन समाचार एजेंसी ने शुक्रवार को बाद में क्षेत्रीय गवर्नर ओलेह सिनेहुबोव के हवाले से कहा कि शहर की 55% और आसपास के क्षेत्र में 85% बिजली वापस आ गई थी. आपातकालीन भोजन वितरण केंद्र पर खाना पका रही लिउडमिला कोविल्को ने कहा कि जीवन चलते रहना चाहिए. हमने धमाकों की आवाज़ सुनी, बिजली चली गई. लोगों को खाना चाहिए। हम लकड़ी के चूल्हे पर खाना बना रहे हैं.

यूक्रेन ने भी की गोलाबारी

रूसी सेना ने यूक्रेन के लगभग पांचवें भाग पर कब्जा कर लिया है. इसके दक्षिण और पूर्व में दोनों तरफ से कई सैनिकों के मारे जाने और घायल होने की सूचना मिली है. हालांकि, दोनों में से कोई भी अपने स्वयं के सैन्य हताहतों की विस्तृत रिपोर्ट जारी नहीं करता है. रूसी-स्थापित अधिकारियों ने कहा कि नवीनतम यूक्रेनी गोलाबारी ने दो स्थानों पर नागरिकों की जान ले ली. रूस की समाचार एजेंसी तास ने आपातकालीन सेवाओं का हवाला देते हुए कहा कि पूर्वी यूक्रेन के रूस के कब्जे वाले लुहांस्क क्षेत्र में रूस की सीमा के पास लांत्रतिवका गांव में ग्यारह लोग मारे गए, 20 अन्य घायल हो गए और अन्य 20 लापता हो गए. क्षेत्र के रूसी गवर्नर लियोनिद पसेचनिक ने हमले को "बर्बर" कहा. रायटर नवीनतम युद्धक्षेत्र में मरने वालों की संख्या को तुरंत सत्यापित करने में असमर्थ था.

जनवरी में हो सकता है और बड़ा हमला : ज़ेलेंस्की

द इकोनॉमिस्ट पत्रिका के साथ साक्षात्कार में ज़ेलेंस्की, जनरल वालेरी ज़ालुज़नी और जनरल ओलेक्ज़ेंडर सिर्स्की के हवाले से कहा गया है कि जनवरी में एक नया हमला हो सकता है. उन्होंने कहा कि हमला पूर्वी डोनबास क्षेत्र, दक्षिण या पड़ोसी बेलारूस से हो सकता है. रूसी रक्षा मंत्रालय के एक वीडियो में बेलारूस में रूस और बेलारूस के सैनिकों द्वारा टैंकों, मशीनगनों और ड्रोन का उपयोग करते हुए और एक नदी पार करते हुए अभ्यास दिखाया गया है. वाशिंगटन में, व्हाइट हाउस के प्रवक्ता जॉन किर्बी ने कहा कि बेलारूस की धरती से यूक्रेन पर हमले का कोई संकेत नहीं मिला है.

यह भी पढ़ें-

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

पीएम मोदी के खिलाफ टिप्पणी को लेकर केंद्रीय मंत्री ने पाक के विदेश मंत्री बिलावल भुट्टो को लताड़ा
"युद्ध की तैयारी कर रहा चीन, हमारी सरकार मान नहीं रही": तवांग सेक्टर में हुए झड़प पर बोले राहुल गांधी
कोर्ट ने श्याओमी के 44.8 करोड़ डॉलर पर लगे प्रतिबंध को हटाया : रिपोर्ट