विज्ञापन
Story ProgressBack

Exclusive: मौत के लिए हर दिन मांग रही दुआ... गाजा की महिला ने बताया जंग में कैसे बदतर हुई जिंदगी?

सुजैन ने कहा, "7 अक्टूबर के बाद से हमारा जीवन उलट-पुलट हो गया है. अब कुछ भी सामान्य नहीं है. मुझे डर है कि यह फिर कभी नॉर्मल नहीं होगा."गाजा के सभी 24 लाख निवासी गंभीर खाद्य असुरक्षा और कुपोषण का सामना कर रहे हैं.

Read Time: 8 mins
Exclusive: मौत के लिए हर दिन मांग रही दुआ... गाजा की महिला ने बताया जंग में कैसे बदतर हुई जिंदगी?
सुजैन बरजाक ने युद्ध के बीच हुई मानवीय त्रासदी के बारे में एनडीटीवी को बताया.
नई दिल्ली:

युद्ध और संघर्षों के दौरान भयावह कहानियां सामने आती हैं. अस्तित्व बचाने और टूटे हुए सपनों की कहानियां. गाजा के अमेरिकन इंटरनेशनल स्कूल में 37 वर्षीय गणित शिक्षिका सुजैन बरजाक ने युद्ध के बीच हुई मानवीय त्रासदी के बारे में एनडीटीवी को बताया. गाजा शहर के मध्य में जन्मी और पली-बढ़ी सुजैन का जीवन 7 अक्टूबर को फिलिस्तीनी संगठन हमास के इजरायली धरती पर किए गए हमलों के बाद हमेशा के लिए बदल गया. इस हमले में 1,000 से अधिक इजरायली लोग मारे गए थे, जिनमें ज्यादातर नागरिक थे.

दो दिन बाद, इजरायली सेना ने गाजा शहर के रिमल को तबाह कर दिया. सुजैन के लगभग पड़ोसी इस हमले में मारे गए. सौभाग्य से वह, उनका 12 वर्षीय बेटा करीम, उनके पति हाजेम और उनका परिवार हमले की आशंका से अपना घर छोड़कर चले गए थे, इसलिए बच गए. सभी रिमल के एक ही इमारत में रहते थे. छह महीने तक सुजैन और उनका परिवार मध्य गाजा के अल जवायदा शहर में एक छोटे से अपार्टमेंट में रहा. 

Latest and Breaking News on NDTV

सुजैन ने एनडीटीवी को बताया, "9 अक्टूबर के बाद से मैं और मेरा परिवार अपने घर नहीं लौट पाए हैं. हमें अपने घर के बारे में एकमात्र जानकारी पड़ोसियों, दोस्तों या रिश्तेदारों के माध्यम से मिलती थी, जो वहीं रुके रहे थे. उन्होंने हमारे घरों की जांच की और हमें स्थिति की जानकारी दी. जब कनेक्टिविटी की अनुमति दी गई तो तस्वीरें भेजीं. दुर्भाग्य से, अब वे भी नहीं रहे और अब हमें कोई जानकारी नहीं मिल रही. मेरे तीन बहनोइयों और मेरे घर पूरी तरह से जल गए और नष्ट हो गए. इसके अलावा, मेरे चार भाइयों में से दो के घरों पर बमबारी की गई, जबकि अन्य दो के घर आंशिक रूप से नष्ट हो गए."

शरणार्थी शिविरों में जीवन
गाजा पर इजरायल की नाकेबंदी ने भोजन, पानी, ईंधन और दवा जैसी आवश्यक आपूर्ति तक पहुंच को गंभीर रूप से बाधित कर दिया है. संयुक्त राष्ट्र के विशेषज्ञों के अनुसार, मानवतावादी संगठनों ने गाजा में युद्ध के रूप में भुखमरी की रणनीति के इजरायल के उपयोग की निंदा की है, जहां आबादी का एक बड़ा हिस्सा गंभीर खाद्य असुरक्षा का सामना करता है.

Latest and Breaking News on NDTV

सुजैन ने एनडीटीवी को बताया, "छह महीने पहले हमें मजबूरन विस्थापित होना पड़ा और हम वाडी गाजा में अपनी बहन के घर आ गए. हालांकि, तीन महीने के बाद, बिना किसी पूर्व चेतावनी के हमारे पड़ोस को निशाना बनाकर किए गए टैंक गोलाबारी से हम आश्चर्यचकित रह गए. हम गोलीबारी के बीच विभिन्न स्थानों पर भाग गए. 12 परिवारों ने एक घंटे के भीतर पैकिंग शुरू कर दी और अलग-अलग जगहों पर स्थानांतरित हो गए.''

सुजैन ने कहा, "हम राफा, दीर अल बलाह और अल जवायदा के पश्चिम में तंबुओं में तितर-बितर हो गए. हमने दो महीने तक ठंढे सर्दियों के मौसम के दौरान विनाशकारी परिस्थितियों को सहन किया. तंबू बहुत कम सुरक्षा प्रदान करते थे और दैनिक जीवन के लिए पर्याप्त नहीं थे. न तो पानी और न ही भोजन की इन स्थानों पर आपूर्ति उपलब्ध थी. हमारे पतियों को निकटतम बाजार तक पहुंचने के लिए हर दिन तीन किलोमीटर पैदल चलने के लिए मजबूर होना पड़ता था, जहां वे हमारे लिए जीवित रहने के लिए कुछ पा सकते थे."

सामान्य स्थिति की तलाश
द अमेरिकन इंटरनेशनल स्कूल में एक शिक्षिका के रूप में, सुजैन की शिक्षा के प्रति प्रतिबद्धता गहरी है. हालांकि, युद्ध के विनाश ने छात्रों की शैक्षणिक गतिविधियों पर एक लंबी छाया डाली है. वह बताती हैं, ''इन दिनों कोई भी स्कूल काम नहीं कर रहा है. स्कूल आंशिक रूप से नष्ट हो गए हैं और अन्य शैक्षणिक संस्थानों को भी इसी तरह का नुकसान उठाना पड़ा है."

यूनिसेफ के अनुसार, गाजा में हर दस में से आठ स्कूल या तो क्षतिग्रस्त हो गए हैं या पूरी तरह से नष्ट हो गए हैं. हालांकि, विशेषज्ञों के लिए वास्तव में चिंता की बात यह है कि युद्ध ने क्षेत्र के लगभग 1.2 मिलियन बच्चों पर गहरा मनोवैज्ञानिक प्रभाव डाला है.

Latest and Breaking News on NDTV

यूनिसेफ का अनुमान है कि गाजा में लगभग 6,20,000 बच्चे वर्तमान में स्कूल जाने में असमर्थ हैं. जैसे ही संघर्ष शुरू हुआ, स्कूलों ने अपनी नियमित कक्षाएं बंद कर दीं, कई स्कूलों को हवाई हमलों से बचने के लिए शरण लेने वाले परिवारों के लिए आश्रय स्थल के रूप में पुनर्निर्मित किया गया. गाजा की लगभग आधी आबादी 18 वर्ष से कम उम्र की है. क्षेत्र के अशांत इतिहास के कारण शिक्षा प्रणाली पहले से ही संघर्ष कर रही थी.

सुजैन ने कहा, "7 अक्टूबर के बाद से, हमारा जीवन उलट-पुलट हो गया है; अब कुछ भी सामान्य नहीं है. मुझे डर है कि यह फिर कभी नॉर्मल नहीं होगा. हर बार जब मैं अपने 12 वर्षीय बेटे को देखती हूं, तो उसे ऊबा हुआ, हताश और उदास देखकर मेरी आंखों में आंसू आ जाते हैं. वह अब स्कूल नहीं जा सकता, अपने दोस्तों से नहीं मिल सकता. जब भी वह गाजा छोड़ चुके अपने दोस्तों के बारे में पूछता है तो मैं अवाक रह जाती हूं. मैं उसे क्या जवाब दूं, जब वह पूछता है, 'क्या मैं 7वीं कक्षा में रहूंगा, जबकि मेरे दोस्त 8वीं कक्षा में चले जाएंगे?' मैं बस उसे आश्वस्त कर सकती हूं कि उसकी सुरक्षा फिलहाल सर्वोपरि है और मेरे लिए उसकी भलाई से ज्यादा कोई और चीज मायने नहीं रखती है."

Latest and Breaking News on NDTV

पेशेवर मोर्चे पर, सुजैन और उनके सहकर्मी बिखर गए हैं, कई लोग विदेश में शरण ले रहे हैं या बेरोजगारी से जूझ रहे हैं. उन्होंने बताया, "मेरे लगभग आधे सहकर्मी गाजा छोड़कर मिस्र या अन्य देशों में चले गए हैं, जहां वे अपने जीवन को दोबारा शुरू करने का प्रयास कर रहे हैं." "मैंने और मेरे परिवार ने अपनी आय का स्रोत खो दिया है. जीवित रहने के लिए विदेश में रिश्तेदारों से वित्तीय सहायता पर निर्भर हैं."

सुजैन ने कहा, "मैंने गाजा छोड़कर मिस्र जाने के बारे में सोचा है, लेकिन यात्रा का खर्च वहन नहीं कर सकती. प्रत्येक वयस्क के लिए $5,000 और 16 वर्ष से कम उम्र के बच्चों के लिए $2,500 का टिकट लेना पड़ेगा और इतनी रकम हमारे पास है नहीं. इसके लिए मैंने एक GoFundMe अभियान चलाया, लेकिन दुर्भाग्य से, मैं अभी इतनी रकम इकट्ठा करने से बहुत दूर हूं.“

एक मां का दर्द
सुजैन ने कहा, "जब भी मेरा बेटा मुझे अपने शरीर के आकार और कमजोर मांसपेशियों के बारे में बताता है और कहता है कि वह अब फुटबॉल खेलने में सक्षम नहीं है, तो दर्द और दुख मेरे दिल और दिमाग को झकझोर देता है. जिस स्पोर्ट्स क्लब में वह शामिल हुआ था, उस पर भी बमबारी की गई और उसे पूरी तरह से नष्ट कर दिया गया. एक मां को कैसा महसूस हो सकता है जब उसका बेटा अपने पसंदीदा भोजन की सूची लिखता रहता है, जो वह घर पर खाता था या रेस्तरां से ऑर्डर करता था? जब वह एक सेब या एक केला बाजार में देखता है तो मेरी आंखों में देखता है. मानो चुपके से पूछ रहा हो, 'क्या हम एक खरीद सकते हैं?'

Latest and Breaking News on NDTV

रॉयटर्स के अनुसार, फूड सिक्यूरिटी फेज क्लासिफिकेशन (आईपीसी) के ग्लोबल हंगर मॉनिटर का कहना है कि गाजा पहले ही दो प्रमुख संकेतकों भोजन की कमी और कुपोषण को पार कर चुका है. मॉनिटर चेतावनी देता है कि तत्काल हस्तक्षेप के बिना, मई तक अकाल के अनुमान के साथ बड़े पैमाने पर मौतें होंगी. विश्व बैंक ने बताया है कि गाजा के सभी 24 लाख निवासी गंभीर खाद्य असुरक्षा और कुपोषण का सामना कर रहे हैं.

एक भविष्य अनिश्चित
गाजा में सुजैन और अनगिनत अन्य लोगों के लिए, भविष्य अंधकारमय और अनिश्चित हो गया है. युद्ध के बीच, वे निराशा के बीच आशा खोजने, विनाश की राख से अपना जीवन दोबारा शुरू करने के लिए संघर्ष कर रहे हैं. सुजैन ने कहा, "कोई नहीं जानता कि वास्तव में मरने से पहले हम कितनी बार मर चुके हैं.क्या आप कल्पना कर सकते हैं कि एक व्यक्ति जो जुनून और प्रेरणा के साथ जीता था, वह इस अमानवीय जीवन को समाप्त करने के लिए मृत्यु की प्रार्थना कर रहा है?"

Latest and Breaking News on NDTV

सुजैन ने कहा, "जब हम अपने नष्ट हुए घरों के बारे में सोचते हैं तो हम किस भविष्य की उम्मीद कर सकते हैं? हमने अपनी नौकरियां खो दी हैं? हमारा शहर ध्वस्त कर दिया गया है?" सुजैन ने पूछा. "जब हमने जीने का जुनून खो दिया है तो भविष्य का क्या मतलब है?" लांसेट की हालिया रिपोर्ट के मुताबिक, 7 अक्टूबर से गाजा में हुई हिंसा के कारण 21 लाख की आबादी में गंभीर मानसिक स्वास्थ्य संकट पैदा हो गया है. यहां 67 फीसदी शरणार्थी हैं और 65 फीसदी 25 साल से कम उम्र के हैं. 

NDTV.in पर ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें, व देश के कोने-कोने से और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं

फॉलो करे:
डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • मराठी
  • 24X7
Choose Your Destination
Previous Article
अब तक 1300 मौतें: मक्का में गर्मी से सबसे ज्यादा मिस्र के हाजी ही क्यों मर रहे? जानिए
Exclusive: मौत के लिए हर दिन मांग रही दुआ... गाजा की महिला ने बताया जंग में कैसे बदतर हुई जिंदगी?
अब समय आ गया कि अमेरिका में हर पद के लिए भारतवंशी चुनाव लड़े : सांसद राजा कृष्णमूर्ति
Next Article
अब समय आ गया कि अमेरिका में हर पद के लिए भारतवंशी चुनाव लड़े : सांसद राजा कृष्णमूर्ति
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com
;